top menutop menutop menu

सांड की टक्कर से संजय की मौत से गुस्से में शहर, प्रशासन को जगाने के लिए निकाला गया कैंडल मार्च

सांड की टक्कर से संजय की मौत से गुस्से में शहर, प्रशासन को जगाने के लिए निकाला गया कैंडल मार्च
Publish Date:Sat, 15 Aug 2020 07:23 PM (IST) Author: Prateek Kumar

रेवाड़ी [अमित सैनी]। सांड की टक्कर से जान गंवाने वाले युवक संजय वर्मा उर्फ डॉली की माैत के बाद से शहर गुस्से में हैं। शहरवासियों ने शनिवार शाम को कैंडल मार्च निकाला तथा प्रशासन नींद से जागो व नगर परिषद अधिकारी होश में आओ के स्लोगन भी दिखाए। यहां बता देना जरूरी है कि 12 अगस्त को पेशे से फोटोग्राफर शहर के मोहल्ला मेहरवाड़ा निवासी युवक संजय उर्फ डॉली को कायस्थवाड़ा चौक पर सांड ने टक्कर मार दी थी।

दुकान जाते वक्त हुआ था हादसा

संजय स्कूटर पर सवार होकर घर से कायस्थवाड़ा मोहल्ला स्थित अपनी दुकान पर जा रहा था। इस हादसे के बाद से ही लोगों में गुस्सा है, क्योंकि तमाम हादसों के बाद भी नगर परिषद द्वारा शहर की सड़कों पर घूमने वाले बेसहारा पशुओं को पकड़ा नहीं जा रहा है।

नगर परिषद कार्यालय के गेट पर रखकर आए कैंडल

संजय उर्फ डॉली की मौत के मामले में न्याय की मांग को लेकर सोशल मीडिया पर जोर शोर से अभियान चल रहा है। लोग नगर परिषद अधिकारियों के खिलाफ खूब भड़ास भी निकाल रहे हैं। शनिवार को बिना किसी संगठन के बैनर तले लोग स्वेच्छा से ठठेरा चौक पर एकत्रित हुए। यहां पर सभी लोगों ने मोमबत्ती जलाकर डॉली की आत्मिक शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा। मृतक संजय उर्फ डॉली के दोनों बेटे नकुल व आयुष भी इस दौरान मौजूद रहे। यहां से कैंडल मार्च निकालते हुए लोग मोती चौक होते हुए नगर परिषद कार्यालय तक पहुंचे। यहां नगर परिषद कार्यालय के गेट के सामने ही लोगों ने अधिकारियों को सदबुद्धि देने की बात कहते हुए अपनी कैंडल रख दी। एडवोकेट सुनील भार्गव, एडवाेकेट राजेंद्र सिंह, होप क्लब से राजेश अग्रवाल, घनश्याम भालिया आदि वक्ताओं ने कहा कि अधिकारियों की लापरवाही से संजय की जान गई है। अधिकारियों पर कार्रवाई हो, मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी मिले तथा परिवार काे आर्थिक मदद दी जाए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.