बारिश, बर्फबारी के बाद धूप से राहत

बारिश, बर्फबारी के बाद धूप से राहत

दो दिन से बारिश व बर्फबारी के बाद वीरवार को धूप निकलने से चंबा जिला में लोगों ने राहत की सांस ली है।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 08:36 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, चंबा : दो दिन से बारिश व बर्फबारी के बाद वीरवार को धूप निकलने से चंबा जिला में लोगों ने राहत की सांस ली है। चंबा के ऊपरी क्षेत्रों में बर्फ से लकदक पहाड़ों ने चांदी सी छटा बिखेरी। कई लोग घरों से निकले और चंबा के चौगान में धूप का आनंद लिया।

चंबा जिला में सुबह व शाम कड़ाके की ठंड के कारण जनजीवन ठहर गया है। सबसे अधिक कड़ाके की ठंड का असर जनजातीय क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। पांगी घाटी में पाइपों व नालों में पानी जमना शुरू हो गया है। रास्तों पर भी पानी जमने से लोगों की दिक्कतें बढ़ गई हैं। पेयजल पाइपों के नीचे आग जलाकर लोग पीने के पानी का प्रबंध करने के लिए मजबूर हो गए हैं। जनजातीय क्षेत्रों भरमौर व पांगी में आजकल हालत दिक्कत भरे हो गए हैं। चंबा, जोत, सलूणी व चुराह उपमंडल के ऊंचाई वाले गांवों में भी लोग मुसीबत में हैं। जिले के इन क्षेत्रों में सर्दी का मौसम किसी बड़ी आफत से कम साबित नहीं हो रहा है। भरमौर में रात को तापमान शून्य से नीचे लुढ़क रहा है। भरमौर और पांगी में ग्रामीणों को पेयजल समस्या से जूझना पड़ रहा है। इन क्षेत्रों के कई गांवों में लोग बर्फ पिघला कर पानी पीने के लिए मजबूर हैं। भरमौर और पांगी के ऊंचाई पर बसे गांवों में इन दिनों सबसे ज्यादा हालत खराब हैं क्योंकि बर्फबारी के बाद यहां रास्ते फिसलन भरे हैं। पैदल रास्तों से गुजरना यहां किसी खतरे से कम नहीं है। वहीं जनजातीय क्षेत्रों के संपर्क मार्गो पर भी जगह-जगह पानी के जमने के बाद वाहनों को लेकर जाना खतरे से खाली नहीं है। सलूणी व तीसा के ऊंचाई पर बसे गांवों में भी लेागों को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.