कहीं भ्रूण तो कहीं नवजात मिल रहे, अपराधी पकड़े नहीं जा रहे

जिले में एक के बाद एक भ्रूण मिलने की घटनाएं सामने आ रही हैं। एक दिन पहले ही विकास नगर में लड़के का भ्रूण मिला था। हैरानी की बात तो ये है कि किसी केस में अपराधियों तक पहुंचा नहीं जा सका है। कहीं पर बेटी का भ्रूण मिल रहा है तो कहीं पर बेटे का।

JagranPublish:Thu, 18 Nov 2021 06:58 PM (IST) Updated:Thu, 18 Nov 2021 06:58 PM (IST)
कहीं भ्रूण तो कहीं नवजात मिल रहे, अपराधी पकड़े नहीं जा रहे
कहीं भ्रूण तो कहीं नवजात मिल रहे, अपराधी पकड़े नहीं जा रहे

जागरण संवाददाता, पानीपत : जिले में एक के बाद एक भ्रूण मिलने की घटनाएं सामने आ रही हैं। एक दिन पहले ही विकास नगर में लड़के का भ्रूण मिला था। हैरानी की बात तो ये है कि किसी केस में अपराधियों तक पहुंचा नहीं जा सका है। कहीं पर बेटी का भ्रूण मिल रहा है तो कहीं पर बेटे का। नारी तू नारायणी उत्थान समिति ने सीएम विडो से लेकर एसपी को शिकायत दी गई है। समिति की अध्यक्ष सविता आर्य ने कहा कि मुख्य आरोपित के साथ उसका साथ देने वाले भी अपराधी ही हैं। छह वर्ष में एक भी दोषी नहीं पकड़ गया, जो प्रशासन की कार्यशैली की कमी को दर्शाता है। वर्ष 2015 के बाद सामने आए केस

- 27 जून को रेलवे स्टेशन के माल गोदाम के बाहर चार माह की नवजात मिली

- 9 अक्टूबर 2015 को जाटल रोड, वाल्मीकि बस्ती में पालीथिन में नवजात मिली

- 19 अक्टूबर 2015 को सौंधापुर अनाथालय के पाले में बच्चा मिला

- अक्टूबर 2015 में ही मांडी गांव में आठ माह की बच्ची कूड़े के ढेर में मिली

- नवंबर 2015 में बबैल रोड पर फैक्ट्री के पास खाली प्लाट में बच्ची मिली

- 30 जनवरी 2016 को सेक्टर 12 में मकान नंबर 1780 के बाहर एक माह की बच्ची मिली

- 27 फरवरी 2016 को सेक्टर 25 में जुड़वा नवजात का शव मिला

- 3 अगस्त 2016 को भूल भुलैया चौक के पास बैग में छह महीने का भ्रूण मिला

- 16 सितंबर 2016 को दो जुड़वा बच्ची सेक्टर में मिलीं

- अक्टूबर 2016 में सेक्टर 25 में नवजात लड़का मिला

- 16 नवंबर 2016 को पांच महीने की बच्ची का भ्रूण मिला

- 17 नवंबर 2016 को तीन दिन की नवजात संजय चौक के पास मिली

- 21 अप्रैल 2017 को अर्जुन नगर में दो महीने की बच्ची का शव मिला

- 11 अगस्त 2017 को अर्जुन नगर में दो महीने की बच्ची का शव मिला

- 22 मई 2018 को माडल टाउन के पार्क में बच्ची मिली

- 5 जुलाई 2018 को सिविल अस्पताल में नवजात को छोड़कर मां फरार हुई, 18 जुलाई को काबड़ी से पकड़ी गई

- 19 सितंबर 2018 को माजरी रेलवे रोड पर नवजात मिली

- 8 अक्टूबर 2018 को गुरुद्वारा के बाहर नवजात मिला

- 13 नवंबर 2018 को कुटानी रोडपर खेत में नवजात मिला, जिसकी बाद में मौत हो गई

- 26 सितंबर 2018 को अंसल के गेट के पास चार दिन की नवजात मिली

- 14 दिसंबर 2018 को भालसी गांव में भ्रूण मिला

- 11 फरवरी 2019 को गांव तामशाबाद में यमुना बांध के पास नवजात बच्चा मिला

- 17 जुलाई 2020 को बुड़शाम गांव में नाले में बच्ची का शव मिला

- 6 अक्टूबर 2020 को हथवाला गांव में नवजात बच्चा मिला

- 21 मई 2021 को इंसार बाजार में भ्रूण मिला

- 6 जून 2021 को वधावाराम कालोनी में पांच दिन की बच्ची घर के बाहर मिली

- 17 नवंबर 2021 को विकास नगर में आठ महीने का भ्रूण मिला पानीपत से बेटी बचाओ अभियान शुरू हुआ था

पानीपत की धरती से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू हुआ था। वर्ष 2015 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पानीपत आए थे। नारी तू नारायणी उत्थान समिति की अध्यक्ष सविता आर्य का कहना है कि वह बच्चों की सुरक्षा के लिए लगातार अभियान चला रही हैं। नवजात को छोड़कर गई एक मां को उन्होंने पकड़वाया था। आरोपितों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।