जर्मनी में जाकर पैसा कमाने की चाह पड़ी भारी, फर्जी वर्क परमिट दिला ठगे 10 लाख

जर्मनी में जाकर पैसा कमाने की चाह पड़ी भारी, फर्जी वर्क परमिट दिला ठगे 10 लाख
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 02:28 PM (IST) Author: Anurag Shukla

पानीपत/करनाल, जेएनएन। एक दुकानदार को जर्मनी जाकर खूब पैसा कमाने की चाह भारी पड़ गई। उसे जर्मनी भेजने और वहां के लिए वर्क परमिट दिलाने की आड़ में करीब दस लाख रुपये ठग लिए गए। अब वह अपनी दी गई राशि वापस लेने के लिए दर-दर भटकने को मजबूर है। जिसके चलते उसे गृह मंत्री अनिल विज को शिकायत भेजी, जिसके बाद पुलिस ने दो आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

पीड़ित गांव कुटेल वासी मोती राम ने आरोप लगाते हुए बताया कि उसने सैनेटरी की दुकान की हुई थी, जो अच्छी नहीं चल रही थी। दुकान पर आरोपित विक्रम का भी आना जाना था, जिससे उसकी पहचान हो गई। एक दिन वह उसे दुकान के कारोबार के बारे में पूछताछ करने लगा। जब उसने बताया कि कईं-कईं दिन तो एक आइटम की भी बिक्री नहीं होती तो उसने कहा कि यहां समय खराब करने का कोई फायदा नहीं। वह उमंग के साथ मिलकर युवाओं को विदेशों में भेजकर वहां सैटल कराते है। उसे भी जर्मनी भेज देंगे और वहां का उसे वर्क परमिट भी दिला दिया जाएगा, जिसके लिए 12 लाख रुपये देने होंगे।

पीड़ित ने आरोप लगाते हुए बताया कि वह उसके झांसे में आ गया और अलग-अलग समय पर करीब दस लाख रुपये दे दिए, लेकिन काफी समय तक भी उसे जर्मनी नहीं भेजा जबकि वे उसे आश्वासन ही देते रहे। बाद में उन्होंने उसे जर्मनी के लिए हवाई टिकट व वर्क परमिट दे दिया, जांच कराने पर यह वर्क परमिट फर्जी पाया गया। इस पर आरोपितों से बातचीत की तो उसे सही वर्क परमिट दिलाने का फिर भरोसा देने लगे, लेकिन वे वर्क परमिट नहीं दे पाए। दी गई राशि वापस करने की मांग की तो पहले टाल मटोल करते रहे और फिर इंकार कर दिया। गृह मंत्री के निर्देश पर पुलिस ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए दोनों आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। थाना घरौंडा एसएचओ मनोज कुमार का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जल्द ही दोनों आरोपित गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।

ये भी पढ़ें: UPSC Civil Services Final Result 2019 पानीपत की मधुमीता को आइएएस बनने का जुनून था, भाई की शादी में भी नहीं गई, 86वां रैंक किया हासिल

ये भी पढ़ें: UPSC Civil Services Final Result 2019 14 लाख का पैकेज छोड़ प्रशासनिक सेवा में आई थी महक, अब यूपीएससी में 393वां रैंक

ये भी पढ़ें: हरियाणा में खुल गए कॉलेज, 20 नोडल अधिकारी सेंट्रलाइज्ड ऑनलाइन एडिमशन प्रक्रिया पर रखेंगे नजर

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.