Haryana Murder News: पूरे गांव के सामने किया बेइज्जत, मार दी गोली

करनाल के गोल्डी हत्याकांड में पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपित को अदालत में पेश कर पांच दिन के रिमांड पर लिया है। जिसमें आरोपित से हत्या से जुड़े कारणों का पता किया जाएगा। आरोपित के अन्य साथियों के लिए पु्लिस की छापेमारी जारी है।

Naveen DalalSat, 04 Dec 2021 06:36 PM (IST)
सीआइए टू टीम द्वारा काबू किया गया आरोपित अजीत सिंह उर्फ जीत।

करनाल, जागरण संवाददाता। करनाल के गांव गोंदर में गोल्डी हत्याकांड को अंजाम देने का आरोपित अजीत सिंह उर्फ जीत वारदात करते ही कार में सवार होकर पुलिस से बचने के लिए रात को ही पहले सहारनपुर जिला के गांव रणखंडी अपने मामा के घर पहुंचा, जहां उसने कार पड़ौस में ही एक जानकार के घर खड़ी कर दी थी। उसी से ही उसने वारदात में प्रयोग की गई अवैध पिस्तौल करीब छह माह पहले खरीदी थी। सुबह होते ही बस में सवार होकर वह एक अन्य रिश्तेदारी ग्रेटर नोएडा पहुंच था और वहां से भी वह सेक्टर छह रोहिणी, दिल्ली बहन के घर पहुंच गया था।

पांच दिन के पुलिस रिमांड पर, अन्य आरोपितों की तलाश में भी छापेमारी

हालांकि उसने अपनी किसी भी रिश्तेदारी में यह भनक नहीं लगने दी कि वह वारदात को अंजाम देकर आया है। सीआइए टू इंचार्ज मोहन लाल के मुताबिक टीम द्वारा आरोपित अजीत को काबू किया गया तो पूछताछ में उसने यह राज खोला। वह नोएडा से भी कहीं दूसरे देश में फरार होने की फिराक में था। वहीं शनिवार को पत्रकारों के समक्ष पेश किया तो आरोपित ने कहा कि शादी समारोह में पूरे गांव के सामने गोल्डी ने उसे बेइज्जत किया था। उसे गोली नहीं मारता तो क्या करता।

पुलिस से बचने के लिए रिश्तेदारियों में यूपी और दिल्ली पहुंचा

सीआइए इंचार्ज मोहन लाल ने बताया कि आरोपित को अब पछतावा है। उसने माना कि जब शादी समारोह के चलते की जा रही रिसेप्शन पार्टी में गोल्डी व अजीत सिंह दोनों गए हुए थे, जहां शराब पीने को लेकर उनके बीच कहासुनी हो गई थी। वहां मौजूद लोगों ने बीच में आकर उन्हें हटा दिया था तो समझाया भी था, लेकिन उसके मन में रंजिश थी और गोल्डी से बेईज्जती का बदला लेने की ठान ली थी। इसी के चलते वह गोल्डी से पहले ही मैरिज पैलेस से निकल गया था और अपने घर पहुंचा, जहां से उसने पिस्तौल उठाई और नहर पर पहुंच गया और गोल्डी का इंतजार करने लगा। बुलाने पर जैसे ही गोल्डी वहां पहुंचा तो उसे गोली मार दी। पुलिस ने शुक्रवार रात को ही मौके से गोली का एक खोल बरामद कर लिया था। आरोपित को शनिवार को अदालत में पेश कर पांच दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया, जिस दौरान उससे गहनता से पूछताछ की जाएगी। आरोपित पर निसिंग व घरौंडा थाने में एक-एक मामला मारपीट के आरोप में दर्ज है। वहीं वारदात में शामिल बताए जा रहे अन्य आरोपितों की तलाश में भी छापेमारी की जा रही है।

फंस गया आरोपित पुलिस के जाल में

मृतक के स्वजन आरोपित अजीत व अन्य की गिरफ्तारी को लेकर शुक्रवार को सड़कों पर उतर आए थे और कैथल-करनाल रोड जाम कर दिया था वहीं पुलिस पर भी मुख्य आरोपित को काबू किए जाने का दबाव था। सीआइए टू इंचार्ज मोहन लाल के मुताबिक आरोपित अजीत अपनी अलग-अलग रिश्तेदारियों में फरार होने के बाद अपने ही कई जानकारों से गोल्डी की हालत के बारे में जानकारी लेता रहा। उसने चार मोबाइल नंबर भी बदले और वाट्सअप से ही काल की, ताकि पकड़ में न आ सके। यहीं नहीं वह फेसबुक से भी गोल्डी से जुड़ी खबर देखता रहा। उसे भी यही था कि गोल्डी सिर्फ घायल ही है। बाद में उसे पता चला कि उसकी मौत हो गई है। पुलिस उसके जानकारों को राउंडअप कर उसकी लोकेशन लेती रही और शाम होते-होते ही उस तक पहुंच गई। टीम को देख वह हैरान रह गया। मोहन लाल का कहना है कि आरोपित अजीत का बड़ा भाई श्याम करीब तीन साल से अमेरिका गया हुआ है और यह भी विदेश जाने की तैयारी में था। यहीं नहीं मृतक गोल्डी भी कनाडा जाने की तैयारी कर रहा था। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.