एड्स से बचाव के लिए जागरूकता है जरूरी: डा आंचल

विश्व एड्स दिवस पर जोगेंद्रनगर महाविद्यालय में आयोजित कार्यशाला में सिविल अस्पताल जोगेंद्रनगर की महिला चिकित्सक डा आंचल ने विद्यार्थियों को जागरूक करते हुए बताया कि एड्स एक गंभीर बीमारी है केवल जागरूकता से ही एड्स की बिमारी से बचाव किया जा सकता है।

Richa RanaWed, 01 Dec 2021 12:51 PM (IST)
जागरूकता से ही एड्स की बीमारी से बचाव किया जा सकता है।

जोगेंद्रनगर,राजेश शर्मा। विश्व एड्स दिवस पर जोगेंद्रनगर महाविद्यालय में आयोजित कार्यशाला में सिविल अस्पताल जोगेंद्रनगर की महिला चिकित्सक डा आंचल ने विद्यार्थियों को जागरूक करते हुए बताया कि एड्स एक गंभीर बीमारी है केवल जागरूकता से ही एड्स की बीमारी से बचाव किया जा सकता है। बताया कि देश में विकराल रूप धारण कर चुकी एड्स की बिमारी से युवा पीढ़ी ही अधिक प्रभावित हो रही है। असुरक्षित यौन सबंध से एड्स की बीमारी पनपती है। अस्पताल में एड्स से बचाव के लिए काउंसलिंग करवाई जा रही है। वहीं जागरूकता शिविर लगाकर भी एड्स की बिमारी से बचाव पर जारूकता फैलाई जा रही है।

इससे पहले उन्होंने वैश्विक महामारी कोविड 19 के बचाव के लिए वैक्सीनेशन का महत्व बताया और शारीरिक स्वच्छता पर भी विद्यार्थियों को प्रेरित किया। एड्स दिवस पर महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने नारा लेखन और सलोग्न से दुष्प्रभाव बताए। कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थियों ने एड्स की गंभीर बिमारी और उसके बचाव पर चिकित्सक से परिचर्चा भी की। समारोह के अंत में नारा लेखन और सलोग्न में उत्कृष्ठ विद्यार्थियों को पुरस्कृत भी किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डा समजीत सिंह ने की।भाषण प्रतियोगिता में लिपाक्षी, गरिमा, इंदू, नितिन, आंचल, प्रियांशी, मनीक्षा, पूजा ने हिस्सा लेकर अपने विचार रखे। इस अवसर पर महाविधालय के प्राध्यपक पवन कुमार, विशाल, आरती शर्मा, पवन कुमार, पूनम कमुंदनी, उतम भारदाज आदि मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.