top menutop menutop menu

पानीपत में नकली कोल्‍ड ड्रिंक ड्यू मामले में नया मोड़, अब अंबाला पुलिस राज का करेगी पर्दाफाश

पानीपत, [विजय गाहल्याण]। पसीना रोड स्थित एएफबी इंटनेशनल प्राइवेट लिमिटेड में नकली कोल्ड ड्रिंक बनाने के मामले की जांच एसआइटी से लेकर अंबाला पुलिस को सौंप दी गई है। एसआइटी ठीक से काम कर रही थी तो फिर जांच क्यों बदल दी गई। क्या मामले पर रफूगिरी शुरू हो गई है। इस बारे में पुलिस के आला अधिकारी भी चुप्पी साधे हुए हैं। इस मामले में हाई प्रोफाइल लोग नामजद हैं। डीएसपी मुख्यालय सतीश कुमार वत्स की निगरानी में एसआइटी (स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम) जांच कर रही थी। फैक्ट्री मालिक अतुल कुमार सक्सेना और उसके साथी गुलशन उर्फ गुल्लू जेल में है। छह आरोपितों को एसआइटी काबू नहीं कर पाई। ठिकानों का पता लगाने के लिए आरोपितों के स्वजनों और परिचित लोगों पर दबाव बनाया जा रहा था। 

 एक महीने तक एसआइटी ने 22 जगह छापेमारी की

एसएआइटी ने एक महीने में मामले में नामजद आरोपित अंसल सुशांत सिटी के पंकज अरोड़ा, उसके भाई नीरज अरोड़ा, कर्ण मदान, जितेंद्र थन्ही, सुरेश कुमार और सौरभ मनचंदा की तलाश में संभावित ठिकानों देहरादून, कैथल, जींद, सफीदों, करनाल सहित 22 जगहों पर दबिश दी। नतीजा शून्य रहा। एसआइटी ने जांच तेजी से आगे बढ़ाई तो केस को अंबाला ट्रांसफर कर दिया गया। 

अतुल कुमार और गुलशन की जमानत याचिका हो चुकी है खारिज

एसआइटी इंचार्ज डीएसपी सतीश कुमार वत्स ने बताया कि आरोपित अतुल कुमार सक्सेना और गुलशन ने जमानत के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी। पुलिस ने केस की पैरवी की तो दोनों की याचिका खारिज हो चुकी है। फरार आरोपितों की जमानत भी नहीं हो सकती है। केस की जांच अंबाला क्यों बदल दी गई है, ये तो आला अधिकारियों का काम है। उसकी टीम ने अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई है। 

यह है मामला

5 जून की रात को सीआइए-थ्री ने पसीना रोड स्थित एएफबी इंटनेशनल प्राइवेट लिमिटेड में छापा मारा। यहां जेटा ग्रीन लैमन सोडा व कोल्ड ङ्क्षड्रक बनाने का लाइसेंस ले रखा था, लेकिन ड्यू की बोतलें तैयार करके सप्लाई की जा रही थी। मौके से नकली माउंटेन ड्यू की करीब 38 हजार 286 बोतलें व करीब 60 हजार खाली बोतलें बरामद की। दो आरोपित फैक्ट्री मालिक दीवार फांदकर भाग गए। सेक्टर-29 थाना पुलिस ने अतुल कुमार सक्सेना सहित आठ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया। एसपी मनीषा चौधरी ने मामले की जांच एसआइटी को सौंप दी थी। एसआइटी ने कुरुक्षेत्र व कैराना से नकली माउंटेन ड्यूटी की बोतलें बरामद की थी।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.