हिमाचल के छोटे से गांव बदायूं के निषाद कुमार टोक्‍यो में बढ़ाएंगे देश का मान, जानिए कौन हैं यह प्रतिभाशाली युवा

Athlete Nishad Kumar दिल में कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो बड़ी से बड़ी चुनौती भी इंसान को उसकी मंजिल तक पहुंचने से नहीं रोक सकती है। ऐसे ही एक शख्स हैं उपमंडल अम्ब की कटौहड कलां पंचायत के बदायूं गांव के दिव्यांग निषाद कुमार।

Rajesh Kumar SharmaWed, 23 Jun 2021 06:46 AM (IST)
उपमंडल अम्ब की कटौहड कलां पंचायत के बदायूं गांव के दिव्यांग निषाद कुमार।

अम्ब, अजय टबयाल। Athlete Nishad Kumar, दिल में कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो बड़ी से बड़ी चुनौती भी इंसान को उसकी मंजिल तक पहुंचने से नहीं रोक सकती है। ऐसे ही एक शख्स हैं उपमंडल अम्ब की कटौहड कलां पंचायत के बदायूं गांव के दिव्यांग निषाद कुमार। निषाद ने तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए न सिर्फ अपने हुनर का लोहा बनवा रहे हैं, बल्कि वह अपने गांव और प्रदेश का नाम देश और विदेश में चमका रहे हैं। बदायूं गांव के निषाद दुबई के बाद एक बार फिर अगस्त में जापान के टोक्यो में आयोजित होने वाली पैरा ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करते हुए हिमाचल का नाम रोशन करने वाले हैं। निषाद इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रदेश के अकेले एथलीट हैं।

वर्ष 2019 में निषाद ने दुबई में हुई वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स ग्रांड फ्री में हाई 2.05 मीटर जंप लगाकर गोल्ड मेडल जीतने के साथ ही टोक्यो का भी टिकट पक्का कर लिया था। इसके बाद निषाद ने फरवरी 2021 में अपनी प्रतिभा में सुधार करते हुए दुबई में ही 2.06 मीटर हाई जंप लगाकर नया कीर्तिमान स्थापित किया था। निषाद अब पैरा ओलंपिक में गोल्ड मेडल रिकार्ड 2.13 मीटर को तोड़ने में महज 0.07 सेंटीमीटर ही दूर हैं। इस रिकाॅर्ड को तोड़ने के लिए वह बेंगलुरु के नेशनल कैंप में अपने कोच सत्य नारायण की कोचिंग में कड़ी मेहनत और पसीना बहा रहा हैं।

जयराम ठाकुर हिमाचल गौरव पुरस्कार से कर चुके हैं सम्मानित

ऐसा नहीं है कि पैरा एथलीट निषाद कुमार की कामजाबी की गूंज अभी तक प्रदेश सरकार के कानों तक न पहुंची हो। निषाद ने जब वर्ष 2018 में पंचकुला में आयोजित 18वीं राष्ट्रीय पैरा एथलेटिक्स प्रतिस्पर्धा में रजत पदक व वर्ष 2019 में दुबई आयोजित विश्व पैरा एथलेटिक्स प्रतिस्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था तो निषाद की इन उपलब्धियों को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर रिज मैदान शिमला में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्‍हें हिमाचल गौरव पुरस्कार से सम्मानित किया था।

स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने किया था रिजेक्ट

निषाद को वर्ष 2019 में उस समय निराशा से गुजरना पड़ा था जब दुबई में होने वाली वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए उनकी रैंकिंग कम होने के कारण स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने उसे रिजेक्ट कर दिया था। निषाद के कोच ने उस पर विश्वास दिखाते हुए अपने बूते पर उसे वर्ल्ड चैंपियनशिप में एंट्री दिलवाई थी। इस चैंपियनशिप में निषाद ने स्वर्ण पदक जीतकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया और जापान के टोक्यो में होने वाली पैरा ओलंपिक के लिए अपना टिकट पक्का किया था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.