जीटी रोड पर काली पल्‍टन पुल का 90 फीसद काम पूरा, रेलवे ने खतरा बता काम रुकवाया

अंबाला में जीटी रोड पर काली पल्‍टन पुल दो विभागों की खींचतान में लटक गया है। 90 फीसद काम भी पूरा हो चुका। अब रेलवे ने इसे यार्ड के लिए खतरा बताते हुए काम रुकवा दिया है। दो साल पहले जांच के लिए गठित कमेटी का मामला ठंडे बस्ते में।

Anurag ShuklaMon, 26 Jul 2021 03:11 PM (IST)
जीटी रोड पर बना काली पल्‍टन पुल।

अंबाला, जागरण संवाददाता। छावनी में अंग्रेजों के समय में काली पल्टन के नाम से प्रसिद्ध स्थान पर पुल का निर्माण करके शहर के एक दर्जन से अधिक गांवो और कालोनियों का सीधा संपर्क कैंट से किए जाने की योजना थी। करोड़ों की लागत से एनएचएआइ ने पुल का निर्माण कार्य शुरू कराया और वह अंतिम दौर में था कि अचानक बीच में पड़ रहे रेलवे के यार्ड को देखते हुए रेल विभाग ने रोड़ा डाल दिया।

नतीजा यह पुल 90 फीसद से अधिक बनने के बाद भी इस पर आवागमन शुरू नहीं हो सका। रेलवे ने पुल से यार्ड को खतरा बताते हुए इसे अन्यंत्र स्थापित करने की सिफारिश कर डाली। यह देख अंबाला प्रशासन ने दो साल पहले एडीसी की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया, कमेटी को रेलवे अधिकारियों और एनएचएआइ के अधिकारियाें से विचार विमर्श करके बीच का रास्ता निकालना था, जो अब तक कारगर साबित नहीं हो सका। नतीजतन करोड़ों खर्च के बाद बनकर तैयार पुल को आम लोगों के लिए नहीं खोला जा सका।

सेना ने साथ ही बनाया उमराव फ्लाइओवर

जीटी रोड के दोनों किनारे पर सेना के विभिन्न कार्यालय और अधिकारियों के रिहायश बनाए गए हैं। दोनों को आपस में जोड़ने के लिए सेना के अधिकारियों ने टू लेन का एक फ्लाईओवर साथ में बनाकर अपने निजी कार्य के लिए शुरू कर दिया। इस फ्लाइओवर का नाम उमरास फ्लाइओवर दिया। अब इस फ्लाइओवर से सेना की गाड़ियों के अलावा कुछ प्राइवेट कार जीप और बाइक सवार को आते जाते देखा जाता है।

शहर के सेक्टर को भी जोड़ता यह पुल

काली पल्टन पुल के बनकर पूरा होने के बाद शहर के सेक्टर सहित करीब 12 गांवों के लोगों का सीधा संपर्क अंबाला कैंट के रेलवे स्टेशन और सामान्य बस अड्डे से होता। साथ ही चंडीगढ़, जालंधर और दिल्ली के आने जाने के लिए आसानी होती। स्थानीय लोगों ने प्रशासन से इस पुल को शुरू करने की मांग करने लगे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.