आंबेडकर जयंती समारोह को लेकर गतिरोध, बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष धनखड़ को बुलाने पर गर्माई राजनीति

आंबेडकर जयंती में भाजपा प्रदेशाध्‍यक्ष के बुलाने को लेकर राजनीति गर्माई।

हरियाणा में जींद में 25 अप्रैल को आंबेडकर जयंती समारोह को लेकर तैयारी हो रही है। इस कार्यक्रम में भाजपा प्रदेशाध्‍यक्ष ओम प्रकाश धनखड1 को बुलाने को लेकर राजनीति गर्माने लगी है। किसान नेताओं ने विरोध का किया ऐलान।

Anurag ShuklaFri, 23 Apr 2021 05:21 PM (IST)

जींद, जेएनएन। आंबेडकर जयंती के उपलक्ष्य में 25 अप्रैल को शहर के एक निजी होटल में होने वाले समारोह को लेकर गतिरोध जारी है। इस कार्यक्रम में मुख्यातिथि बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ होंगे और उनके अलावा बीजेपी व जेजेपी के विधायकों, दूसरे नेताओं को भी आमंत्रित किया गया है। वाल्मीकि समाज के कुछ नेता जहां इस कार्यक्रम को वाल्मीकि समाज का बता रहे हैं। वहीं कुछ इसे वाल्मीकि समाज की बजाय बीजेपी का कार्यक्रम बता रहे हैं।

वाल्मीकि समाज के नेता देवीदास, रणबीर ढाठरथ, भारत भूषण टांक, कुलदीप कटवाल ने वीरवार को प्रेस कान्फ्रेंस कर इसे वाल्मीकि समाज का कार्यक्रम बताते हुए आंदोलनकारी किसानों से विरोध नहीं करने का आह्वान किया था। इस संंबंध में उन्होंने किसान नेताओं के साथ संपर्क भी किया। शुक्रवार को किसान नेता आजाद पालवां, सतबीर पहलवान के साथ मीटिंग कर उन्होंने कार्यक्रम का विरोध नहीं करने के लिए कहा। साथ ही प्रस्ताव भी दिया कि कार्यक्रम के दौरान वे ओमप्रकाश धनखड़ के आगे प्रस्ताव रखेंगे कि वे तीन कृषि कानूनों को लेकर किसान नेताओं से बातचीत के लिए केंद्र सरकार से बात कर हल निकलवाएं। जबकि किसान नेताओं ने कहा कि कार्यक्रम में बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष को ना बुलाया जाए। जिससे दोनों पक्षों में सहमति नहीं बनी।

कार्यक्रम बीजेपी, वाल्मीकि समाज के लोग ना जाएं : कमल चौहान

 शुक्रवार को वाल्मीकि समाज के नेता कमल चौहान, अंजना, तारा सिंह कांगड़ा, सतपाल ने प्रेस कान्फ्रेंस करते हुए कहा कि ये कार्यक्रम बीजेपी का है, इससे वाल्मीकि समाज का कोई लेनादेना नहीं है। बीजेपी सरकार कुछ लोगाें के कंधों पर बंदूक रख कर किसानाें तथा वाल्मीकि समाज के बीच टकराव कराना चाहती है। इसलिए वाल्मीकि समाज के लोग इस कार्यक्रम में ना जाएं। कमल चौहान ने कहा कि देशभर में कोरोना तेजी से फैल रहा है। इसके बावजूद बीजेपी आंबेडकर जयंती कार्यक्रम के नाम पर भीड़ जुटा रही है। कार्यक्रम में आने से लोग कोरोना संक्रमित होता है, तो उसका जिम्मेदार कौन होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जो तीन कृषि कानून लेकर आई है, वो किसानों के साथ-साथ गरीब तबके के लोगों के लिए भी खतरनाक हैं। प्रेस कान्फ्रेंस के बाद वे खटकड़ टोल धरने पर गए और आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि वाल्मीकि समाज के लोग 25 अप्रैल को जींद में होने वाले कार्यक्रम में ना जाकर किसानों के धरनों में शामिल होंगे।

कांग्रेसी कर रहे कार्यक्रम का विरोध : देवीदास

वाल्मीकि समाज के नेता देवीदास ने बताया कि किसान नेताओं के साथ बातचीत हुई थी और उनसे कार्यक्रम का विरोध नहीं करने का आह्वान किया। लेकिन सहमति नहीं बनी। हर हाल में ये कार्यक्रम होगा और ओमप्रकाश धनखड़ आएंगे। प्रेस कान्फ्रेंस करने वाले कमल चौहान कांग्रेसी हैं। जो किसान आंदोलन के नाम पर राजनीति कर रहे हैं। उन्हें समाज से कोई लेनादेना नहीं है।

कार्यक्रम स्थल पर जाकर करेंगे धनखड़ का विरोध : बरसोला

वहीं किसान नेता सतबीर पहलवान बरसोला ने बताया कि कृषि कानूनों की वापसी नहीं होने तक बीजेपी-जेजेपी नेताओं के बहिष्कार का फैसला लिया हुआ है। ओमप्रकाश धनखड़ को कार्यक्रम में नहीं आने दिया जाएगा। प्रदेशभर में टोल पर धरना दे रहे किसान जींद में कार्यक्रम स्थल पर जाकर ओमप्रकाश धनखड़ का विरोध करेंगे।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें:  कोरोना महामारी के बीच आई नई मुसीबत, ऑक्सीजन भी होने लगी चोरी, पानीपत रिफाइनरी का टैंकर ले उड़े चोर

यह भी पढ़ें: 'सॉरी' लिखकर चोर ने लौटाई कोरोना वैक्सीन, हरियाणा में सामने आया चौकाने वाला मामला

यह भी पढ़ें: हरियाणा के जींद में लस्‍सी में गिरी छिपकली, पीने से 2 की मौत, 5 की हालत गंभीर


यह भी पढ़ें: बेटी पूरे कर रहे टैक्सी चालक पिता के ख्‍वाब, भाई ने दिया साथ तो कामयाबी को बढ़े हाथ

यह भी पढ़ें: पानीपत में बढ़ रहा कोरोना, बच्‍चों को इस तरह बचाएं, जानिये क्‍या है शिशु रोग विशेषज्ञ की सलाह

यह भी पढ़ें: चोट से बदली पानीपत के पहलवान की जिंदगी, खेलने का तरीका बदल बना नेशनल चैंपियन

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.