धान की कीमतों से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें, जानिए बासमती का आज का भाव

धान ने एक बार फिर से किसानों को परेशानी में डाल दिया है। कुछ दिनों से धान की बढ़ती कीमतों के बाद अचानक भाव में कमी आ गई है। बासमती 200 रुपये तो 1121 के 150 रुपये कम हुए भाव।

Anurag ShuklaWed, 01 Dec 2021 09:53 AM (IST)
मुच्छल भी 200 रुपये कम तो 1718 के 100 रुपये तक घटे भाव।

कैथल, जागरण संवाददाता। कैथल अनाज मंडियों में एक बार फिर से बासमती, 1121 व मुच्छल के भाव में कमी आई है। भाव गिरते हुए आवक भी कम हो गई है। मंगलवार को नई अनाज मंडी में इसका असर दिखाई दिया। रविवार तक जहां बासमती के भाव 4300 रुपये 1121 के भाव 3900 रुपये व मुच्छल के भाव 3600 रुपये तक पहुंच गए थे, वहीं मंगलवार को 150 से 200 रुपये तक भाव कम हो गए। इससे किसानों में नाराजगी है। किसानों का कहना है आए दिन धान के भाव में हो रहे उतार-चढ़ाव से किसानों को काफी नुकसान हो रहा है। किसान धान लेकर मंडी में आते हैं तो बेचने के लिए इंतजार करना पड़ता है। किसान अगर फसल नहीं बेचते हैं तो मंडी में रखवाली करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। इसलिए किसानों को कम भाव पर ही फसल बेचनी पड़ती है।

आए दिन आ रहा भाव में उतार-चढ़ाव

नई अनाज मंडी में मंगलवार को बासमती के भाव 4100 रुपये प्रति क्विंटल, 1121 के भाव 3800 रुपये प्रति क्विंटल, मुच्छल के भाव 3500 रुपये प्रति क्विंटल, 1718 के भाव 3800 रुपये प्रति क्विंटल मिल रहे हैं। जबकि पिछले सप्ताह बासमती के भाव 4400 रुपये व 1121 के भाव चार हजार के पार गए गए थे। किसानों को उम्मीद थी कि बासमती के भाव पांच हजार से ज्यादा पहुंचेंंगे, लेकिन लगातार गिर रहे भाव से किसानों की उम्मीदों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।

नई अनाज मंडी उपप्रधान धर्मपाल कठवाड़ ने कहा कि पिछले सप्ताह तक अच्छे भाव बासमती व 1121 के मिल रहे थे, लेकिन दो-तीन दिनों से भाव में गिरावट आई है। 150 से 200 रुपये तक भाव कम हुए हैं। दूसरे देशों में चावल की डिमांड कम होने के कारण धान के भाव पर असर दिखाई दे रहा है। आने वाले दिनों में और ज्यादा भाव गिरने की संभावना है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.