Mataur-Shimla Fourlane : मटौर-शिमला फोरलेन के विस्थापितों को मुआवजा मिलना शुरू, पहले चरण में 1400 लोगों को मिले 60 करोड़

मटौर-शिमला फोरलेन के तहत विस्थापित होने वाले लोगों को दिए जाने वाले मुआवजे की राशि का आवंटन शुरू हो गया है। पहले चरण में कांगड़ा उपमंडल के लगभग 1400 लोगों को 60 करोड़ की राशि सीधे खाते में जमा हो गई है।

Virender KumarSun, 26 Sep 2021 10:00 PM (IST)
मटौर-शिमला फोरलेन के विस्थापितों को मुआवजा मिलना शुरू हो गया है। जागरण आर्काइव

कांगड़ा, संवाद सहयोगी। मटौर-शिमला फोरलेन के तहत विस्थापित होने वाले लोगों को दिए जाने वाले मुआवजे की राशि का आवंटन शुरू हो गया है। पहले चरण में कांगड़ा उपमंडल के लगभग 1400 लोगों को 60 करोड़ की राशि सीधे खाते में जमा हो गई है।

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने दो माह पहले 133 करोड़ की मुआवजा राशि कांगड़ा एसडीएम के खाते में जमा करा दी थी और उसका आवंटन होना है। पहले चरण में कांगड़ा बाईपास से भंगवार (रानीताल) के बीच फोरलेन का निर्माण कार्य होगा। इससे विस्थापित होने वाले लोगों को लगभग 220 करोड़ का मुआवजा दिया जाना है। एनएचएआइ ने मुआवजे के पहले चरण के तहत लगभग 133 करोड़ की राशि जारी की थी और उसी राशि के तहत 60 करोड़ की राशि कांगड़ा एसडीएम की ओर से विस्थावितों के खाते में जमा करा दी है।

बताया जा रहा है कि अभी तक सिर्फ उन लोगों को मुआवजा दिया जा रहा है जिनकी जमीन फोरलेन में आ रही है, जबकि उन लोगों को अभी मुआवजे के लिए इंतजार करना होगा जिनके मकान व अन्य भवन फोरलेन की जद में आ रहे हैं। मुआवजे की 85 करोड़ की राशि दूसरे चरण में आवङ्क्षटत की जाएगी। फोरलेन के तहत कांगड़ा उपमंडल का लगभग 20 किलोमीटर का क्षेत्र आ रहा है और एसडीएम कांगड़ा को उपमंडल कांगड़ा का भू अधिग्रहण संरक्षण अधिकारी का जिम्मा भी दिया गया है।

एसडीएम कांगड़ा अभिषेक वर्मा ने बताया कि नेशनल हाइवे विभाग ने 133 करोड़ रुपये में 60 करोड़ लगभग 1400 विस्थापित लोगों के खाते में जमा कर दिए हैं। कांगड़ा से रानीताल के बीच कुल 3302 लोग हैं, जिनकी मटौर शिमला फोरलेन नेशनल हाइवे में जमीन आ रही है। नेशनल हाइवे के 3जी फैक्टर-1 के तहत इन लोगों को मुआवजा दिया जा रहा है। अभी तक उन लोगों को मुआवजा दिया जा रहा है जिनकी सिर्फ जमीन आ रही है बल्कि जिन लोगों के घर व अन्य भवन इस फोरलेन में आ रहे हैं उनको मुआवजे की रकम बाद में दी जाएगी। ऐसे लगभग 1400 से अधिक लोग है जिनके मकान व अन्य भवन इस फोरलेन में आ रहे हैं। कांगड़ा उपमंडल में लगभग 4700 लोगों के कागजात भू-अधिग्रहण विभाग कांगड़ा में जमा हुए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.