रफ्तार पकड़ेगी रेवाड़ी-जैसलमेर राजमार्ग परियोजना

महेश कुमार वैद्य रेवाड़ी सामरिक महत्व की रेवाड़ी-जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना की बाधाएं शीघ्र दूर की जाएगी। निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने इस राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-11 का काम चरणबद्ध ढंग से पूरा करने का निर्णय लिया है। इसके लिए हरियाणा की सीमा में चार पैकेज (विभाजित करना) बनाए गए हैं। प्रत्येक पैकेज का काम अलग-अलग एजेंसी को सौंपा जाएगा। इसके पीछे उद्देश्य काम की रफ्तार बढ़ाना है।

JagranWed, 26 Jun 2019 07:11 PM (IST)
रफ्तार पकड़ेगी रेवाड़ी-जैसलमेर राजमार्ग परियोजना

महेश कुमार वैद्य, रेवाड़ी

सामरिक महत्व की रेवाड़ी-जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना की बाधाएं शीघ्र दूर की जाएंगी। निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने इस राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-11 का चरणबद्ध ढंग से पूरा करने का निर्णय लिया है। हरियाणा की सीमा में चार पैकेज (विभाजित करना) बनाए गए हैं। प्रत्येक पैकेज का काम अलग-अलग एजेंसी को सौंपा जाएगा।

सरकार की मानें तो इसके पीछे उद्देश्य काम की रफ्तार बढ़ाना है। परियोजना कुल 848 किलोमीटर लंबी है। अधिकांश स्थानों पर मौजूदा सड़कों की ही चौड़ाई बढ़ाई जाएगी, लेकिन जहां बाईपास की जरूरत होगी वहां पर नए सिरे से सड़क का निर्माण होगा। यह परियोजना पर्यटन की दृष्टि से भी अहम रहेगी। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद यह हरियाणा व राजस्थान के मध्य शेखावाटी क्षेत्र के पर्यटकों के लिए एक बेहतरीन पर्यटन गलियारा होगा। हरियाणा की सीमा में नारनौल से पचेरी तक पहला पैकेज निर्धारित किया गया है। इसी क्रम में नारनौल बाईपास, अटेली बाईपास व बाछोद बाईपास सहित नारनौल से बाछोद तक का क्षेत्र दूसरे पैकेज में शामिल है। तीसरे पैकेज में अटेली से रेवाड़ी (नारनौल रोड) तक का मार्ग लिया गया है। चौथे पैकेज में रेवाड़ी की राजस्व सीमा में नारनौल रोड से एनएच-352 तक की 14.1 किमी. लंबी सड़क है। यह आउटर बाईपास का काम करेगी, लेकिन अवार्ड घोषित होने के बावजूद चौथे पैकेज के इस छोटे से टुकड़े को मंत्रालय की स्वीकृति नहीं मिली है। मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने 4 जुलाई 2015 को रेवाड़ी के लिए आउटर बाईपास की घोषणा की थी। इस घोषणा को सिरे चढ़ाने के लिए ही बाईपास को हाईवे का हिस्सा बनाया गया है।

-------------

यह है प्रस्तावित राजमार्ग का रूट:

यह हाईवे रेवाड़ी से अटेली, नारनौल, पचेरी, सिंघाना, चिड़ावा, झुंझुनु, मंडावा, फतेहपुर, रतनगढ़, श्री डूंगरगढ़, बीकारेर, फलौदी व पोकरण होते हुए जैसलमेर से आगे पाकिस्तान सीमा तक जाएगा।

--------

रेवाड़ी-पटौदी-गुरुग्राम का निर्माण शीघ्र

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण रेवाड़ी-पटौदी-गुरुग्राम सड़क परियोजना के काम में भी तेजी लाने जा रहा है। इस परियोजना में

पटौदी का बाईपास भी शामिल है। भूमि अधिग्रहण के लिए 3 डी की अंतिम अधिसूचना जल्दी ही जारी होने वाली है। सूत्रों के अनुसार चुनाव पूर्व अवार्ड घोषित कर दिया जाएगा।

---------

पैकेज बनाने से निर्माण कार्य में तेजी आएगी। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-11 को हरियाणा की सीमा में चार पैकेज में पूरा किया जाएगा। हमारे पास तीन पैकेज की स्वीकृति आ चुकी है, लेकिन चौथे पैकेज की स्वीकृति नहीं आई है। जल्दी ही इसकी भी स्वीकृति मिल जाएगी। इस चौथे पैकेज में नारनौल रोड़ को एनएच-352 से जोड़ा जाना प्रस्तावित है। इसका निर्माण पूरा होने से नारनौल की ओर से रेवाड़ी की ओर आने वाले वाहन शहर में प्रवेश किए बिना ही आगे दिल्ली, गुरुग्राम व रोहतक की ओर आगे बढ़ सकेंगे।

-पीके कौशिक, प्रोजेक्ट डायरेक्टर, नेशनल हाईवे

---

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.