ट्विन सिटी में जाम की 12 वजह, दो भी दूर नहीं कर पाए अधिकारी

जागरण संवाददाता, यमुनानगर : ट्विन सिटी में जाम लगने की 12 वजह हैं। रोड सेफ्टी की बैठक में हर बार इन पर चर्चा भी होती है, लेकिन अधिकारी इन खामियों को दूर नहीं कर पाए। पीडब्ल्यूडी, नगर निगम व ट्रैफिक पुलिस की जिम्मेदारी इन खामियों को दूर करने की है, लेकिन कोई भी विभाग अपनी ड्यूटी गंभीरता से नहीं कर रहा। जिस वजह से ही शहर जाम की गिरफ्त में है। शाम को जाम की समस्या और भी गंभीर हो जाती है। सबसे अधिक दिक्कत शहर के अंदर आती है। यहां पर वाहन जाम में फंसे रहते हैं। ये हैं मुख्य प्वाइंट व उनकी खामी

1. कन्हैया चौक के पास : यहां पर स्लिप वे नहीं है। सड़क के दोनों ओर लगे पेड़ों की शाखाओं की कटाई नहीं हुई। जेबरा क्रॉसिग नहीं।

2. सेक्टर 17 चौक : यहां पर चौक के कोने की चौड़ाई कम है। गाबा अस्पताल के सामने से निकल रही सड़क ठीक नहीं है। रेहड़ियां व ढाबे हैं। इसकी वजह से यहां पर जाम लगता है।

3.जगाधरी बस स्टैंड के पास: यहां भी चौक पर जेबरा क्रॉसिग व स्टॉप लाइन नहीं है। आसपास रेहड़ियां खड़ी रहती है। इसकी वजह से ही यहां पर जाम लगता है।

4. मटका चौक : स्लिप वे नहीं है। स्टॉप व जेबरा क्रॉसिग भी नहीं।

5. जिमखाना रोड : जिमखाना के सामने से रोड छोटी लाइन पर निकलती है। जिमखाना तक सड़क ठीक है, लेकिन उसके आगे सड़क की चौड़ाई कम है और पूरी सड़क टूटी हुई है। हर रोज यहां पर वाहन जाम में फंसते हैं। 6. मटका चौक से सेक्टर 17 : मटका चौक से सेक्टर 17 तक आने वाली सड़क भी टूटी हुई है। एसडी स्कूल के पास सड़क में गड्ढ़े हैं। कोर्ट के पीछे सड़क पर वाहन खड़े रहते हैं। जिस वजह से यहां पर जाम लगा रहता है। इसका असर जगाधरी से आने वाली अन्य सड़कों के ट्रैफिक पर पड़ता है। 7. सहारनपुर रोड : सहारनपुर रोड पर शुगर मिल के सामने तक स्थिति ठीक है। इसके आगे पूरी सड़क टूटी हुई है। डिवाइडर तक नहीं है। सड़क के दोनों ओर ट्रक खड़े रहते हैं। 8. कमानी चौक : स्लिप वे नहीं। जेबरा क्रॉसिग भी नहीं। बस स्टैंड की ओर जाने वाले रोड पर लगा डिवाइडर भी यहां गलत लगा है। इसकी वजह से भी यहां वाहन रूकते हैं।

9. बस स्टैंड चौक : यहां पर भी जाम की समस्या रहती है। वजह यह है कि इंडस्ट्रियल एरिया से वाहन निकलते हैं, लेकिन कोई संकेतक नहीं लगा है। न ही यहां पर कोई ट्रैफिक पुलिस की व्यवस्था है।

10. प्यारा चौक से नेहरू पार्क : प्यारा चौक से नेहरू पार्क तक आने वाली सड़क पूरी तरह से टूटी हुई है। सड़क के दोनों ओर वाहन खड़े रहते हैं,जिससे यहां जाम लगता है।

11. संतपुरा गुरुद्वारा वाली रोड : गोबिदपुरी रोड से मॉडल टाउन होते हुए संतपुरा गुरुद्वारा तक जाने वाली सड़क टूटी हुई है। टूटी हुई सड़क की वजह से यहां पर जाम लगता है।

12. ऑटो व रेहड़ियां : शहर में दौड़ रहे ऑटो व जगह-जगह लगी रेहड़ियां भी जाम का कारण बन रही है। चालक कही भी सड़क पर सवारियों को बिठाने व उतारने के लिए ऑटो रोक देते हैं। इससे जाम लगता है।

बाहर की सड़कों पर भी बढ़ता है दबाव

शहर के अंदर की टूटी हुई सड़कों की वजह से मुख्य सड़कों पर ट्रैफिक का दबाव बढ़ता है। टूटी सड़क होने की वजह से लोग ऑटो भी यहां से नहीं निकलते। यदि शहर के बीच की सड़कें ठीक हो, तो ऑटो अंदर से जा सकते हैं। रोड सेफ्टी की बैठकों में हर बार इस पर चर्चा होती है। ट्विन सिटी में जाम लगने के कारणों को दूर करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। रोड सेफ्टी की मीटिग के मिनट्स पर काम शुरू हो गया है। उम्मीद है जल्दी इन सभी कारणों को दूर कर दिया जाएगा। जन समस्याओं को दूर करना ही हमारी प्राथमिकता है।

प्रशांत पंवार, एडीसी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.