रोडवेज कर्मियों ने किया चक्का जाम, यात्री परेशान

रोडवेज कर्मियों ने किया चक्का जाम, यात्री परेशान

विभिन्न मांगों को लेकर रोडवेज डिपो के कर्मचारियों ने दो घंटे तक हड़ताल रखी

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 08:09 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : विभिन्न मांगों को लेकर रोडवेज डिपो के कर्मचारियों ने दो घंटे बसों का चक्का जाम किया। कर्मचारियों ने सरकार पर सार्वजनिक उपक्रमों के निजीकरण का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। वहीं रोडवेज की कुछ यूनियनें इस प्रदर्शन से बाहर रहीं। दो घंटे के चक्का जाम के दौरान विभिन्न रूटों पर करीब पांच दर्जन बसों का संचालन नहीं हो पाया। बसों का संचालन प्रभावित होने के कारण यात्रियों को भारी परेशानी उठानी पड़ी। वक्ताओं ने कहा कि सरकार पूंजीपतियों को लाभ देने के लिए सार्वजनिक और सरकारी क्षेत्र का बड़े पैमाने पर निजीकरण कर रही है, जिसमें रेलवे, रक्षा, बिजली, बैंक, रोडवेज, बंदरगाह आदि शामिल हैं। इनका निर्माण आमजन से वसूले गए टैक्स के पैसे से किया गया था, इसलिए सरकार को निजीकरण पर तुरंत रोक लगानी चाहिए। इन रूटों पर नहीं हुआ बसों का संचालन बृहस्पतिवार को रोडवेज कर्मचारियों के दो घंटे के चक्का जाम करने के चलते विभिन्न रूटों पर पांच दर्जन से अधिक बसों का संचालन नहीं हो पाया। सुबह ग्यारह से दोपहर एक बजे तक हुए चक्का जमा के दौरान गुरुग्राम रूट पर 9 बसों का, महेंद्रगढ़ रूट पर 7, नारनौल पर 5, कोटकासिम पर 5, अलवर पर 3, बावल पर 4, सोहना पलवल रूट पर 2, पटौदी पर 5, कोसली पर 5, झज्जर पर 3, खंडोड़ा व राजगढ़ पर एक, दिल्ली पर 6 तथा जयपुर रूट पर 2 बसों का संचालन नहीं हो पाया। चक्का जाम होने के चलते जहां यात्रियों को भारी परेशानी उठानी पड़ी, वहीं रोडवेज विभाग को भी लाखों रुपये का नुकसान उठाना पड़ा।

---------

मैं अपनी बेटी के ससुराल जाटूसाना आया था। दिल्ली वापस जाना था, लेकिन पिछले एक घंटे से बसों के संचालन का इंतजार कर रहा हूं। कर्मचारियों की हड़ताल के कारण यात्रियों को बेवजह परेशानी उठानी पड़ रही है। सरकार को ऐसी स्थिति से निपटने के लिए कदम उठाने चाहिए।

- महेश कुमार, यात्री

--------------

कैथल से रेवाड़ी किसी काम से आया था, लेकिन यहां आकर पता चला की कर्मचारियों के प्रदर्शन के कारण बसों का संचालन नहीं हो रहा है। वापस कैथल जाना है पता नहीं कितने समय तक बसों के संचालन का इंतजार करना पड़ेगा।

- अमनजोत, यात्री

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.