हरियाणा में भ्रूण लिंग जांच का पर्दाफाश, यमुनानगर में पकड़े गए आरएमपी दंपती

यमुनानगर में भ्रूण लिंग जांच के बाद गर्भपात करते आरएमपी डॉक्टर दंपती पकड़े गए।

हरियाणा के यमुनानगर में भ्रूण लिंग जांच के बाद गर्भपात करते आरएमपी डॉक्टर दंपती पकड़े गए। यहा मामला देर रात का है। यमुनानगर के तिलक नगर कॉलोनी में स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम ने छापेमारी करके मामले का पर्दाफाश किया।

Publish Date:Sat, 05 Dec 2020 11:02 AM (IST) Author: Anurag Shukla

पानीपत/यमुनानगर, जेएनएन। यमुनानगर के गांधीनगर थाना क्षेत्र के तिलक नगर कॉलोनी में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रेड की। मौके पर गर्भवती महिला का एबॉर्शन किया जा रहा था। टीम ने मौके से आरोपित गुरनाम व कुसुम नाम की महिला को पकड़ा। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया।

शुक्रवार की देर रात स्वास्थ्य विभाग के डॉ राजेश परमार के नेतृत्व में टीम ने तिलक नगर में पीएनडीटी की रेड की। यहां पर छछरौली की एक महिला का लिंग जांच के बाद एबॉर्शन किया जा रहा था। जिस समय टीम पहुंची महिला का एबॉर्शन करने की तैयारी थी। तभी टीम ने मौके से एबॉर्शन कर रही महिला व एक व्यक्ति को पकड़ा। ये आरएमपी डॉक्टर बताए जा रहे है। इनकी पहचान गुरनाम व कुसुम के रूप में हुई। दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया गया।

डॉक्टर राजेश परमार ने बताया कि जिस महिला का एबॉर्शन करना था। उसके पास 2 बच्चे है। वह तीसरी बार गर्भवती हो गयी थी। तीसरा बच्चा न चाहने की वजह से वह अबॉर्शन कराना चाहती थी। जिस पर उसने गुरनाम से संपर्क किया। टीम को इस बारे में सूचना मिली, तो रेड की गई। मौके  से औजार भी मिले है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। अभी पूछताछ की जा रही है। जिससे पता लगेगा कि आरोपित पहले भी इस तरह से कितने एबॉर्शन कर चुके है।  इनका क्लीनिक बिना नाम के चल रहा है।

पानीपत में भी पकड़ा गया था गिराेह

30 दिसंबर को पानीपत में भ्रूण जांच करने वाले बड़े रैकेट का भंडाफोड़ हुआ था। दो महिलाएं और दो पुरुष पकड़े गए। सुबह सात बजे से शुरू हुआ स्वास्थ्य विभाग का मिशन रात नौ बजे पूरा हो सका। इन्हें सहारनपुर में ही पकड़ लिया जाता लेकिन चकमा देकर फरार हो गए। आखिरकार पानीपत में पकड़ में आ ही गए। घरौंडा की सुमन, समालखा की राजवंती, सुमित, राणा माजरा का मनोज पकड़ा गया। इन्होंने सहारनपुर में गर्भवती की जांच कराई थी। वहां पर झोलाझाप क्लीनिक चलाता है। दलालों को पकडऩा था, इस वजह से झोलाछाप पर ज्यादा ध्यान नहीं गया। झोलाछाप फरार हो गया। सभी दलाल एक टैक्सी में सवार थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.