top menutop menutop menu

चिट्टे के लिए जीजा-ब्वॉय फ्रेंड के साथ मिलकर खेला ब्लैकमेलिग का खेल, युवती समेत चार गिरफ्तार

संवाद सहयोगी, डबवाली:

ट्रैक्टर-ट्रॉली चालक को लूटने के लिए डबवाली की 19 वर्षीय युवती ने जीजा व प्रेमी के साथ ब्लैकमेलिग का खेल खेला है। पहले युवती ट्रैक्टर चालक के साथ सुनसान जगह पर गई और कुछ ही देर बाद जीजा, प्रेमी व उसका दोस्त मौके पर आ गए। चालक को ब्लैकमेल करके उससे 93 हजार 600 रुपये छीन लिए। करीब 16 दिन पुरानी इस वारदात की सच्चाई सामने आई तो पुलिस ने डबवाली की सुंदर नगर निवासी रजनी (19), उसके जीजा डबवाली के वार्ड नंबर 6 निवासी भूपिद्र सिंह उर्फ मिदा, प्रेमी वार्ड नंबर 7 निवासी संदीप तथा उसके दोस्त भगत सिंह कॉलोनी निवासी संदीप को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार चारों चिट्टे का नशा करते हैं। नशे की पूर्ति के लिए चारों ने साजिश रचते हुए चौटाला हाईवे पर वाहन चालक को लूटने की योजना बनाई थी।

17-18 जून को देर रात करीब 12.30 बजे रजनी चौटाला हाईवे पर जैन मंदिर के नजदीक खड़ी हो गई। इसी दौरान हनुमानगढ़ (राजस्थान) के गांव 3केकेडब्लयू चक्क निवासी आरिफ डबवाली की ओर आ रहा था। वह ट्रैक्टर-ट्रॉली चला रहा था। टॉर्च से रजनी ने उसे लाइट दिखाई तो वह रुक गया। रजनी ने उसे संबंध बनाने का इशारा देते हुए राशि भी तय कर ली। चालक को कुछ दूर खेतों में ले गई और साजिश के तहत तीनों मौके पर आ गए। आरिफ को ब्लैकमेल करके नकदी छीन ले गए। हालांकि आरिफ तूड़ी भरने के लिए पंजाब जा रहा था लेकिन वारदात के बाद वापस लौट गया था। बाद में आरिफ ने लूट की कहानी गढ़ते हुए पुलिस को सूचित किया था।

रपट दर्ज की, केस दर्ज नहीं किया था

इधर पुलिस ने आरिफ की शिकायत पर रपट दर्ज कर ली थी। केस इसलिए दर्ज नहीं किया था कि उसकी बातें अटपटी सी लगी। उसने बताया था कि एक बाइक ने ट्रैक्टर में टक्कर मारकर एक्सीडेंट का बहाना किया। बाद में उसकी जेब से पैसे निकाल लिए। पुलिस को शिकायतकर्ता की भूमिका पर संदेह था, ऐसे में पुलिस ने बारीकी से जांच की। आरिफ ने सच्चाई उगली तो पुलिस ने आरोपितों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

मामले की जांच एएसआइ रामनिवास कर रहे हैं। गिरफ्तारी के बाद आरोपितों से 36 हजार रुपये की रिकवरी हुई है। अदालत ने रजनी को हिसार जेल भेज दिया है जबकि अन्य तीनों आरोपितों का एक दिन के लिए पुलिस रिमांड जारी किया है। रिमांड अवधि के दौरान आरोपितों से अन्य रिकवरी करने का प्रयास किया जाएगा।

-सत्यवान, प्रभारी, शहर थाना डबवाली

लूटी गई गाड़ी में रह गया था मोबाइल, पुलिस को वही ले गया लुटेरों तक

संवाद सहयोगी, डबवाली:

गांव अबूबशहर के कंबोज होटल पर हुई लूट की गुत्थी सुलझ गई है। पुलिस ने इस मामले में संलिप्त तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित पड़ोसी जिला श्री मुक्तसर साहिब के रहने वाले हैं। लूटी गई पिकअप गाड़ी तथा वारदात में प्रयुक्त एक अवैध असला बरामद किया गया है। गुत्थी सुलझाने में पिकअप चालक का मोबाइल मददगार बना। दरअसल, 2-3 जुलाई की मध्यरात्रि करीब 12.30 बजे वारदात हुई थी। बदमाश गाड़ी लूटकर ले गए थे, उसमें चालक हंसराज निवासी कोटफत्ता (जिला बठिडा) का मोबाइल बीच में पड़ा था। वारदात का पता चलते ही पुलिस ने संबंधित मोबाइल की लोकेशन निकाली तो उसके साथ कुछ मोबाइल नंबर संदेहजनक मिले। ऐसे नंबरों की जांच करते-करते पुलिस गांव हाकूवाला पहुंची तो वारदात में शामिल बदमाश पुलिस को देखकर भाग खड़ा हुआ। संदेह के आधार पर पुलिस ने उसका पीछा करते हुए पकड़ा तो उसने राज उगल दिया।

शनिवार को शहर थाना में पत्रकार वार्ता में डीएसपी कुलदीप बैनीवाल ने बताया कि वारदात में गांव हाकूवाला निवासी रघुवीर सिंह उर्फ घिरी, गांव भुल्लरवाला निवासी कुलविद्र उर्फ ज्ञानी तथा मिड्डूखेड़ा निवासी सुखमण सिंह शामिल थे। कालांवाली सीआइए प्रभारी एसआइ प्रेम कुमार के नेतृत्व में कार्य करते हुए पुलिस ने तीनों आरोपितों को धर दबोचा है। उनके कब्जे से लूटी गई आम से भरी पिकअप गाड़ी तथा एक अवैध असला बरामद किया गया है। आरोपित नशा करते हैं, नशे की पूर्ति के लिए वारदात को अंजाम देते हैं। आरोपितों ने अन्य वारदातों में शामिल होने की बात कबूल की है। रविवार को तीनों को अदालत में पेश किया जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.