करनाल के लोगों के लिए खुशखबरी, 730 बेड का सुपर स्पेशियलटी अस्पताल देगा बड़ी राहत

कोरोना महामारी के बीच लगातार खुशियों से भरी खबरें सामने आ रही हैं। अब सुपर स्पेशियलटी अस्पताल में बेड की संख्‍या बड़ी राहत है। कुटेल में बन रहे विश्वविद्यालय की परियोजना को दिया गया विस्तार। विश्वविाद्यालय में सुचारू शिक्षण के लिए स्टाफ की भर्ती भी जल्द।

Anurag ShuklaWed, 09 Jun 2021 05:19 PM (IST)
विश्वविद्यालय की परियोजना को दिया गया विस्तार।

करनाल, जेएनएन। करनाल के गांव कुटेल में 138 एकड़ क्षेत्रफल में बनने वाले पंडित दीनदयाल उपाध्याय आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में अब 730 बिस्तरों का सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल तैयार किया जाएगा। इससे मरीजों को बड़ी राहत मिलेगी। यही नहीं, विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों की सुचारू पढ़ाई के लिए शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ की भर्ती के लिए भी आवश्यक प्रक्रिया तेज की जा रही है। इससे विश्वविद्यालय की पूरी परिकल्पना को समय रहते मूर्त रूप देने में कारगर मदद मिल सकेगी।

प्रदेश की महत्वपूर्ण परियोजनाओं में शामिल कुटेल में निर्माणाधीन इस विश्वविद्यालय के निर्माण पर प्रथम चरण में करीब 750 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। जिला उपायुक्त निशांत यादव ने बताया कि विश्वविद्यालय में पहले 500 बेड का अस्पताल प्रस्तावित था। अब इसे विस्तार दिया जाएगा। इसके अनुरूप मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रयासों से विश्वविद्यालय में 730 बिस्तर का सुपर स्पेशयिलिटी अस्पताल बनाया जा रहा है। इससे विश्वविद्यालय को और बेहतर स्वरूप देने में तो कारगर मदद मिलेगी ही वहीं रोगियों को भी इससे पर्याप्त लाभ हासिल होगा। इसके अलावा विश्वविद्यालय में सुचारू शिक्षण के लिए जल्द ही शैक्षणिक व गैर शैक्षणिक स्टाफ की भर्ती की उम्मीद भी बढ़ी है। हाल में प्रोजेक्ट का निरीक्षण करने के दौरान एसीएस देवेंद्र सिंह ने इस बाबत उपायुक्त निशांत यादव को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए।

पढ़ाए जाएंगे विविध पाठ्यक्रम

घरौंडा विधानसभा क्षेत्र के गांव कुटेल में बन रहे आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर और पोस्टडॉक्टोरल पाठ्यक्रम पढ़ाए जाएंगे। यहां मुख्यत: जैव प्रौद्योगिकी विभाग, मेडिकल जेनेटिक्स में एडवांस रिसर्च सेंटर, मानसिक स्वास्थ्य संस्थान, खेल चोट उपचार केन्द्र, इम्यूनोलॉजी, वायरोलॉजी अनुसंधान केन्द्र, फार्मेसी कॉलेज भी बन रहे हैं। उल्लेखनीय है कि डेंटल कालेज, नर्सिंग कॉलेज व फिजियोथैरेपी कालेज की 50-50 सीटें की कक्षाएं भी इसी विश्वविद्यालय में शिफ्ट कर दी गई हैं।

रास्तों से जुड़ी बाधाएं भी दूर

इस बहुआयामी प्रोजेक्ट के तहत विश्वविद्यालय से जुड़ने वाले रास्तों के निर्माण कार्यों में देरी की वजह बनी बाधाओं को भी दूर कर लिया गया है। इस बाबत लोक निर्माण विभ्ज्ञाग के कार्यकारी अभियंता आरके नैन ने बताया कि ऊंचा समाना से कुटेल से जुडऩे वाले करीब 1650 मीटर लंबे रास्ते का टैंडर लग चुका है। इस कार्य पर करीब तीन करोड़ 50 लाख रुपये की राशि खर्च होगी। इसी प्रकार ऊंचा समाना-गंजोगढ़ी रोड से लेकर कुटेल गांव तक करीब तीन किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कार्य जारी है। इस पर छह करोड़ रुपये की राशि खर्च होगी। जीटी रोड से विश्वविद्यालय तक करीब 2500 मीटर लंबी सड़क का निर्माण होना है। इसमें 1250 मीटर लंबी सड़क के लिए किसानों ने सहमति दे दी है। शेष 1250 मीटर लंबी सड़क के लिए भी किसानों से बातचीत जारी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.