top menutop menutop menu

रोहतक की सड़कों पर पेचवर्क में भी गड़बड़ी के आरोप, एसोसिएशन ने की जांच की मांग

जागरण संवाददाता, रोहतक : नगर निगम प्रशासन ने शहर के सेक्टर-14 में पेचवर्क का कार्य शुरू करा दिया। सेक्टर वालों ने दावा किया है कि मरम्मत का कार्य सिर्फ आंखों में धूल झोंकने जैसा है। मरम्मत के कार्यों में गुणवत्ता की निर्माण सामग्री न होने की बात कही है। निगम क अधिकारियों से मांग की है कि सड़क का निर्माण या फिर मरम्मत के कार्य से जुड़े ठेकेदार की सिक्योरिटी जब्त हो। जो भी जिम्मेदार अधिकारी हैं उनके खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए।

शहरी क्षेत्र में टूटी सड़कों का मामला दैनिक जागरण ने उजागर दिया था। सेक्टरों में कुछ ही दिनों के अंदर सड़कें टूटने का मामला भी प्रमुखता से प्रकाशित किया था। निगम प्रशासन ने शहरी क्षेत्र में सभी बड़े गड्ढों को भरने के लिए 30 लाख रुपये के टेंडर किए। इसी रकम से सेक्टर-14 में पेचवर्क का कार्य शुरू हुआ। सेक्टर-14 की रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव एमएल अरोड़ा ने आरोप लगाए हैं कि सेक्टर की 101 नंबर से 118 नंबर की कोठी में निकट मरम्मत का कार्य कराया। यहां आधा कार्य छोड़ दिया, जो भी पेचववर्क का कार्य हुआ है वह भी संतोषजनक नहीं है। इन्होंने आरोप लगाए हैं कि निर्माण सामग्री ऐसी डाली गई है कि पैर से निर्माण सामग्री खुरच सकते हैं। सेक्टर में अधूरा कार्य भी करने के आरोप हैं। वर्जन

हमने पेचवर्क के कार्यों की शुरुआत की है। अभी बड़े गड्ढों को भरने का कार्य शुरू किया गया है। वैसे तो निगरानी के लिए अधिकारी तैनात हैं। फिर भी कहीं खामी है तो हमारे कंट्रोल रूम पर शिकायत की जा सकती है।

प्रदीप गोदारा, आयुक्त, नगर निगम

--

आरोप पूरी तरह से गलत हैं। मरम्मत के कार्य सही हुए हैं। शहरी क्षेत्र में सिर्फ बड़े गड्ढों को भरने के लिए 30 लाख रुपये का बजट तय किया गया है। जब पेचवर्क का कार्य हुआ था तो एसोसिएशन के दूसरे पदाधिकारी और मैं भी वहीं मौजूद था।

कदम सिंह अहलावत, पार्षद, वार्ड-11

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.