IPS अफसरों के तबादलों के संकेत, आइजी भारती अरोड़ा का वीआरएस भी मंजूर

हरियाणा में एक ही स्‍थान पर तीन साल से अधिक समय से कार्यरत अधिकारियों की सूची तैयार कर ली गई है। अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा एक दिसंबर को होंगी रिलीव नए अधिकारी की तलाश शुरू। रेंज और मुख्यालय पर तैनात कई अधिकारी का कार्यकाल हो चुका तीन साल।

Anurag ShuklaMon, 29 Nov 2021 11:05 AM (IST)
आइपीएस अफसरों के तबादले हो सकते हैं।

अंबाला, [दीपक बहल]। हरियाणा राज्य में फैले भ्रष्टाचार को पूरी तरह से खत्म करने के लिए प्रदेश में तीन साल या इससे अधिक समय से एक ही स्थान पर कार्यरत पुलिस कर्मचारी और अधिकारियों की सूची तैयार कर ली गई है। कई रेंज आइजी और एडीजीपी ऐसे हैं जो एक ही स्थान पर तीन साल से अधिक समय से डटे हैं। हाल ही में नौ ऐसे आइपीएस अधिकारियों की सूची सामने आई है। हालांकि आइजी और एडीजीपी को संवेदनशील पदों पर माना जाए या नहीं इसका फैसला राज्य सरकार पर टिका है।

दूसरी ओर अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा एक दिसंबर को रिलीव होंगी। राज्य सरकार ने उनकी वालंटियर रिटायरमेंट स्कीम (वीआरएस) पर मुहर लगा दी है। ऐसे में संभावना है कि राज्य में पुलिस महकमे में तबादले किए जा सकते हैं।

बता दें कि पिछले दिनों प्रदेश के मुख्य सचिव ने सभी विभागों के मुखिया को इस संबंध में पत्र लिखकर तीन साल या इससे अधिक समय से ऐसे पदों पर तैनात अधिकारियों के नाम और पदों का ब्योरा मांगा था। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) पीके अग्रवाल ने भी 19 अक्टूबर को राज्य के सभी आइजी, एसपी, पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखा था। अब इसका पूरा ब्योरा पुलिस मुख्यालय पहुंच चुका है। जिले में तो मौजूदा समय में कोई भी एसपी तीन साल से कार्यरत नहीं हैं, लेकिन रेंज में दो आइजी का नाम सामने आया है।

इन अधिकारियों के एक ही स्थान पर हो चुके तीन साल

एडीजीपी एसके जैन 16 अगस्त 2016 से इसी पद पर कार्यरत हैं, जिन्हें तीन साल से अधिक हो चुके हैं। इसी प्रकार एडीजीपी टेलीकाम आइटी एएस चावला, रोहतक रेंज के आइजी संदीप खिरवार, आइजी इंडियन रिजर्व बटालियन (आइआरबी) भोंडसी डा. हनीफ कुरैशी, पुलिस कमिश्नर पंचकूला स्वर्ण ङ्क्षसह, सीएमएफएस राजेंद्र कुमार, आइजी स्टेट क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एससीआरबी) डा. राजश्री, डीआइजी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) सतीश बालन, एसपी सीआइडी राजकुमार का नाम शामिल हैं।

पारदर्शिता की ओर बढ़े सरकार के कदम

सरकार के कदम पारदर्शिता की ओर बढ़ रहे हैं। यही कारण है कि तीन साल से संवेदनशील पदों पर तैनात कर्मचारियों व अधिकारियों की सूची तैयार हो रही हैं। ऐसा सिर्फ पुलिस महकमे में नहीं नहीं बल्कि अन्य विभागों में भी किया जा रहा है। इन विभागों में ऐसे अफसरों व कर्मचारियों की लिस्ट तैयार हो रही है, जो तीन साल या इससे से अधिक समय से एक ही जगह पर तैनात हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि इन विभागों में भी तबादलों की प्रक्रिया शुरू हो होगी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.