जेल रेडियो में बंदियों को प्रतिभा दिखाने का मौका, अंबाला सेंट्रल जेल में हो रहीं ये तैयारियां

तिनका जेल रेडियो को लेकर अंबाला सेंट्रल जेल में तैयारियां।

अब बंदियों को प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। बंदियों के लिए जेल रेडियो की शुरुआत की जा रही है। अंबाला सेंट्रल जेल में इसके लिए तैयारी भी शुरू हो चुकी है। बंदी जेल में कहानियां व कविताएं भी सुनाएंगे।

Publish Date:Fri, 22 Jan 2021 02:15 PM (IST) Author: Anurag Shukla

पानीपत/अंबाला, जेएनएन। तिनका जेल रेडियो को लेकर सेंट्रल जेल में तैयारियां शुरू हो गई है। अगले हफ्ते अंबाला सेंट्रल जेल में इसकी शुरूआत हो सकती है। वहीं बंदियों को प्रतिभा दिखाने का मिलेगा मौका। हालांकि इस दौरान कैदी-बंदी अपनी समस्याएं अधिकारियों के सामने रखेंगे, वहीं बंदी रेडियो के तहत कहानियां व कविताएं भी सुनाएंगे। इस तरह से उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने का भी मौका मिलेगा।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बता दें तिनका जेल रेडियो का हिस्सा बनने के लिए 12 बंदियों का 21 दिसंबर को फरीदाबाद में ऑनलाइन ऑडिशन हुआ था। जिसमें अंबाला सेंट्रल जेल से छह बंदी सिलेक्ट हुए थे। ट्रेनिंग का मकसद इन बंदियों को रेडियो की जरूरत और उसके महत्व को समझाते हुए रेडियो के मुताबिक कार्यक्रम बनाने के लिए तैयार करना था। बता दें बंदियों को इस स्पेशल ट्रेनिंग में कई प्रकार का वर्क दिया गया जिसमें उन्होंने बखूबी से करके दिखाया। जिन बंदियों को इसकी ट्रेनिंग दी गई वह भी अब दूसरे बंदियों के लिए प्रेरणास्त्रोत बनेंगे। बताया जा रहा ट्रेनिंग ले चुके बंदी अन्य बंदियों का एक-एक ग्रुप तैयार करेंगे जिसमें रेडियो से जुड़ी जानकारियां देंगे। 

ये भी पढ़ें: मूवी स्क्रिप्‍ट से कम नहीं थी पेपर लीक की प्‍लानिंग, चाय वाले से लेकर सब इंस्‍पेक्‍टर शामिल

इस तरह स्थापित होगा रेडियो

तिनका जेल रेडियो के अनुसार इस प्रोजेक्ट से बाहर के लोग इससे जुड़ नहीं सकेंगे तथा बैरक के बाहर लगे स्पीकर के जरिए सभी रेडियो को सुना जाएगा। इसमें रोजाना एक घंटे का कार्यक्रम होगा, जिसमें कानून, सेहत और संगीत से जुड़े कार्यक्रम होंगे। बंदी अपनी कविताएं और कहानियां भी सुनाएंगे। बंदी अपनी फरमाइश या सवाल लिखकर दे सकेंगे जिसका जवाब अगले कार्यक्रम में दिया जाएगा। जेल में रेडियो के जरिए बंदी अपनी प्रतिभा को तराशेंगे। अंबाला सेंट्रल जेल में इस प्रोजेक्ट की शुरूआत 20 जनवरी को होगी जिसमें उच्च अधिकारियों के पहुंचने की संभावना है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.