बूस्टिग स्टेशन के धस्त होने की जांच करने नहीं आया कोई, सड़क निर्माण की धांधली की आज होगी शिकायत

नगर निगम पिछले कई दिनों से लगातार चर्चा में है। कई मामले लगातार ासमने आने के बाद पार्षद अधिकारियों पर आक्रामक हैं।

JagranMon, 02 Aug 2021 08:25 AM (IST)
बूस्टिग स्टेशन के धस्त होने की जांच करने नहीं आया कोई, सड़क निर्माण की धांधली की आज होगी शिकायत

घपलों की जांच :

- निगम के आयुक्त का हुआ तबादला, पार्षदों ने कहा-मेयर से करेंगे जांच की मांग

- तीन माह में ही बूस्टिग स्टेशन की इमारत ढही, सड़क की ऊपरी परतें उखड़ीं, नाराजगी

- पार्षदों की सहमति से ही विकास कार्यों के पेमेंट का हाउस की बैठक में हुआ था फैसला

- नियम लागू नहीं हुआ, पार्षदों का आरोप दफ्तरों में बैठकर बनाए बिल, इसलिए घपले हुए

जागरण संवाददाता, रोहतक: नगर निगम पिछले कई दिनों से लगातार सुर्खियों में है। कई मामले लगातार सामने आने के बाद पार्षद अधिकारियों पर आक्रामक हो गए हैं। जांच की मांग की है। यह भी मांग की है कि जांच में संबंधित वार्ड के पार्षदों को भी शामिल किया जाए। यदि गड़बड़ियों की जांच अधिकारी करेंगे तो फिर जांच के परिणाम भी प्रभावित हो सकते हैं। वार्ड-20 में बूस्टिग स्टेशन के निर्माण में धांधली के आरोप लगे हैं। वार्ड की पार्षद ने दावा किया है कि मौके पर कोई अधिकारी जांच करने नहीं पहुंचा। दूसरी ओर, माता दरवाजा चौक के निकट सड़क की ऊपरी परत उखड़ने के मामले में पार्षद सोमवार को लिखित में शिकायत देंगे।

निगम के आयुक्त प्रदीप गोदारा ने कन्हेंली रोड स्थित कम्युनिटी सेंटर परिसर में बूस्टिग स्टेशन ढहने के मामले में जांच के आदेश दे चुके हैं। निगम के आयुक्त गोदारा ने जांच के लिए एक्सईएन हेडक्वार्टर मंजीत दहिया को जिम्मा सौंपा है। सोमवार तक इस प्रकरण में जांच रिपोर्ट तलब की थी। हालांकि निगम के आयुक्त प्रदीप गोदारा का तबादला होने से पार्षदों को डर है कि कहीं जांच प्रभावित न हो जाए। इसलिए पूरे मामले में निष्पक्षता से जांच कराने के लिए मेयर मनमोहन गोयल से पार्षदों के साथ डिप्टी मेयर अनिल भी मिलेंगे। वहीं, कुछ अन्य मामलों में भी पार्षद शिकायत करेंगे।

निगम के आयुक्त गोदारा का तबादला, नरहरि को जिम्मा

साल 2019 से रोहतक में तैनात नगर निगम के आयुक्त प्रदीप गोदारा का तबादला हो गया है। गोदारा को चरखी-दादरी का उपायुक्त बनाया गया है। अब आयुक्त पद नरहरि सिंह बांगर कार्यभार संभालेंगे। इनके पास अभी तक हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण यानी एचएसवीपी के प्रशासक का जिम्मा है। 2009 बैच के आइएएस अधिकारी नरहरि के अधीन नगर पालिका महम, सांपला व कलानौर भी होंगे। वहीं, पार्षदों का कहना है कि निगम के आयुक्त ने कुछ मामलों में जांच के आदेश दिए हैं। इसलिए जांच प्रभावित न हो सके, इसके लिए निगम के मेयर मनमोहन गोयल को सभी मामलों की रिपोर्ट देंगे। यदि जांच प्रभावित हुई तो उच्चाधिकारियों से मिलेंगे।

ये गड़बड़ियों के मामले आ चुके हैं सामने

केस एक : तीन माह में ही कन्हेंली रोड पर बूस्टिग स्टेशन ढहा

वार्ड-20 स्थित कन्हेंली रोड पर डी-प्लान से बीते साल बूस्टिग स्टेशन की इमारत का कार्य शुरू हुआ। अधिकारियों ने कोविड का बहाना बनाकर काम रोक दिया। इस साल मार्च में बूस्टिग स्टेशन का काम पूरा हुआ। अब तीन दिन पहले इमारत पूरी तरह से ढह गई। आरोप हैं कि निर्माण कार्यों की गुणवत्ता सही नहीं थी। नींव भरे बगैर ही इमारत निर्मित की गई थी। वार्ड की पार्षद पूनम के प्रतिनिधि सूरजमल किलोई ने आरोप लगाया है कि जांच करने के लिए अभी तक कोई अधिकारी नहीं आया।

केस दो : माता दरवाजा चौक स्थित सड़क की परतें उखड़ीं

माता दरवाजा चौक से गोकर्ण रोड की तरफ तक निर्मित हुईं सड़क की परतें पूरी तरह से उखड़ गईं। वार्ड-4 के पार्षद धर्मेंद्र गुलिया पप्पन ने आरोप लगाए हैं कि महज डेढ़ साल के अंदर ही सड़क टूट गई। इन्होंने बताया कि इस प्रकरण में सोमवार को मेयर मनमोहन गोयल को लिखित में शिकायत देंगे। जांच कराने की मांग करेंगे।

केस तीन : पालिका कालोनी पार्क के बूस्टिग स्टेशन निर्माण में गड़बड़ी

वार्ड-18 की पार्षद दीपिका नारा के प्रतिनिधि देवेंद्र ठेकेदार ने बताया कि बताया कि पालिका बाजार में बूस्टिग स्टेशन के निर्माण में भी गड़बड़ी हुई है। इस प्रकरण में पार्षद प्रतिनिधि देवेंद्र ने निगम के अधिकारियों से शिकायत की थी। शिकायत के बावजूद भी कोई समाधान नहीं हुआ। संचालन भी नहीं हो सका।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.