शूटिग चैंपियनशिप में भाग लेगा रोहतक का एक पूरा परिवार

रतन चंदेल रोहतक कुछ दिन बाद हरियाणा शूटिग चैंपियनशिप शुरू होने जा रही है। संभवत

JagranMon, 27 Sep 2021 06:18 AM (IST)
शूटिग चैंपियनशिप में भाग लेगा रोहतक का एक पूरा परिवार

रतन चंदेल, रोहतक :

कुछ दिन बाद हरियाणा शूटिग चैंपियनशिप शुरू होने जा रही है। संभवत: यह पहला अवसर है जब रोहतक के एक ही परिवार के सभी सदस्य इस चैंपियनशिप में भाग लेकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। मूल रूप से रोहतक मायना गांव का यह परिवार इसके लिए खूब मेहनत कर रहा है। सप्ताह में एक दिन जहां सभी खिलाड़ी भिवानी जाकर कोच के पास प्रैक्टिस करते हैं तो वहीं, छह दिन घर पर ही उनकी प्रैक्टिस जारी रहती है। यहां हम बात कर रहे हैं अधिवक्ता व खिलाड़ी राजनारायण पंघाल की। अंतरराष्ट्रीय बाक्सर अमित पंघाल के चाचा राजनारायण अपने पूरे परिवार सहित इस चैंपियनशिप में दम दिखाएंगे।

पंघाल बताते हैं कि उन्होंने व उनकी पत्नी रीना ने इसी साल फरवरी माह से खेलना शुरू किया है। रीना पंडित नेकीराम शर्मा राजकीय कालेज में एसिस्टेंट प्रोफेसर हैं। वे छह दिन घर में प्रैक्टिस करते हैं जबकि एक दिन भिवानी में पूर्व सैनिक एवं शूटिग कोच प्रदीप कुमार के पास प्रैक्टिस करते हैं। अधिवक्ता राजनारायण ने बताया की कुछ वर्षों में राज्य व केंद्र सरकार की ओर से खिलाड़ियों को जो सम्मान दिया गया है उससे प्रेरित होकर उनके 10 वर्षीय बेटे आशीष और 12 वर्षीय बेटी आशिता ने जनवरी 2019 में शूटिग खेल को सीखना शुरू किया। कुछ समय बाद बच्चों के कहने पर पूरे परिवार ने इसे अपना लिया। अब आगामी 29 सितंबर को राजनारायण और उनकी पत्नी रीना सीनियर वर्ग में भगा लेंगे जबकि उनकी बेटी आशिता और बेटा आशीष सब-यूथ कैटेगरी में भाग लेंगे। छठी हरियाणा शूटिग चैंपियनशिप प्रतियोगिता आगामी 29 सितंबर से सात अक्टूबर तक दिल्ली दिल्ली के तुगलकाबाद में डा. करणी शूटिग रेंज में आयोजित होगी। हरियाणा राइफल एसोसिएशन की ओर से आयोजित इस प्रतियोगिता में हरियाणा राज्य के सभी जिलों से खिलाड़ी भाग लेंगे। महिला, पुरुष, वेटरंस, जूनियर, सब-यूथ और यूथ कैटेगरी में खिलाड़ियों ने 25 सितंबर तक अपनी एंट्री जमा करवा दी है। जिले के मायना गांव का यह पूरा परिवार इस प्रतियोगिता में भाग ले रहा है जो कि इस तरह का प्रदेश में पहला उदाहरण होगा। इस परिवार के सभी खिलाड़ी 10 मीटर एयर पिस्टल प्रतियोगिता में भाग लेंगे।

--

पारदर्शी खेल है शूटिग

हालांकि सरकार की तरफ से कोई भी सरकारी कोच और शूटिग रेंज उपलब्ध नहीं है, खिलाड़ी स्वयं ही अपना इंत•ाम कर रहे हैं। खिलाड़ियों की मांग है कि शूटिग खेल के लिए भी हर जिले में एक कोच और एक शूटिग रेंज होनी चाहिए। इसमें 25 इवेंट खेले जाते है जिसमें मेडल की संभावना बढ़ जाती है और सबसे पारदर्शी खेल शूटिग है जिसमें कम्प्यूटर रिजल्ट बताता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.