सर्दियों में बढ़ सकता है हार्ट अटैक-ब्रेन स्ट्रोक का खतरा, बरतें सावधानी, इन बातों का रखें ख्याल

सर्दियों में शुगर और बीपी के मरीजों को विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। सर्दी बढ़ने के साथ ही हार्ट अटैक और ब्रैन स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण और इससे बचाव कैसे करना है ये जानने के लिए पढ़ें ये खास रिपोर्ट...

Rajesh KumarSun, 28 Nov 2021 08:40 AM (IST)
सर्दियों में बढ़ जाता है हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक का खतरा।

पानीपत, जागरण संवाददाता। सर्दी बढ़ने के साथ हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ना तय है। सबसे खास बात कि अब ये दोनों की बीमारियां युवाओं को भी चपेट में ले रही हैं। मोटापा के शिकार, शुगर और उच्च रक्तचाप के मरीजों को ज्यादा खतरा रहता है। बेहतर होगा, सर्दी से बचाव करें।

सिविल अस्पताल के प्रिंसिपल मेडिकल आफिसर एवं फिजिशयन डा. संजीव ग्रोवर ने जिला के निवासियों को यह सीख दी है। उन्होंने बताया कि कड़ाके की सर्दी में उम्रदराज लोगों के साथ युवाओं के सीने में दर्द की समस्या बढ़ जाती है। ठंड के मौसम में नसें सिकुड़कर सख्त बन जाती हैं। इससे ब्लड का फ्लो बढ़ जाता है। ब्लड प्रेशर बढ़ने से हार्ट अटैक होने का खतरा भी बढ़ जाता है। मौजूदा माह के पहले पखवाड़े से दूसरे पखवाड़े की तुलना करें तो सीने में दर्द की शिकायत लेकर पहुंचे मरीजों की संख्या बढ़ी है। दोपहिया सवार, कामकाजी लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। सर्दी का मौसम तनाव बढ़ाता है। ऐसी ही स्थित ब्रेन स्ट्रोक में भी बनती है।

सर्दी के मौसम में रक्त संचरण सही से नहीं हो पाता। ब्रेन स्ट्रोक के दौरान दिमाग की कोई एक नस फट जाती है। इसे ही ब्रेन स्ट्रोक कहते हैं।

हार्ट अटैक के लक्षण

-छाती में दर्द

-सांस की दिक्कत

-थकान और घबराहट

-ज्यादा पसीना आना

-मोटापा, शुगर रोग

-पैर में सूजन रहना

-हाई कोलेस्ट्राल और ब्लड प्रेशर

ऐसे करें बचाव

-ठंड में ज्यादा से ज्यादा गरम कपड़े पहनें।

-सिर और मुंह को ढक कर रखें।

-तापमान कम है तो घर से बाहर न निकलें।

-गुनगुना पानी पिएं, ऐसे ही पानी से नहाएं।

-घर में रहकर ही हल्का व्यायाम करें।

-कम से कम दो घंटा धूप का आनंद लें।

-दोपहिया सवार हेलमेट अवश्य पहनें।

-विंगचीटर पहनें ताकि ठंडी हवा न लगे।

-ठंडे पेय पदार्थों को सेवन न करें।

-तैलीय भोजन और जंक फूड न खाएं।

ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण

-ठीक से दिखाई न देना।

-बोलने और समझने में दिक्कत।

-सिरदर्द और चक्कर आना।

-कमजोरी, चलने में दिक्कत।

ब्रेेन स्ट्रोक से बचाव

-धूम्रपान न करें।

-शराब का सेवन न करें।

-तनाव को हावी न होने दें।

-नियमित व्यायाम करें।

-मोटापा न बढ़ने दें।

पढ़ें ये ताजा खबरें... 

Cotton Price Hike: रूई के भाव में तेजी, काटन यार्न भी हुआ महंगा, जानिए वजह

डेस्टिनेशन वेडिंग की पहली पसंद बना करनाल का ये फाइव स्टार होटल, देखें खूबसूरत तस्वीरें

Admission Alert: खुशखबरी, 30 नवंबर तक ITI में लिया जा सकेगा दाखिला, ये दस्तावेज लाने होंगे साथ

Coronavirus Vaccination: यमुनानगर में टीकाकरण को मिलेगी रफ्तार, समाजसेवी संस्थाओं का सहयोग लेगा स्वास्थ्य विभाग

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.