Haryana Panipat Murder Case: पानीपत में दहशत के वो 15 मिनट, 15 सेकंड में छात्र की बेरहमी से कर दी हत्‍या

पानीपत में 11वीं के छात्र की हत्‍या।

Haryana Panipat Murder Case पानीपत में ज्यादा चौधरी न बन इस तंज की वजह से पानीपत में छात्र की जान चली गई। शहर थाने के पास खूनी गुंडागर्दी हुई। 11वीं के छात्र की सुआ घोंपकर हत्या कर दी गई। बदमाश हथियार लहराते फरार हुए।

Anurag ShuklaFri, 26 Feb 2021 02:50 PM (IST)

पानीपत, जेएनएन। Haryana Panipat Murder Case: थाना शहर से 50 मीटर दूर सुखदेव नगर में जितेंद्रा अस्पताल के पास वीरवार को 11वीं कक्षा के छात्र 17 वर्षीय सागर कुंडू की सुआ घोंपकर हत्या कर दी गई। सुए के दो वार सीने में और एक पीठ पर किया गया। हमला सात से आठ बदमाशों ने किया था। आशंका है कि इनमें कुछ युवक आइटीआइ या नीलोखेड़ी के पोलटेक्निक कालेज के हो सकते हैं।

सागर का एक महीने पहले बस स्टैंड पर ही इन युवकों के साथ झगड़ा हुआ था। उसी जगह पर सागर की हत्या कर दी गई। वारदात सीसीटीवी कैमरे में रिकार्ड हो गई है। वह बार-बार चिल्लाता रहा कि उसे मत मारो। पर हमलावरों ने उसकी एक नहीं सुनी। 24 जनवरी को सागर 17 साल का हुआ था। वारदात 2:45 बजे की है। हत्यारे युवकों ने वारदात स्थल से करीब 80 मीटर दूर डीके प्लेसमेंट एंड आनलाइन वर्क एकेडमी की बिल्डिंग में हथियारों से भरा बोरा छिपा दिया था। इसमें डंडे, धारदार हथियार थे। वारदात के बाद ये हथियार लहराते हुए फरार हो गए। पंद्रह मिनट तक उनकी बाजार में दहशत रही। कई आरोपितों को हिरासत में ले लिया गया है लेकिन पुलिस इसकी पुष्ट नहीं कर रही। विडंबना तो ये भी है कि सागर के पिता की भी दस साल पहले हत्या की गई थी।

माडल टाउन के कृष्णा नगर निवासी राजेश कुमार उर्फ राजू ने पुलिस को बताया कि एक महीना पहले बस स्टैंड पर सागर की कोहंड के सोनू, बड़ौली के आर्यन, लोहारी के शेखर, सैनी कालोनी के रोहित व अन्य पांच-छह युवकों के साथ कहासुनी हो गई थी। सागर ने सोनू को कह दिया था कि ज्यादा चौधरी न बना कर। इस बात को लेकर रंजिश बढ़ गई। सोनू ने सागर को चेतावनी दी थी कि वह उसे देख लेगा। राजेश ने पुलिस को बताया कि वह भांजे के साथ बस स्टैंड के पास किसी काम से आए थे। वह बाजार चले गए। सागर वहीं रह गया था। कुछ देर बाद लौटे तो पता चला कि ये वारदात हो गई।

शौच करने गए थे, हत्या की खबर आ गई

राजाखेड़ी गांव के प्रदीप ने बताया कि उसका तीन साल से बस स्टैंड के पास ब्लैक डोर कैफे हाउस है। डेढ़ साल से न्यू मुखीजा कालोनी का सागर कुुंडू दोस्त है। सागर, दोस्त जलमाणा का नवीन और पसीना गांव का सौरव कैफे हाउस पर थे। कैफे में शौचालय नहीं है। इसी वजह से तीनों दोस्त शौचालय जाने के लिए बस स्टैंड पहुंचे। बाद में पता चला कि इनके ऊपर हमला हो गया। सौरव और नवीन तो सालारजंग गेट की तरफ चले गए। जितेंद्र अस्पताल के पास ठकराल इलेक्ट्रोनिक्स के पास सागर इन्हीं दोनों को फोन करने लगा। तभी बस स्टैंड की तरफ से सात-आठ युवक आए। आगे चल रहे दो युवकों ने घेर लिया। एक ने हाथ पकड़ लिए और दूसरे ने पैंट की जेब से सुआ निकाला और सीने पर दो वार किए। छूटकर सागर भागा और जमीन पर गिरा। युवक ने कूदकर मुंह पर लात मारी। सात-आठ युवकों ने लात-घूंसे मारे।

