स्वेच्छा से अपना कोरोना टेस्ट करवाने को आगे आएं व्यापारी : शशिपाल

कोरोना वायरस का प्रतीकात्मक फोटो। जागरण आर्काइव

नगरोटा बगवां में वीरवार को हुई बैठक में उपमंडल अधिकारी एसडीएम शशिपाल नेगी ने कहा कि व्यापारी वर्ग एवं दुकानों पर काम करने वाले कर्मचारियों को स्वेच्छा से अपना अपना कोरोना टेस्ट करवाने के लिए आगे आना चाहिए।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 06:02 PM (IST) Author: Vijay Bhushan

संवाद सहयोगी, नगरोटा बगवां : नगरोटा बगवां उपमंडल अधिकारी कार्यालय में वीरवार को बैठक आयोजित की गई। बैठक में व्यापार मंडल चुनाव एडहॉक कमेटी के सदस्य, पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग एवं मैरिज पैलेस मालिकों ने भाग लिया। एसडीएम शशिपाल नेगी ने कहा कि व्यापारी वर्ग एवं दुकानों पर काम करने वाले कर्मचारियों को स्वेच्छा से अपना अपना कोरोना टेस्ट करवाने के लिए आगे आना चाहिए। व्यापारियों एवं दुकान पर काम करने वाले कर्मचारियों को रोजाना सैकड़ों लोगों से डील करना पड़ता है। इसलिए उन पर खतरा मंडराना स्वाभाविक है।

नगरोटा बगवां सिविल हॉस्पिटल में रोजाना 70 से 80 कोरोना टेस्ट किए जा रहे हैं । नगरोटा बगवां में मौजूदा समय में 158  एक्टिव केस है। जबकि 28 लोग करोना की जंग जीत चुके हैं। व्यापारी वर्ग को नौ मास्क नो एंट्री नो सर्विस नियम को कड़ाई से पालन करना चाहिए। जुर्माना करना किसी समस्या का हल नहीं है बल्कि लोगों को अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करना होगा। रविवार को केवल डेली नीड स्टोर सब्जी विक्रेता, दूध विक्रेता ,मेडिकल स्टोर खोलने में छूट होगी। जबकि अन्य सारे व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। शादी समारोह एवं घर में होने वाले अन्य आयोजनों की जानकारी देना अनिवार्य है। प्रशासनिक अधिकारियों के साथ-साथ स्वास्थ्य एवं पुलिस विभाग के अधिकारी समय-समय पर जाकर निरीक्षण करेंगे।

 बैठक में तहसीलदार हरि ङ्क्षसह एसएचओ श्यामलाल कोडल, व्यापार मंडल चुनाव एडोहक कमेटी की ओर से रोशन लाल खन्ना सरदार हरभजन रमेश भंडारी, मंजीत भारद्वाज नीरज कुमार, खंड विकास अधिकारी मनीष कुमार स्वास्थ्य विभाग की ओर से सुशील धीमान मैरिज पैलेस मालिक अजय धीमान तथा अन्य मुख्य रूप से मौजूद रहे।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.