हरिपुर मत्स्य सहकारी सभा की वर्ष 2021-2022 की खुली बोली में मिलीभगत के अारोप, जानिए पूरी खबर

मत्स्य सहकारी सभा की खुली बोली में मिलीभगत के अारोप लगे हैं ।

मत्स्य सहकारी सभा की खुली बोली में मिलीभगत के अारोप लगे हैं इसकी शिकायत 1100 नंबर पर की गई है। सहायक निदेशक मत्स्य पोंग डैम जय सिंह की अध्यक्षता में मत्स्य सहकारी सभा हरिपुर की वर्ष 2021-20 22 की खुली बोली अायोजित हुई।

Richa RanaThu, 25 Feb 2021 07:55 AM (IST)

बिलासपुर (कांगड़ा),जेएनन। मत्स्य सहकारी सभा की खुली बोली में मिलीभगत के अारोप लगे हैं अौर इसकी शिकायत 1100 नंबर पर की गई है। मत्स्य सहकारी सभा हरिपुर के मत्स्य अवतारण केंद्र रोड डिब्बर में सहायक निदेशक मत्स्य पोंग डैम जय सिंह की अध्यक्षता में मत्स्य सहकारी सभा हरिपुर की वर्ष 2021-20 22 की खुली बोली अायोजित हुई। जिसमें पिछले वर्ष के गर्मियों के 165 रुपये  प्रति किलो में 10 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 175 रुपये तथा सर्दियों के 230  रुपये प्रति किलो में 15 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 245 रुपये पर बोली  समाप्त हुई।

मुख्यमंत्री संकल्प योजना 1100 पर शिकायत

इस बोली को  लेकर बकायदा एक व्यक्ति ने  मुख्यमंत्री संकल्प योजना 1100 पर शिकायत भी दर्ज करवाई है। इस बोली पर  पौंग झील के तहत मत्स्य अवतारण केंद्र रोड डिब्बर में हुई बोली प्रक्रिया के दौरान मछली पकड़ने के निर्धारित हुए रेटों पर एक मछुआरे ने सवाल खड़े कर दिए हैं। उसने इस बोली प्रक्रिया को रद्द करने की मांग की है। साथ ही मौखिक तौर से डिप्टी डायरेक्टर मत्स्य विभाग को भी अवगत करवा दिया है।

मछुआरे ने अपनी शिकायत में विभाग पर कथित मिलीभगत के आरोप लगाए हैं। उसने कहा है कि पिछले सात वर्षों से लगातार एक ही ठेकेदार यहां पर मछली उठाने का ठेका ले रहा है। जिसमें वह यहां के मछुआरों सहित विभाग के साथ मिलीभगत करके ठेका ले रहा है। मछुआरे का कहना है कि यहां से मिलने वाले मछली के रेट अन्य  सोसाईटियों के रेट के मुकाबले लगभग 70- 80 रुपये कम है। मछुआरे ने कहा है कि छोटी राशि की बात मायने नहीं रखती। लेकिन यहां पर अंतर बहुत अधिक राशि का है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.