संजय छौक्कर ने कांग्रेसियों पर ही साधा निशाना

जागरण संवाददाता, समालखा : प्रदेश कांग्रेस के महासचिव संजय छौक्कर ने बदलाव रैली में अपनों पर ही निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यहां से वह ही असली कांग्रेसी हैं। उन्होंने राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला को भावी सीएम बताया। वहीं विपक्षियों के साथ पूर्व सीएम व पूर्व विधायक का नाम लिए बिना शब्दबाण चलाए। खुद को न जिताने का दर्द भी झलका। खुद को असली कांग्रेसी होने का तमगा देते हुए कहा कि समालखा से मैं ही असली कांग्रेसी हूं।

हर सरकार बनने पर उतरी हरियाणा के लोगों के साथ भेदभाव होता आया है। जबकि सरकार यहीं के लोगों से बनती है। उन्होंने हुड्डा का नाम लिये बिना कहा कि कांग्रेस के 10 साल के शासनकाल में भेदभाव हुआ। छौक्कर ने पूर्व विधायक पर भड़ास निकाली। उन्होंने वर्तमान विधायक पर भी निशाना साधा।

-------

विधायक का पलटवार

विधायक रवींद्र मच्छरौली ने संजय छौक्कर पर पलटवार करते हुए कहा कि वह सच्चे मन से जनता की सेवा करने के लिए राजनीति में आए हैं। संजय एक सिजनेबल नेता हैं।

------

जनता सब जानती है : धर्म सिंह

संजय छौक्कर के बयान के बाद पूर्व विधायक धर्मसिंह छौक्कर ने कहा कि वह कांग्रेस के सच्चे सिपाही हैं। असली-नकली का प्रमाण देने की जरूरत नहीं है। जनता सब जानती है।

---------

किसानों से अन्याय कर रही सरकार : रणदीप

रैली में कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी ने कहा कि समालखा को डार्क जोन घोषित कर किसानों को नलकूप कनेक्शन नहीं देना उनके साथ अन्याय है। सरकार को यमुना के बरसाती पानी को नहर के जरिए लाकर स्थानीय भूजलस्तर को बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पानीपत की ऐतिहासिक धरती हमेशा से बदलाव की गवाह रही है। उन्होंने कहा कि सीएम मनोहर लाल ने पानीपत में शुगर मिल की नींव रखी थी, लेकिन अब उसे बनाने से सरकार मुकर रही है। कांग्रेस की सरकार आने पर सबसे पहले पानीपत में शुगर मिल का काम शुरू होगा। किसानों के एक लाख तक के कर्जे माफ होंगे। रैली को बचन ¨सह आर्य, भूपेंद्र फौगाट, सुमित्रा चौहान, एसी चौधरी, शिव शंकर भारद्वाज, सुरेश गुप्ता, राजेश वाल्मीकि आदि ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर राकेश गाहल्याण, सुल्तान ¨सह, बीणा राठी, सुरेश राठी, राजेश चौधरी, श्रीप्रकाश बंसल, रमेश और सुरेंद्र ढोडपुर आदि मौजूद थे।

--------

रैली में दिखी स्थानीय लोगों की कमी

रैली में स्थानीय लोग कम ही थे। मंच पर अव्यवस्था का माहौल था। सुरजेवाला का स्वागत करने वालों का तांता लगा रहा। होर्डिंग्स पर सुरजेवाला के सिवाय अन्य नेताओं के फोटो नहीं थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.