उत्तर पुस्तिकाओं में खामियां देख बोर्ड सचिव की टिप्पणी, कहा-नौवीं, 11वीं की परीक्षाओं को गंभीरता से लें

संवाद सहयोगी, डबवाली:

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने टिप्पणी करते हुए कहा कि विद्यालय स्तर पर होने वाली नौवीं तथा 11वीं की परीक्षाओं को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। बोर्ड की गोपनीय ¨वग ने लापरवाही बरतने वाले स्कूलों की सूची जारी की है। सूची में शामिल 192 स्कूलों ने कक्षा नौवीं, 266 स्कूलों को 11वीं की परीक्षा में लापरवाही बरतने का दोषी पाया गया है। सूची के आधार पर जिला सिरसा में कार्रवाई शुरू हो गई है। जिला शिक्षा अधिकारी ने सूची में शामिल करीब डेढ़ दर्जन स्कूलों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। स्पष्टीकरण मिलने के बाद अधिकारी आगामी कार्रवाई करेंगे।

बता दें, शिक्षा विभाग एवं हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा नौंवी तथा 11वीं की वार्षिक परीक्षाओं का आयोजन विद्यालय स्तर पर करवाया जाता है। परीक्षा की विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए परीक्षाओं के लिए प्रश्नपत्र व तिथि पत्र बोर्ड कार्यालय तैयार करके विद्यालयों को भेजता है। इसी आधार पर वर्ष 2018 में परीक्षाएं हुई थी। बोर्ड ने जिला शिक्षा अधिकारियों की मार्फत एक-एक हजार उत्तर पुस्तिकाएं जांच के लिए मुख्यालय पर मंगवाई थी। इसमें से 10 फीसद उत्तर पुस्तिकाओं की बोर्ड स्तर पर पुन: जांच की गई तो त्रुटियां पाई गई। तथ्य सामने आए कि दो स्कूलों ने बोर्ड द्वारा भेजे गए प्रश्न पत्र प्रयोग नहीं किए। गलत अंकन या फिर अंकों के योग में गलती पकड़ी गई है। गोपनीय ¨वग की रिपोर्ट के आधार पर हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी के सचिव ने टिप्पणी करते हुए प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को 9वीं, 11वीं की परीक्षाओं को गंभीरता से आयोजित करने के आदेश जारी किए हैं। उल्लेखनीय है कि दोनों कक्षाओं की परीक्षाएं सिर पर हैं। ऐसे में बोर्ड सचिव का पत्र काफी अहम माना जा रहा है।

त्रुटि प्रकार कक्षा नौंवी कक्षा 11वीं

(त्रुटि वाले विद्यालय) (त्रुटि वाले विद्यालय)

1. बोर्ड के प्रश्न पत्र का प्रयोग नहीं किया गया 01 01

2. उत्तीर्ण से अनुत्तीर्ण 02 02

3. गलत अंकन/ओवर एटेम्पट प्रश्न के अंक 76 195

4. अंकों के योग में गलती 113 69

नौंवी, 11वीं बोर्ड परीक्षाओं का आधार होती है। लेकिन इन कक्षाओं को छोड़कर अक्सर विद्यालय या अध्यापक बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी में जुटे रहते हैं जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए। इन कक्षाओं की परीक्षा में चूक होना गंभीर मामला है। बोर्ड की सूची के बाद जिला सिरसा से संबंधित स्कूलों को नोटिस जारी किया गया है। पुन: ऐसे मामले सामने न आए, इसके के लिए आवश्यक प्रयास किए जाएंगे।

-संत राम बिश्नोई, डीईओ, सिरसा

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.