पहाड़ों पर बारिश से पानीपत में आफत, यमुना से सटे गांव का संपर्क कटा, बाढ़ का खतरा

पहाड़ों में जोरदार बारिश का असर नदियों में पड़ रहा है। नदियों का जलस्‍तर लगातार बढ़ रहा है। पानीपत में यमुना का जलस्‍तर बढ़ने से टापू पर बसे रहीमपुर खेड़ी का संपर्क कटा। गांव में ट्यूब से तैर कर पहुंचना भी हुआ मुश्किल खाद्य सामग्री का संकट हो सकता है।

Anurag ShuklaSat, 31 Jul 2021 11:40 AM (IST)
ट्यूब के सहारे यमुना नदी को पार करते ग्रामीण।

पानीपत(सनौली), [उमेश त्यागी]। खतरे के निशान पर बहती यमुना नदी में बढ़ते जलस्तर के चलते टापू पर बसे रहीमपुर खेेड़ी के लोगों का साथ लगते गांवों से संपर्क कट गया है । यमुना नदी में अधिक पानी आने के कारण गांव में इक्का दुक्का तैराक ही जान जोखिम में डालकर ट्यूब, सूखी घीया से तैरकर पहुंच रहे हैं। बच्चों व महिलाओं के लिए बहती नदी को पार कर आना-जाना बंद हो गया है।

अगर दो-चार दिन में पानी कम नहीं हुआ तो गांव रहीमपुर खेड़ी में जरूरत का सामान खत्म हो जाएगा। बरसात के चलते व हथनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने से यमुना नदी का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। यह स्तर अब चेतावनी लेवल तक पहुंच चुका है। बढ़ते जलस्तर के कारण रहीमपुर के लोगों का दूसरे गांवों से संपर्क कट जाता है। गांव में 110 परिवार रहते थे। सुविधाओं की कमी व हर बार नदी में पानी आने से गांव से संपर्क कट जाने से पिछले पांच वर्ष से गांव से 60 घरों से लोग पलायन कर गए हैं। अपने घरो पर ताला लगा कर नदी से बाहर दूसरे गांव मिर्जापुर में जाकर बस गए हैं। पांच वर्ष में एक भी नया मकान नहीं बनाया गया है। गांव में एक भी गली पक्की नहीं है। स्कूल से लेकर अस्पताल तक नहीं है।

जानिए क्‍या कहना है ग्रामीणों का

ग्रामीण मुकेश कुमार, सतपाल, हरी  सिंह, पुरषोत्तम, सतबीरा, सराबा, संजय, रामकुवार, राजेश, कृष्ण, जगबीर, देवेंद्र, दिनेश, राजपाल, महाबीर, प्रेम, राजेश का कहना है कि हर वर्ष यमुना नदी में जल स्तर बढ़ जाने के चलते लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। उनके गांव में ही स्कूल होता तो उन्हें अपने बच्चे दूसरे गांव नहीं भेजने पड़ते। गत वर्ष प्रशासन ने पानी बढऩे पर उनके लिए आने जाने के लिए इंजन बोट मशीन का प्रबंध किया था।

लकड़ी का पुल बनाने की मांग

निवर्तमान सरपंच राकेश कुमार का कहना है कि सरकार से कई बार मांग की है कि यमुना नदी के ऊपर से लकड़ी का पुल बना दिया जाए, ताकि बच्चे मिर्जापुर गांव स्थित स्कूल में पढऩे के लिए आ सकें। राहत सामग्र??ी पहुंचाने के लिए भी नदी पार करके जाने में परेशानी हो रही है। पानी भर जाने पर गांव का संपर्क कट गया है।

टेलीफोन पर कर रहे संपर्क

कानूनगो नरेश कुमार, बीडीपीओ सुरेश कुमार का कहना है यमुना का जल स्तर बढ गया है। टापू पर बसे लोगों से टेलीफोन कर संपर्क किया जा रहा है। पानी कम नहीं हुआ तो उनके लिए इंजन बोट मशीन लगवाने के लिए प्रयास करेंगे।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.