Karnal Kisan Andolan: दिन भर किसान नेताओं ने भरा जोश, अब अगले कदम पर टिकी निगाहें

करनाल में लघु सचिवालय के बाहर किसानों का प्रदर्शन जारी है। दिनभर किसान नेताओं ने धरने पर बैठे लोगों में जोश भरा। सुबह से संबोधन का सिलसिला जारी रहा तो शाम को सरकार की ओर से उच्चाधिकारियों के साथ किसान नेताओं की बैठक पर सभी की निगाहें टिकी रहीं।

Rajesh KumarFri, 10 Sep 2021 08:26 PM (IST)
करनाल लघु सचिवालय के बाहर चौथे दिन भी जारी रहा किसानों का प्रदर्शन।

करनाल, जागरण संवाददाता। अपनी मांगों को लेकर जिला सचिवालय के समक्ष किसानों का पड़ाव चौथे दिन भी जारी रहा। दिन भर किसान नेताओं ने धरने पर बैठे लोगों में जोश भरा। सुबह से संबोधन का सिलसिला जारी रहा तो शाम को सरकार की ओर से उच्चाधिकारियों के साथ किसान नेताओं की बैठक पर सभी की निगाहें टिकी रहीं। पड़ाव का नेतृत्व कर रहे गुरनाम सिंह चढूनी की मौजूदगी में किसान नेता सुरेश कौथ ने करीब पांच बजे एलान किया कि सरकार की ओर से बातचीत की पेशकश आई है, जिसके लिए चंडीगढ़ से उच्चाधिकारी भेजे गए है तो माहौल एकाएक बदला हुआ दिखाई दिया।

अनुशासन का पाठ पढ़ाया

वहीं किसान नेता दिन भर किसानों को एकजुट रहकर अनुशासन के साथ आंदोलन चलाने के लिए आह्वान करते रहे। किसानों को मुख्य रुप से गुरनाम सिंह चढूनी व सुरेश कौथ के अलावा पंजाब के होशियारपुर जिला के अंर्तगत गढ़शंकर विधान सभा क्षेत्र से विधायक यशपाल सिंह राहू, पंजाब से ही मनजीत सिंहज बेरवाल, रणजीत सिंह बाजवा ,करनाल से जगदीप सिंह ओलख, रामपाल चहल सहित अन्य किसान नेताओं ने भी संबोधित किया और कहा कि आंदोलन लगातार मजबूत होता जा रहा है। यह किसानों की एकजुटता का ही परिणाम है कि सरकार के भी होश उड़े हुए है, जिसके चलते इतनी फोर्स को तैनात किया गया है। अधिकारियों की रात की नींद उड़ चुकी है।

पंजाबी अभिनेत्री सोनिया मान ने किसानों के बीच मनाया जन्मदिन

पंजाबी अभिनेत्री व सिंगर सोनिया मान धरना स्थल पहुंचीं। उन्होंने कहा कि आज हर वर्ग के लोग किसानों के साथ खड़े हैं। सरकार को झुकना ही होगा। किसानों का पिछले करीब नौ माह से चल रहा आंदोलन लगातार मजबूत होता जा रहा है। उन्होंने घरौंडा क्षेत्र के मृतक किसान सुशील काजल के परिवार को 50 हजार की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया तो किसानों के बीच ही जन्म दिन मनाया। गुरनाम चढ़ूनी की मौजूदगी में केक काटा गया। उनके साथ सेल्फी लेने की होड़ रही।

नारेबाजी के बीच समर्थन देने पहुंचे वकील

कोर्ट परिसर से दर्जनों वकील नारेबाजी करते हुए धरना स्थल पर पहुंचे। बसताड़ा टोल प्लाजा पर लाठीचार्ज में घायल मनीष लाठर ने कहा कि सरकार के ईशारे पर ही यह सब हो रहा है। इस मामले को लेकर उन्होंने हाईकोर्ट की शरण ली है, जिसमें कोर्ट ने 17 सितंबर को प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है।

आइजी व एसपी करते रहे निगरानी

जहां एक ओर किसानों का पड़ाव चला तो जिला सचिवालय के आसपास शुक्रवार को भी कड़ा सुरक्षा पहरा रहा। अर्धसैनिक व पुलिस के जवानों की 30 कंपनियां हर रोज की तरह अल सुबह से देर शाम तक तैनात रहीं। वहीं रात के लिए 10 कंपनियों को सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा सौंपा गया। आइजी ममता सिंह व एसपी गंगा राम पूनिया खुद सुरक्षा निगरानी करते रहे। जिला सचिवालय के मुख्य गेट पर पानीपत एसपी शशांक कुमार सावन के नेतृत्व में जवान तैनात रहे। भारी संख्या में महिला सुरक्षा कर्मी भी तैनात रहीं।

कभी रागनी तो कभी नाटक से मनोरंजन

धरना दे रहे किसानों का कभी नाटक तो कभी रागनियों व गीताें से भी मनोरंजन किया गया। ये गीत व नाटक भी किसान आंदोलन व वर्तमान हालात से ओतप्रोत रहे और इनके जरिए किसानों को आंदोलन मजबूती से चलाने का आह्वान किया गया।

अचानक बेहोश होकर गिरा एसआई

जिला सचिवालय के बाहर सुरक्षा में तैनात एक एसआई अचानक ही बेहोश होकर गिर पड़ा, जिससे अन्य पुलिस कर्मियों में हड़कंप मच गया। उसे तत्काल एंबुलेंस से कल्पना चावला राजकीय अस्पताल लेे जाकर उपचाराधीन कराया गया। एसआई रघुवीर सिंह गुरूग्राम पुलिस से है। बताया जा रहा है कि उसे मिर्गी का दौरा पड़ा था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.