यमुनानगर की राजनीति में भूचाल, पूर्व पार्षद ने सीएम व मंत्री को भेजी मेयर की शिकायत, लगाए गंभीर आरोप

यमुनानगर की राजनीति गरमा गई है। भाजपा के पूर्व पार्षद व उनकी पत्नी ने मेयर मदन चौहान की शिकायत सीएम मनोहर लाल समेत बड़े नेताओं से की है। आरोप हैं कि ढाई साल से निगम में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। इसके लिए मेयर जिम्मेदार हैं।

Umesh KdhyaniTue, 08 Jun 2021 06:45 AM (IST)
शिकायत में आरोप है कि मेयर खुद को सीएम का नजदीकी बताकर मनमर्जी से काम करा रहे हैं।

यमुनानगर, जेएनएन। भाजपा से पूर्व पार्षद नीरज राणा व उनकी पत्नी पार्षद रेखा राणा ने मेयर मदन चौहान पर गंभीर आरोप लगाए हैं। साथ ही जांच के लिए सीएम मनोहर लाल, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज, शिक्षामंत्री कंवरपाल, विधायक घनश्याम दास अरोड़ा, स्टेट विजिलेंस ब्यूरो व नगर निगम कमिश्नर को शिकायत भेजी है।

शिकायत में राणा ने बताया कि वह 2013 से 2018 तक पार्षद रहे। अब उनकी पत्नी रेखा राणा वार्ड 20 से पार्षद हैं। आरोप हैं कि ढाई साल से निगम में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। इसके लिए मेयर जिम्मेदार हैं। इससे पार्टी की छवि खराब हो रही है। मेयर खुद को सीएम का नजदीकी बताकर मनमर्जी से काम करा रहे हैं। आरोप है कि मेयर ने कुर्सी संभालते ही सबसे पहले नजदीकियों को निगम में नौकरी पर रखा। इनमें एक रिश्तेदार को जूनियर इंजीनियर के पद पर लगवाया हुआ है। अधिकारी दबाव में हैं।

तेजली के पास कई कॉलोनियां हैं। अवैध होते हुए भी यहां पर बिजली, पानी व सीवरेज की सुविधाएं दी जा रही हैं। आरोप है कि मदन चौहान शुरू से प्रापर्टी के कारोबार से जुड़े हुए हैं। यहां इन कॉलोनियों में महंगें दामों पर कोठियां बनाकर बेच रहे हैं। इनका भाई निगम में ठेकेदार है और टाइलों की फैक्टरी भी लगा ली। आरोप है कि फैक्ट्री में बनी घटिया टाइलों का इस्तेमाल निगम एरिया में बन रही सड़कों में हो रहा है।

 भू-माफिया का हो रहा कब्जा

आरोप है कि निगम की जमीनों पर भू माफिया का कब्जा करवाया जा रहा है। निर्माण की आड़ में भ्रष्टाचार चरम पर है। आय से अधिक संपत्ति जुटाने के आरोप भी लग रहे हैं। धड़ल्ले से गैर कानूनी तरीके से व्यवसायिक व रिहायशी भवनों का निर्माण हो रहा है। कई माल का निर्माण कार्य चल रहा है। इसके लिए न तो कोई नक्शा पास है न ही निगम को टैक्स दिया जा रहा है। जिससे राजस्व को नुकसान हो रहा है। मांग की है कि मामले की गहनता से जांच की जाए।

हम तो भ्रष्टाचार के सभी रास्ते बंद किए हैं : मेयर

मेयर मदन चौहान का कहना है कि उनसे पहले शहर की अधिकांश कॉलोनियों की सड़क व गली खस्ता हालत में थी। निकासी का प्रबंध भी नहीं था। पदभार संभालते ही सभी वार्डों में निष्पक्ष रूप से कार्य करवाए। शहर में करोड़ों रुपये से गलियों व नालियों का निर्माण और सीवर लाइन डाली जा रही हैं। प्रयास कर 69 कॉलोनियों को वैध करवाया। इनमें भी करोड़ों रुपये के विकास चल रहे हैं। कार्यों की गुणवत्ता के लिए निरीक्षण किया जाता है। खामी व लापरवाही मिलने पर अधिकारी व ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई होती है। एक व्यक्ति विशेष उन पर झूठे आरोप लगा रहा है। सभी आरोप बेबुनियाद व निराधार है। वह हर तरह की जांच के लिए तैयार हैं। निगम में हमने भ्रष्टाचार के सभी रास्ते बंद किए हुए है। जहां तक निगम में नौकरियों की बात है, योग्यता के आधार पर युवाओं को नौकरी दी जा रही है। कोई भाई भतीजावाद नहीं किया जा रहा है। लोकतंत्र में सभी को बात रखने का अधिकार है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.