गोवा से प्लेन में बैठकर पानीपत पहुंची नाबालिग, प्रेमी ने बनाया हवस का शिकार

पानीपत में प्रेमी ने किशोरी के साथ दुष्‍कर्म किया।

पानीपत में दोस्‍ती प्‍यार और दुष्‍कर्म का गंदा खेल सामने आया। गोवा से मिलने आई किशोरी को प्रेमी ने हवस का शिकार बनाया। गोवा से प्लेन में बैठकर किशोरी मिलने पहुंची। यहां प्रेमी ने उसके साथ दुष्‍कर्म की वारदात की।

Publish Date:Tue, 19 Jan 2021 04:26 PM (IST) Author: Anurag Shukla

पानीपत, जेएनएन। हाली कालोनी के 17 वर्षीय किशोर की साउथ गोवा (एनटीएसगेट) वासी 14 वर्षीय किशोरी से इंटरनेट मीडिया ईमो के जरिये चैटिंग शुरू हुई। दोस्ती परवान चढ़ी और दोनों एक-दूसरे से प्रेम करने लगे। किशोरी गोवा से फ्लाइट के जरिये नई दिल्ली पहुंची। वहां से टैक्सी करके शुक्रवार को पानीपत पहुंची। किशोर ने फ्लाईओवर के नीचे अपने दोस्त की कार में उसके साथ पूरी रात रहा और किशोरी के साथ दुष्कर्म किया।

किशोरी अपने घर से आठ हजार रुपये चुराकर लाई थी। बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) ने किशोरी को गोवा पुलिस के सुपुर्द किया है। दोनों की चैटिंग अगस्त-2020 में शुरू हुई थी। समिति सदस्य डा. मुकेश आर्य ने बताया कि 15 जनवरी को करीब डेढ़ बजे किशोरी गोवा से इंडिगो की फ्लाइट में बैठी, तीन बजे दिल्ली पहुंची। टैक्सी में बैठकर पानीपत बस अड्डा पहुंची। प्रेमी अपने दोस्त के साथ कार में उसका इंतजार करता मिला। दोनों ने मिलकर पहले किशोरी को शहर में घुमाया।

किशोरी ने घर लेकर चलने की जिद की तो पहले हरिद्वार घूमने की बात कहकर उसे फ्लाईओवर के नीचे पार्किंग में लेकर आए। रातभर कार में ही रहे, प्रेमी ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया। शनिवार को उसे अपने घर लेकर गया। रविवार को लड़के के सौतेले पिता ने किला थाने में प्रकरण की सूचना दी। पुलिस ने सीडब्ल्यूसी को मामला बताकर किशोरी को वन स्टाप सेंटर में भिजवाया। सीडब्ल्यूसी ने किशोरी के माता-पिता को फोन कर जानकारी दी। साउथ गोवा के वासको थाना में एफआइआर दर्ज थी। सोमवार को किशोरी की मां और भाई गोवा पुलिस के साथ कार्यालय पहुंचे। दस्तावेज जांचने के बाद किशोरी को पुलिस के सुपुर्द कर दिया। आरोपित लड़के को भी पुलिस ले गई।

दुष्कर्म की पुष्टि

सीडब्ल्यूसी के निर्देश पर किला थाना पुलिस ने किशोरी का सोमवार को सिविल अस्पताल में मेडिकल कराया। सीडब्ल्यूसी चेयरपर्सन एडवोकेट पदमा रानी के मुताबिक रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि हुई है। किला थाना और गोवा पुलिस एफआइआर, मेडिकल रिपोर्ट और सीडब्ल्यूसी के समक्ष दिए किशोरी के बयानों के आधार पर जांच कर रही है।

जेजे बोर्ड में पेश किया आरोपित

आरोपित किशोर को जुवेनाइल जस्ट््िस बोर्ड के समक्ष भी पेश किया गया। किला थाना और गोवा पुलिस के पास लड़के की आयु का कोई दस्तावेज नहीं था। आधार कार्ड दिखाया, वह मान्य नहीं है। बोर्ड की सदस्य मालती अरोड़ा ने बताया कि जब तक आयु के दस्तावेज पेश नहीं किए जाते, सुनवाई नहीं कर सकते।

आरोपित बाल श्रमिक पुनर्वास केंद्र मे रह चुका है

चाइल्ड लेबर प्रोजेक्ट पर काम करने वाली संस्था एडेंट सोशल वेलफेयर ने वर्ष-2010 में आरोपित किशोर व उसके भाई को बाल श्रम से मुक्त कराया था। इससे पहले ही इनके पिता की मौत हो चुकी थी। दोनों शिवनगर स्थित बाल श्रमिक पुनर्वास केंद्र में वर्ष 2014 तक रहे। संस्था के स्कूल में पढ़े। इसके बाद मां अपने साथ ले गई थी। 

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.