लायंस क्लब जगाधरी रिवर बैंक का अधिष्ठापन समारोह, लायन गौरव चौपाल बने प्रधान

लायंस क्लब जगाधरी रिवर बैंक का अधिष्ठापन समारोह जगाधरी में हुआ। सबसे पहले एक साल में सिलाई मशीन का बांटना फागिग मशीन का बांटना सरकारी स्कूल को म्युजिक सिस्टम देना रक्तदान वैक्सीनेशन अपनी लैब का नवीनीकरण फिजियोथेरेपी लैब में विस्तारीकरण समेत अन्य किए गए कार्यों की जानकारी दी गई। इसका संचालन राकेश बंसल ने किया।

JagranTue, 28 Sep 2021 08:02 AM (IST)
लायंस क्लब जगाधरी रिवर बैंक का अधिष्ठापन समारोह, लायन गौरव चौपाल बने प्रधान

जागरण संवाददाता, यमुनानगर : लायंस क्लब जगाधरी रिवर बैंक का अधिष्ठापन समारोह जगाधरी में हुआ। सबसे पहले एक साल में सिलाई मशीन का बांटना, फागिग मशीन का बांटना, सरकारी स्कूल को म्युजिक सिस्टम देना, रक्तदान, वैक्सीनेशन, अपनी लैब का नवीनीकरण, फिजियोथेरेपी लैब में विस्तारीकरण समेत अन्य किए गए कार्यों की जानकारी दी गई। इसका संचालन राकेश बंसल ने किया। लायन शशि बंसल, सुधीर सिगला, गुरुचरण घई, अनिल सेठ, रवि मेहरा, चमन लाल गुप्ता, बीबी दुआ, वीरेंद्र मेहता, कुलदीप कुठालिया विशेष आमंत्रित अतिथि रहे। गवर्नर लायन दिनेश दीपक जोशी ने क्लब के सभी सदस्यों को उनके पद की महत्ता और उनके कार्य करने की शैली को विस्तार से समझाया। इस साल की जो टीम चुनी गई उसमें प्रधान लायन गौरव चौपाल, सेक्रेटरी लायन बलराम सेठी व कोषाध्यक्ष लायन रवि गोयल को चुना गया। गौरव चौपाल ने आने वाले साल में किए जाने वाले सेवा कार्यों की घोषणा की। लायन अंकुर जैन ने सभी अतिथियों का आभार प्रकट करते हुए क्लब द्वारा किए गए सेवा कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यदि सब लोग मिलकर दीन दुखियों की सहायता करने के लिए आगे आएंगे तो क्लब में शामिल होने का हमारा मकसद पूरा हो जाएगा। मौके पर लायन राकेश बंसल, अमित गुप्ता, मुकेश गुप्ता, मनीष तोमर, रोहित मित्तल, एनसी अग्रवाल, रवि गोयल, बलराम सेठी, गौरव चौपाल, कमल गुप्ता, सौरभ वालिया, कपिल चड्ढा, अंकित गर्ग, सचिन मित्तल, सुरेश बंसल, अनुज गर्ग, सचिन बंसल, गुरिद्र पाल सिंह मौजूद रहे। संवाद सहयोगी, रादौर: इंकलाब मंदिर गुमथला राव में शहीद ए आजम भगत सिंह क जन्मदिवस मनाया गया। इस अवसर पर मंदिर के सदस्यों ने उनकी प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया। इंकलाब मंदिर के संस्थापक अधिवक्ता वरयाम सिंह ने बताया कि क्रांतिकारी वीर भगत सिंह ने देश की आजादी के लिए जो कुर्बानी व त्याग किया वह युगों- युगों तक याद रहेगा। इंकलाब मंदिर वीर शहीदों की कुर्बानी एवं त्याग की गाथाएं आने वाली पीढिय़ों तक पहुंचने का कार्य कर रहा है और इसे निरंतर जारी रखेगा। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि आजादी दिलाने के लिए निस्वार्थ शहीद हुए वीर सपूतों को आज भी संवैधानिक रूप से शहीद का दर्जा नहीं दिया गया। क्रांतिकारी वीर शहीदों को संवैधानिक रूप से शहीद का दर्जा मिले इसके लिए ही इंकलाब मंदिर की स्थापना की गई है। जिसके लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है। मौके पर अवतार सिंह, गुरमुख सिंह, दीपक गर्ग, सर्वजीत सिंह, रत्न सिंह, बलजीत सिंह, पंकज, सोनू, मोनू, प्रवीण, विजय, बलविद्र, अमरजीत सिंह उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.