पीठ में ही अटक गया सुआ, कोई बचाने नहीं आया

उनके चंगुल से छूटकर सागर ठकराल इलेक्ट्रोनिक्स की दुकान में घुसा। युवकों ने दुकान से खींचकर बाहर निकाला और पीठ में सुआ घोंप दिया। सुआ पीठ में ही अटक गया। सागर कहता रहा कि उसने झगड़ा नहीं किया। उसे कोई बचाने नहीं आया। सागर पहले खड़ा हुआ और नीचे बैठा तो एक राहगीर महिला व पुरुष ने पीठ से सुआ निकाला और जमीन पर फेंक दिया। व्यापारियों और दुकानदारों ने विरोध किया तो आरोपित युवक भाग गए। दो युवकों ने मुंह पर रुमाल बांध रखा था। राहगीरों व व्यापारियों ने घायल सागर को ई-रिक्शा से सामान्य अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। शुक्रवार को शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

ढाई घंटे बाद पहुंची पुलिस, बरामद बैग में मिला नीलोखेड़ी का पता

वारदात थाना शहर के नजदीक ही हुई थी। पुलिस ढाई घंटे बाद मौके पर डीएसपी वीरेंद्र सैनी, थाना शहर प्रभारी योगेश कुमार, सीआइए-वन प्रभारी राजपाल सिंह और सीआइए-टू प्रभारी वीरेंद्र कुमार मौके पर पहुंचे। पुलिस को एक बैग मिला। इसमें मिले कागज में नीलोखेड़ी का पता मिला है। बैग में हथियार भी मिले हैं, लेकिन पुलिस पुष्टि नहीं कर रही है। पुलिस नीलोखेड़ी दबिश दे रही है।

आरोपित बोरे में लाए थे हथियार, नया खरीदकर लाए था सुआ

प्रत्यक्षदर्शी बनारसी दास ने बताया कि उन्होंने कुछ हमलावरों को देखा था। बोरे में लाठी-डंडे व गंडासी, चेन व अन्य हथियार लिए हुए थे। वारदात में इस्तेमाल सुआ भी नया खरीदकर लाए थे। एक युवक दूसरे को कह रहा था, सारे हथियार ले लिए न। युवकों ने जैसे ही सागर को देखा वे उसकी तरफ भाग लिए। तब सागर मोबाइल फोन से किसी से बात कर रहा था। एक युवक ने सुआ घोंप दिया। यहां दो दिन से कुछ युवक चक्कर लगा रहे थे। कोचिंग और प्लेसमेंट सेंटर में आने वाले कुछ युवक यहां दबंगई करते हैं। इन्हें कुछ कहते हैं तो मारपीट पर उतारू हो जाते हैं।

वारदात से 15 मिनट पहले हुई थी दोस्त से बात

सागर के घर के पास रहने वाले आकाश ने बताया कि 2:30 बजे सागर को काल की थी कि नया बैंक अकाउंट खुलवाया है। उसके डेबिट कार्ड का पिन सेट करने के लिए सागर को साथ चलने के लिए कहा। तब सागर ने कहा कि वे बस स्टैंड पर है। कुछ देर बाद घर लौट आएगा।

पिता राजबीर की 2010 में हुई थी हत्या

सागर का मूल गांव जींद का कालवा है। उसका परिवार रोहतक की हनुमान कालोनी में रहता था। उनके पिता राजबीर कुंडू ट्रांसपोर्ट का काम करते थे। बदमाशों ने कार किराये पर ली और लूटने का प्रयास किया। राजबीर ने विरोध किया तो चाकू से वार करके हत्या कर दी। इसके बाद परिवार पहले छोटे मामा राजू निवासी माडल टाउन के पास रहा और छह साल पहले न्यू मुखीजा कालोनी में रहने लगे।

मां को नहीं बताया, सागर की हत्या हो गई

सागर के मामा राजू ने बताया कि बहन पूनम को सागर की हत्या के बारे में नहीं बताया गया। उन्हें बताया है कि सागर सड़क हादसे में घायल हो गया है और दिल्ली के अस्पताल में दाखिल है। सागर का बड़ा भाई देवेंद्र अंबाला की एक कंपनी में काम करता है। प्रापर्टी डीलर मामा राजू ही परिवार का पोषण कर रहा था।

अब भाई कबड्डी के मैदान में नहीं उतर पाएगा

देवेंद्र ने बताया कि मंगलवार रात को सागर से काल की थी कि पढ़ाई पर ध्यान दे। पढ़ाई के साथ-साथ कबड्डी भी खेलता रहे। अगर शिक्षा में सफल न हुआ तो अच्छा खिलाड़ी बन। तब भाई ने वादा किया था कि वह खेले में नाम रोशन करेगा। अब भाई खेल के मैदान में नहीं उतर पाएगा। इतना कहते ही देवेंद्र की आंखें नम हो गई

 आठ महीने पहले प्रदीप के कैफे में हुई थी तोडफ़ोड़

आठ महीने पहले सात-आठ युवकों ने प्रदीप के कैफे में घुसकर मारपीट की और जमकर तोडफ़ोड़ की थी। वारदात सीसीटीवी कैमरे में रिकार्ड हो गई थी। सागर इस कैफे पर अक्सर आता था।

कई आरोपितों की पहचान कर ली गई है। जल्द ही आरोपितों को काबू कर हत्या के असल कारण का पता लगाया जाएगा।

वीरेंद्र सैनी, डीएसपी सिटी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.