बीएलओ की गलती से भटके मतदाता, ऑनलाइन स्‍पीड भी बनी परेशानी का सबब Panipat News

पानीपत, जेएनएन। मतदान शांतिपूर्ण रहा। किवाना में युवाओं को स्कूल के प्रवेश द्वार के पास से हटाने के कारण पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। सुबह 7 से 10 बजे के बीच मतदान का प्रतिशत 4.7 प्रतिशत के करीब रहा। दोपहर 2 बजे मतदान 42 प्रतिशत और शाम 5 बजे 65 प्रतिशत के करीब पहुंच गया। भापरा राजकीय सीसे स्कूल के आदर्श बूथ पर दिव्यांग के लिए व्हील चेयर की व्यवस्था थी। वैश्य कन्या महाविद्यालय और अग्रसेन स्कूल में पिंक बूथ बनाया गया था।

बीएलओ की गलती से कुछ लोगों के पास वोट की पर्ची नहीं पहुंचने से उन्हें सुबह दिक्कत हुई। अनाज मंडी स्थित पांचों केंद्रों के मतदाता बूथ के बाहर कांग्रेस और भाजपा के बैठे एजेंटों के पास पर्ची के लिए भटक रहे थे।

एजेंट के पास भी वोटर लिस्ट की कांपी सीमित थी। सभी को लिस्ट में नाम खोजना पड़ रहा था। रमेश मिश्र, सुशील, रमण पांडे आदि ने कहा कि उन्हें पर्ची नहीं मिली।

इसराना में रोचक मुकाबला

जिले की आरक्षित सीट इसराना विधानसभा पर मतदान के दिन भी मुकाबला रोमांचक दिखा। हालांकि हार जीत का फैसला 24 अक्टूबर को मतगणना के बाद होगा। लेकिन मतदान के दौरान ज्यादातर जगहों पर भाजपा प्रत्याशी कृष्ण लाल पंवार और कांग्रेस प्रत्याशी बलबीर वाल्मीकि ही मुकाबले में दिखे। कई गांव में जजपा प्रत्याशी दयानंद उरलाना की बढ़त ने मुकाबला त्रिकोणीय भी बनाया। सबसे पहले हम हलका के गांव डिडवाड़ी पहुंचे। मतदाताओं से पूछने पर कांग्रेस प्रत्याशी कुछ बढ़त में दिखे। इसराना में भी स्थिति वैसी ही दिखी। नैन और भाऊपुर में भाजपा और कांग्रेस में मुकाबला दिखा तो जजपा प्रत्याशी भी मैदान में लगे। अटावला में कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधी मुकाबला लगा। डुमियाना में भाजपा सबसे ज्यादा दिखने के साथ कांग्रेस और जजपा बेहतर दिखी। जजपा प्रत्याशी के गांव उरलाना कलां में मुकाबला त्रिकोणीय लगा। इसके बाद सींक और पाथरी में कांग्रेस प्रत्याशी सब पर भारी पड़ते दिखे। इसी तरह मतलौडा खंड के गांवों में भी दोनों के बीच कहीं मुकाबला तो कहीं पर कम व ज्यादा के जोड़ के साथ जजपा भी कई जगह बढ़त बनाती दिखी।

मतदान के दिन बैचेन दिखे प्रत्‍याशी 

चुनाव को लेकर दिनभर प्रत्याशियों के होश उड़े रहे। वे अल सुबह से एजेंटों को तैयार और सतर्क करने में लगे रहे। बूथों का दिनभर भ्रमण किए। भाजपा प्रत्याशी शशिकांत कौशिक ने सुबह में चुलकाना राजकीय कन्या सीसे स्कूल के बूथ नंबर 190 पर तो कांग्रेस प्रत्याशी धर्म सिंह छौक्कर ने अनाज मंडी स्थित महाराजा अग्रसेन स्कूल के बूथ नंबर 161 पर दोपहर में मतदान किया। समर्थकों ने दोनों का सभी जगहों पर हौसला बढ़ाया।

कांग्रेस और भाजपा के ही दिखे बस्ते

भापरा गांव में बीएसपी को छोड़कर कस्बे के अधिकांश बूथों के बाहर केवल भाजपा और कांग्रेस के बस्ते दिखाई दे रहे थे। उनके एजेंट लोगों को पर्ची बनाकर दे रहे थे, जो शाम तक डटे रहे। निर्दलीय सहित दूसरे दलों के बस्ते तक दिखाई नहीं दिए। कुछ चुनिंदा जगहों पर ही उनके बस्ते लगे थे।

बूथ पर रंगोली बनाई गई

विधानसभा में 202 पोलिंग बूथ बनाए गए थे। इसमें से इसराना और मतलौडा में ¨पक बूथ भी बनाए गए। जहां सेल्फी प्वाइंट बनाने से लेकर मतदान के प्रति प्रेरित करने वाले स्लोगन लिखने के साथ रंगों के जरिये रंगोली तक बनाई गई।

अफवाहों का बाजार गर्म

चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर अफवाहों का बाजार गर्म रहा। मतदान से संबंधित फोटो और वीडियो सोशल साइटों पर दिनभर वायरल होते रहे। भाजपा और कांग्रेस के समर्थक अपने अपने प्रत्याशियों के पक्ष में फोटो और वीडियो वायरल कर रहे थे। अपने प्रत्याशियों की जीत को सुनिश्चित मान रहे थे। धर्म सिंह छौक्कर ने आरोप लगाया कि उनके वोटर और एजेंटों को कई जगहों पर धमकाया गया। बीती रात भी कुछ मामले सामने आए, लेकिन उन पर प्रशासन ने उचित संज्ञान नहीं लिया। लोकतंत्र में ऐसा नहीं होना चाहिए। वहीं कौशिक ने मतदान के संबंध में कोई टीका टिप्पणी नहीं की। अब प्रत्याशी सहित समर्थकों की नजर मतगणना पर टिकी है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.