Rainy Season: हरियाणा में मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, अगले दिनों में होगी तेज बारिश, किसान मायूस

हरियाणा में इन दिनों लगातार अलग अलग क्षेत्रों में बारिश हो रही है। वहीं इस समय धान की 1509 किस्म की कटाई जोरों पर चल रही है। मंडियों में भी आवक शुरू हो गई है। लेकिन बरसात के इस घटनाक्रम से फसल को नुकसान हो रहा है।

Naveen DalalThu, 16 Sep 2021 07:54 PM (IST)
तेज बरसात ने किसानों की उम्मीदों पर फेरा पानी।

करनाल, जागरण संवाददाता। करनाल में जिले में वीरवार दोपहर बाद हुई तेज बरसात ने किसानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। इस समय धान की 1509 किस्म की कटाई जोरों पर चल रही है। मंडियों में भी आवक शुरू हो गई है। लेकिन बरसात के इस घटनाक्रम से फसल को नुकसान हो रहा है। परेशानी इस बात की है कि मानसून की विदाई के समय भी प्रदेश में तेज बरसात का सिलसिला लगातार जारी है।

मौसम विभाग के अनुसार

मौसम विभाग ने संभावना जताई है कि 20 सितंबर तक यह सिलिसला लगातार जारी रहेगा। बरसात के बाद से तापमान में भी गिरावट देखने को मिली है। वीरवार को अधिकतम तापमान 30.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, वहीं न्यूनतम तापमान 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह के समय नमी की मात्रा 75 फीसदी दर्ज की गई जो शाम को बढ़कर 100 फीसदी हो गई। केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के मुताबिक आने वाले 24 घंटे में बरसात का सिलसिला जारी रह सकता है।

देशभर में यह बना हुआ है मौसमी सिस्टम

उत्तर मध्य प्रदेश के मध्य भागों में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। संबंध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक फैला हुआ है। गुजरात के दक्षिणी हिस्सों पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। एक टर्फ रेखा गुजरात पर बने चक्रवाती परिसंचरण से लेकर गंगीय पश्चिम बंगाल तक, उत्तरी मध्य प्रदेश के मध्य भागों में बने हुए चक्रवाती परिसंचरण से होकर गुजर रही है। मानसून मानसून की रेखा भुज, उदयपुर से होते हुए मध्य प्रदेश के ऊपर बने हुए चक्रवाती हवाओं के मध्य से गुजरते हुए अंबिकापुर, झाड़सुगुड़ा, बालासोर होते हुए दक्षिण पूर्व दिशा में पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी तक जा रही है।

करनाल में सितंबर माह में बीते 10 सालों में बरसात का ब्यौरा

वर्ष                        बरसात एमएम में

2010                     348.8

2011                     93.0

2012                     94.9

2013                     12.8

2014                     229.7

2015                     46.8

2016                     21.6

2017                    226.2

2018                    318.7

2019                    13.4

2020                    00.0

2021                    118.0

नोट : यह आंकड़े मौसम विभाग की ओर से जारी किए गए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.