ग्रामीण विधानसभा में आहिस्ता-आहिस्ता 63.8 फीसद तक पहुंचा मतदान

राज सिंह , पानीपत

पानीपत ग्रामीण विधानसभा को इस बार हॉट सीट के रूप में देखा जा रहा है। भाजपा विधायक महीपाल ढांडा, पूर्व स्पीकर सतवीर कादियान के पुत्र देवेंद्र कादियान और पूर्व मंत्री ओम प्रकाश जैन सहित 12 प्रत्याशी मैदान में हैं। इसके बावजूद मतदान 63.8 फीसद तक ही पहुंच सका। वर्ष 2014 के चुनाव में मतदान प्रतिशत 76.07 फीसद रहा था।

पानीपत ग्रामीण क्षेत्र में 2 लाख 41 हजार 992 मतदाता है।इनमें 1 लाख 10 हजार 668 महिलाएं और 2 अन्य मतदाता हैं। शहर से सटी करीब 78 कॉलोनियों की बात करें तो सुबह सात बजे से पहले ही मतदान केंद्रों पर वोटरों की कतार लगनी शुरू हो गई थी, शाम छह बजे तक मतदाताओं का बूथ पर पहुंचना जारी रहा।गांवों में सुबह के समय कुछ सुस्ती दिखी, जैसे ही सूरज चढ़ता गया मतदाताओं की संख्या बढ़ती रही। किसानों ने पहले खेत-खलिहान का काम निपटाया, इसके बाद लोकतंत्र के पर्व में वोटों की आहूति डाली। महिलाओं में मतदान के प्रति जबरदस्त उत्साह रहा।

बाहरी कॉलोनियों और गांवों में बने मतदान केंद्रों पर महिलाओं की कतार देखी गई। पहली बार वोट करने वाले मतदाताओं के लिए तो मतदान दिवस सेल्फी का कारण भी बना। इन प्रत्याशियों का भाग्य मतपेटियों में बंद :

भाजपा प्रत्याशी महीपाल ढांडा, जेजेपी के देंवेंद्र कादियान, कांग्रेस के ओमप्रकाश जैन, इनेलो के कुलदीप राठी, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के जमशेद राणा, बसपा के बलकार मलिक, राष्ट्रीय जन शक्ति पार्टी (एकलव्य) के पालेराम कश्यप, लोसुपा के लख्मीचंद, सर्वहित पार्टी के विरेंद्र सिंह गाहल्याण, निर्दलीयों में संदीप भारद्वाज, महीपाल व राजेश बुड़शाम। सिवाह गांव में जबरदस्त मतदान :

इन चुनावों में सभी की नजर गांव सिवाह पर टिकी है। नौ हजार से अधिक मतदाता, जेजेपी के प्रत्याशी देवेंद्र कादियान का गांव, भाजपा प्रत्याशी महीपाल ढांडा और इनेलो के कुलदीप राठी की ननिहाल होने, कांग्रेस प्रत्याशी ओमप्रकाश जैन की गांव में पैठ होने कारण इस गांव में मतदान के प्रति जबरदस्त उत्साह देखा गया। शाम 5:50 बजे तक गांव में करीब 72 फीसद मतदान हो चुका था। चंदौली और खोतपुरा में भी उत्साह :

भाजपा प्रत्याशी महीपाल ढांडा की गांव खोतपुरा में और बसपा प्रत्याशी बलकार मलिक की गांव चंदौली में ससुराल है। गांव का दामाद हारे नहीं, इस कारण दोनों के रिश्तेदारों और समर्थकों ने घरों से वोटरों को निकालने में खूब पसीना बहाया। जेजेपी प्रत्याशी देवेंद्र कादियान भी यहां फाइट में दिखे। हालांकि, इस गांव में कांग्रेस प्रत्याशी ओमप्रकाश जैन की स्थित बहुत अच्छी नहीं दिखी। सरकार ने किसान को रगड़ दिया :

भाई अखबार वाले वोट देने को तो किसी को भी मन नहीं करता, सब नेता एक जैसे हैं। भाजपा ने तो किसान को रगड़ ही दिया है। फसलों का समर्थन मूल्य लागत से दोगुना और बुढ़ापा पेंशन बढ़नी चाहिए।

बलबीर, गांव निजामपुर।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.