कोरोना का कहर... कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में 30 अप्रैल तक के लिए ऑफलाइन कक्षाएं बंद

कुरुक्षेत्र में भी कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इसलिए कुवि प्रशासन ने यह फैसला लिया है।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने ऑफलाइन कक्षाएं 30 अप्रैल तक के लिए बंद कर दी हैं। यूनिवर्सिटी के हॉस्टल भी खाली होने लगे हैं। 20 अप्रैल से एक माह के लिए चौथे सेमेस्टर की आफलाइन कक्षाएं शुरू होनी थीं। कोरोना के चलते यह फैसला लिया गया है।

Umesh KdhyaniSun, 18 Apr 2021 08:25 AM (IST)

कुरुक्षेत्र, जेएनएन। कोरोना के मामले लगातार बढ़ने पर एक बार फिर कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में आफलाइन कक्षाएं बंद हो गई हैं। हरियाणा उच्चत्तर शिक्षा विभाग की ओर से गाइडलाइंस जारी होते ही कुवि ने 30 अप्रैल तक सभी प्रकार की आफलाइन शैक्षणिक गतिविधियां बंद कर दी हैं। कुवि के फैसले को देखते हुए कुवि के छात्रावास भी खाली होने शुरू हो गए हैं। छात्रावासों में ठहरे छात्रों ने घरों की ओर रुख करना शुरू कर दिया है।

गौरतलब है कि कोविड के चलते इस सत्र में ज्यादातर पढ़ाई आनलाइन करवाई गई। इसके साथ ही 25 फरवरी के बाद प्रथम सेमेस्टर के विद्यार्थियों के लिए आफलाइन कक्षाएं शुरू करने के साथ-साथ उन्हें छात्रावास सुविधा  उपलब्ध करवाई गई। 31 मार्च तक कक्षाएं लगने के बाद 15 अप्रैल तक प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं ली गई। परीक्षाओं के लिए आफलाइन और आनलाइन दोनों मोड की सुविधा मिलने पर कई विभागों में विद्यार्थियों ने आफलाइन परीक्षाओं में हिस्सा लिया। इसके बाद 20 अप्रैल से चौथे सेमेस्टर की विद्यार्थियों की आफलाइन कक्षाएं शुरू की जानी थी। इन्हीं विद्यार्थियों को छात्रावास अलाट करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई थी।

ऐन मौके पर बदलना पड़ा फैसला

देश के साथ-साथ प्रदेश में भी लगातार कोरोना के मामले बढ़ने पर कुवि प्रशासन को एन मौके पर अपना फैसला बदलना पड़ा। कुवि ने अब 30 अप्रैल तक सभी तरह की आफलाइन शैक्षणिक गतिविधियों पर रोक लगा दी है।

उच्चत्तर शिक्षा विभाग की गाइडलाइंस के अनुसार लिया फैसला

कुवि लोक संपर्क विभाग के उपनिदेशक डा. दीपक राय बब्बर ने बताया कि उच्चत्तर शिक्षा विभाग की गाइडलाइंस के अनुसार कुवि ने 30 अप्रैल तक सभी तरह की आफलाइन शैक्षणिक गतिविधियों पर रोक लगा दी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.