जींद में भिवानी रोड फाटक पर सबवे को मंजूरी, मिनी बाईपास पर बनेगा बड़ा अंडरपास

हरियाणा के जींद शहर के अंदर ट्रैफिक व्यवस्था होगी सुचारु। जाम से भी मिलेगी मुक्ति। मिनी बाईपास का मकसद होगा पूरा। भिवानी रोड फाटक पर छोटी ऊंचाई का सबवे बनने से दोनों तरफ से काफी लोगों को मिलेगी राहत।

Anurag ShuklaSat, 24 Jul 2021 04:58 PM (IST)
जींद में विकास कार्यों का काम तेजी से शुरू।

जींद, [कर्मपाल गिल]। शहर में देवीलाल चौक से भिवानी रोड फाटक पर आरयूबी व आरआेबी बनाने पर फंसा पेंच खत्म हो गया है। प्रदेश सरकार ने यहां लिमिटेड हाइट्स सब-वे (एलएचएस) बनाने काे मंजूरी दे दी है। एलएचएस यानि छोटी ऊंचाई का अंडरपास। वहीं, रोहतक रोड से भिवानी रोड के बीच मिनी बाईपास पर रेलवे लाइन पर अंडरपास (आरयूबी) बनाने की मंजूरी मिल गई है। दोनों प्रोजेक्टों की फाइलें रेलवे के पास भेज दी गई हैं। वहां से अनुमति मिलते ही टेंडर जारी कर दिए जाएंगे।

प्रदेश सरकार ने करीब दो साल पहले भिवानी रोड फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज (आरओबी) बनाने की मंजूरी दी थी। ठेकेदार ने इस पर काम भी शुरू कर दिया था, लेकिन आसपास के लोगों ने आरओबी का विरोध करना शुरू कर दिया। उनका तर्क था कि सड़क की चौड़ाई बहुत कम है। आरओबी बनने से कई गलियों का रास्ता बंद हो जाएगा और सैकड़ों दुकानदारों की रोजी-रोटी भी खत्म हो जाएगी। तब विधायक डा. कृष्ण मिढ़ा ने भी कालोनीवासियों का साथ दिया और मुख्यमंत्री के सामने यह मुद्दा उठाकर आरओबी का काम रुकवाया।

इसके बाद रेलवे व बीएंडआर के अधिकारियों ने तीन बार फाटक का दौरा किया और आसपास के लोगों से बात करके एलएचएस का प्रपोजल बनाकर भेजा था। प्रदेश सरकार ने अब इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है। बीएंडआर ने एलएचएस की फाइल मंजूरी के लिए रेलवे के पास भेज दी है। रेलवे की जिस विंग ने एलएचएस की ड्राइंग को अनुमति देनी है, वहां मेन स्टाफ की कोरोना के कारण मौत हो गई। इस कारण काम धीमा चल रहा है। रेलवे से ड्राइंग अप्रूव होने के बाद बीएंडआर को टेंडर की प्रक्रिया की मंजूरी लेनी पड़ेगी। उम्मीद है कि इस साल के अंत तक सारी कागजी कार्रवाई निपटाकर भिवानी रोड फाटक पर एलएचएस और मिनी बाईपास पर आरयूबी का काम शुरू हो जाएगा।

दस से 12 फुट ऊंचा होगा एलएचएस

भिवानी रोड पर बनने वाला लिमिटेड हाइट्स सब-वे 18 फुट चौड़ा होगा, जबकि ऊंचाई अधिकतम दस से 12 फुट तक रहेगी। इस कारण सब-वे की फाटक के दोनों तरफ लंबाई भी बहुत कम रहेगी। ऊंचाई कम होने के कारण ही इसे सब-वे कहा जाता है। जबकि सामान्य अंडरपास की ऊंचाई साढ़े सात मीटर यानि 24 फुट होती है। शहर के बाहर से बाईपास शुरू होने के कारण यहां एलएचएस का ही प्रपोजल भेजा गया था।

रोहतक रोड व भिवानी रोड के बीच बनेगा अंडरपास

शहर में दस साल पहले जो रजवाहा निकलता था, उसकी जगह अब सड़क बनाकर मिनी बाईपास बना दिया गया है। यह मिनी बाईपास सफीदों रोड से शुरू होकर गोहाना रोड व रोहतक रोड को आपस में जोड़ रहा है। लेकिन रोहतक रोड व भिवानी रोड के बीच रेलवे ट्रैक होने के कारण मिनी बाईपास का मकसद पूरा नहीं हो पा रहा था। अब यहां भटनागर कालोनी के साथ बने अंडरपास जैसा ही आरयूबी बनाया जाएगा।

रेलवे से ड्राइंग मंजूर होते ही टेंडर परमिशन लेंगे

भिवानी रोड फाटक पर एलएचएस और मिननी बाईपास पर अंडरपास की ड्राइंग फाइलें रेलवे के पास भेज दी हैं। अब रेलवे से अप्रूव होते ही फिर हमारा काम रह जाएगा। 20 दिन के अंदर टेंडर की परमिशन ले लेंगे। फाटक के नीचे सब-वे से छोटे वाहन ही निकल सकेंगे।

-नवनीत नैन, एक्सईएन, बीएंडआर

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.