कुरुक्षेत्र-नरवाना रेल सेक्शन पर पैसेंजर ट्रेनों का संचालन ठप, रेलवे को घाटा, यात्री परेशान

कुरुक्षेत्र नरवाना रेलवे सेक्‍शन पर पैसेंजर ट्रेनों का संचालन शुरू नहीं हो सका है। इसे रेलवे को घाटा होने के साथ यात्रियों को परेशानी हो रही है। कुरुक्षेत्र-नरवाना रेल मार्ग पर हो रहा केवल एक ही इंटरसिटी ट्रेन का संचालन। इसमें भी सवारियां हैं कम।

Anurag ShuklaPublish:Mon, 29 Nov 2021 09:30 AM (IST) Updated:Mon, 29 Nov 2021 09:30 AM (IST)
कुरुक्षेत्र-नरवाना रेल सेक्शन पर पैसेंजर ट्रेनों का संचालन ठप, रेलवे को घाटा, यात्री परेशान
कुरुक्षेत्र-नरवाना रेल सेक्शन पर पैसेंजर ट्रेनों का संचालन ठप, रेलवे को घाटा, यात्री परेशान

कैथल, [कमल बहल]। कोरोना महामारी की शुरूआत से ही कुरुक्षेत्र-नरवाना रेल सेक्शन पर पैसेंजर ट्रेनों का संचालन बंद किया गया है। अब महामारी कम हुई है, लेकिन इस रूट पर अभी तक रेलवे ने एक भी पैसेंजर ट्रेन चलाने का कोई फैसला नहीं लिया है। ऐसे वर्तमान में यहां पर केवल एक ही इंटरसिटी जयपुर-दौलतपुर चौक इंटरसिटी ट्रेन का संचालन किया जा रहा है। परंतु इस ट्रेन में भी सवारियां काफी कम है। वहीं, पैसेंजर ट्रेनों का संचालन न होने की स्थिति में पिछले डेढ़ साल से रेलवे को लाखों रुपये फटका लगा है। इन ट्रेेनों के संचालन से अकेले कैथल रेलवे स्टेशन पर एक महीने में पांच से छह लाख रुपये की आमदनी हो जाती थी। परंतु अब यह आमदनी घटकर केवल 50 हजार से एक लाख रुपये तक ही रह गई है।

डेढ़ साल में करीब एक करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। यह आमदनी भी यहां से गुजरने वाली एकमात्र इंटरसिटी जयपुर-दौलतपुर चौक तक जाने वाली ट्रेन से हो रही है। बता दें कि कोरोना महामारी से पहले सामान्य दिनों में इस रूट से कुल 12 ट्रेनाें का संचालन होता था। जिसमें एक इंटरसिटी ट्रेन व दूसरी देश की राजधानी दिल्ली में जाती थी। जबकि अन्य आठ ट्रेनें कुरुक्षेत्र-जींद रूट पर चलती थी, यह ट्रेनें पैसेंजर ट्रेन हैं। इन पैसेंजर ट्रेनों के संचालित न होने की स्थिति में कैथल व इसके आस-पास स्थित क्षेत्र यात्री ट्रेन के माध्यम से कुरुक्षेत्र, नरवाना और जींद में नहीं जा सकते हैं। उन्हें अधिक किराया देकर बसों के माध्यम से यहां पहुंचना पड़ता है।

दिल्ली जाने वाली ट्रेन को बनाया था एक्सप्रेस, परंतु नहीं हुआ इसका संचालन

उत्तर रेलवे द्वारा कुरुक्षेत्र से दिल्ली वाया कैथल, नरवाना व जींद से होकर जाने वाली ट्रेन को एक्सप्रेस बनाया गया था। यह घोषणा रेलवे ने जून महीने में की थी। परंतु इसका संचालन शुरू नहीं किया गया। कुरुक्षेत्र-नरवाना रूट पर वर्तमान में केवल मालगाड़ी का ही संचालन किया जा रहा है। यात्रियों की इस रूट पर बंद हुई पैसेंजर ट्रेनों का जल्द ही संचालन करने की मांग की है।

ट्रेनों का संचालन करने का फैसला आला अधिकारियों द्वारा लिया जाता है। वह आला अधिकारियों के दिशा-निर्देशों के तहत ही कार्य करते हैं। ट्रेनों का संचालन नहीं होने के कारण इस रूट पर स्थित स्टेशनों की आमदनी कम हुई है। जैसे ही ट्रेनों संचालन होगा तो यहां पर स्टेशनों की आमदनी भी बढ़ेगी।

विनोद कुमार, टिकट इंचार्ज, रेलवे स्टेशन, कुरुक्षेत्र।