मैं कंवरपाल.. आप कार्यकर्ताओं का आभारी, आपके चरणों में दिल से प्रणाम करता हूं

जागरण संवाददाता, यमुनानगर : कैबिनेट मंत्री पद संभालने के बाद पहली बार जिले में पहुंचे कंवरपाल गुर्जर का जगाधरी रेस्ट हाउस में कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। सुबह से भी कार्यकर्ता रेस्ट हाउस में जुटने शुरू हो गए। सुबह करीब साढ़े 11 बजे कैबिनेट मंत्री उनके बीच पहुंचे। यहां उन्हें परेड की सलामी दी गई। कार्यकर्ताओं में उन्हें गुलदस्ता देने की होड़ मची थी, तो कोई उनके साथ सेल्फी लेने को उतावला था। कार्यकर्ताओं की भीड़ से निकलकर किसी तरह से वह मंच तक पहुंचे। यहां उन्होंने कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया। वे बोले कि हनुमान की तरह छाती फाड़ के नहीं दिखा सकता, लेकिन आप सबकी बदौलत ही जीता हूं। आपका सबका आभारी हूं, आपके चरणों में प्रणाम करता हूं।

कैबिनेट मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कार्यकर्ताओं से कहा कि यह चुनाव कार्यकर्ता जीते हैं। अब सरकार ने जो जिम्मेदारी दी है। उसमें भी सफल होना है। विपक्ष के नेताओं ने भी माना है कि मैंने और हमारी सरकार ने ठीक कार्य किए। अब नई जिम्मेदारी मिली है। जनता के हित के लिए कार्य करेंगे। पार्टी का कार्य भी जरूरी है। साथ ही सरकार को भी पार्टी के विचारों पर चलाना है। वर्ष 1972 से देख रहा हूं, ऐसा कभी नहीं हुआ कि लगातार दो बार कोई सरकार बनी। यह सब कार्यकर्ताओं की मेहनत और जनता के हित में किए गए कार्यो का परिणाम है। पहली बार हरियाणा में ऐसा हुआ है कि हमारा वोट प्रतिशत तीन तक बढ़ा है।

मैं कंवरपाल हूं, आप सब भी छोटे कंवरपाल

मजाकिया लहजे में उन्होंने कहा कि मैं कंवरपाल हूं, तो आप भी सब छोटे कंवरपाल तो हो ही। यह सुनकर सब ठहाके लगाने लगे। आज भी कुछ लोगों को सही रास्ता नहीं पता है। किसी की पेंशन लगनी है या फिर कोई प्रमाण पत्र बनना है, तो वह विधायक के पास आता है। उसे रास्ता बताने की जरूरत है। क्योंकि सरकार ने सभी कार्य ऑनलाइन कर दिए हैं। सरकार को ढाई करोड़ जनता के लिए कार्य करना है। इससे पहले हरियाणा के बारे में कहा जाता था कि अपने लोगों को सैट कर लेते हैं, लेकिन हमें ढाई करोड़ जनता को सेट करना है। बिना किसी सिफारिश और खर्चे के।

सबका टारगेट हो नंबर बने

मंत्री ने कहा कि सभी को टारगेट बनना चाहिए। मुझे अपने प्रदेश को देश में नंबर वन बनाना है। इसी तरह से हमारे प्रिसिपल हैं, उन्हें भी अपने स्कूल को नंबर बनाने का टारगेट बनाना होगा। सरपंचों को भी गांव को नंबर बनाने का टारगेट लेना होगा। इससे हर कोई नंबर वन बन जाएगा। मुझे शिक्षा, वन, पर्यटन सहित पांच विभागों की जिम्मेदारी की मिली है, तो मैं चाहूंगा कि शिक्षा और अन्य में प्रदेश नंबर वन बने।

केंद्रीय राज्य मंत्री कटारिया और विधायक घनश्याम निकले, श्याम सिंह राणा पहुंचे

जिस समय कैबिनेट मंत्री कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचे। उन्होंने सभी कार्यकर्ताओं को बैठने के लिए कहा। कार्यकर्ता को संभालने के लिए मंत्री जी को मेज पर खड़े होकर व्यवस्था बनानी पड़ी। साथ ही सुरक्षा कर्मियों को भी कहा कि यहां उनको कोई खतरा नहीं है। आप भी थोड़ा पीछे हो जाए। कार्यकर्ताओं से कहा कि आपने मंत्री कटारिया जी को भी नहीं सुना। वह चले गए। फिर विधायक घनश्याम के बारे में पूछा, लेकिन वह भी निकल गए थे। दरअसल, उन्हें गुरुनानक खालसा कॉलेज में वार्षिकोत्सव समारोह में जाना था। हालांकि बाद में रादौर से पूर्व विधायक श्याम सिंह राणा उनके पास मंच पर पहुंचे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.