लड़का साइंटिस्ट, लडक़ी पीएचडी, Fartuner और 20 लाख के कारण रुके फेरे, थाने में बरात

करनाल में दहेज का मामला सामने आया है। दुल्हन पक्ष ने आरोप लगाया है कि सात फेरे होने से पहले दूल्हा पक्ष ने 20 लाख रुपये और फार्च्यूनर गाड़ी की मांग की। रात भर दोनों पक्षों में विवाद चलता रहा सुबह बारात दूल्हे सहित शिव लाइन थाने में पहुंच गई।

Rajesh KumarTue, 07 Dec 2021 01:12 PM (IST)
करनाल में दूल्हे संग थाने पहुंची बरात।

करनाल, जागरण संवाददाता। करनाल शहर के सेक्टर-12 में चल रहे शादी समारोह के दौरान दूल्हा-दुल्हन के सात फेरों के बंधन में बंधने से ऐन पहले 20 लाख रुपये और फार्च्‍यूनर गाड़ी की मांग को लेकर खलल पड़ गया। न केवल शादी रद कर दी गई, बल्कि विवाद थाने पहुंच गया। पांच घंटे बरात थाने में खड़ी रही। पुलिस ने दुल्हन की शिकायत पर आरोपित दूल्हे सहित परिवार के तीन सदस्यों के खिलाफ सिविल लाइन थाना में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। उधर दूल्हे पक्ष ने आरोप निराधार करार दिए और जांच की मांग की है।

फेरे से पहले शुरू हुआ विवाद

जींद के विजयनगर वासी नसीब सिंह का रिश्ता उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के आरिफ पूर्व खेड़ी गांव की कोमल के साथ करीब आठ माह पहले तय हुआ था। सोमवार को रिंग सेरेमनी के साथ होटल में शादी समारोह शुरू हुआ। दूल्हा 50 लोगों की बरात लेकर पहुंचा जबकि दुल्हन के स्वजन व अन्य लोग भी आए थे। दोनों परिवार शादी में व्यस्त थे। रात करीब साढ़े ग्यारह बजे दूल्हा मंडप पर बैठा तो दुल्हन का इंतजार किया जाने लगा। तभी दोनों पक्षों में विवाद हो गया। लड़की पक्ष ने आरोप लगाया कि फेरे से ऐन पहले दूल्हा व उसके स्वजन 20 लाख रुपये और फार्च्‍यूनर गाड़ी की मांग पर अड़ गए। विवाद इतना बढ़ा कि शादी समारोह रद हो गया।

पिता है ट्रिपल एमए, लड़की शिक्षा विभाग में कार्यरत

दुल्हन के पिता योगेंद्र थाने पहुंचकर भावुक हुए। उन्होंने कहा कि भगवान किसी को बेटी ना दें। अगर बेटी दे तो उनके साथ ऐसा ना हो। उन्होंने आगे कहा कि मामले में अगर कार्रवाई नहीं होती है, तो वह मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री तक जाएंगे और कार्रवाई की मांग करेंगे। उन्होंने इसे लेकर एसपी से भी मुलाकात की और एसपी ने उन्हें निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया है। योगेंद्र ने आगे कहा कि उन्होंने खुद ट्रिपल एमए की हुई है। उन्होंने बेटी को पढ़ा लिखाकर इस काबिल बनाया है कि वो अपने पैरों पर खड़ी हो जाए। उनकी बेटी पढ़ी लिखी है। दुल्हन पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से ला पीएचडी स्कालर है तो दूल्हा आइसीएआर (इंडियन काउंसिल आफ एग्रीकल्चर रिसर्च) शिलांग में कृषि विज्ञानी है।

दूल्‍हा बरात सहित थाने पहुंचा

रात भर विवाद चला और सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची। सुबह दूल्हा बरात सहित सिविल लाइन थाने पहुंचा। करीब पांच घंटे बरात यहीं रही। दूल्हन भी स्वजनों के साथ थाने पहुंची, जहां दहेज मांगने व अपमानित करने के आरोप लगाए गए। पुलिस ने दूल्हे नसीब सिंह, उसके बड़े भाई प्रीतम व पिता करतार सिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।


दूल्‍हा बोला-हम हर जांच को तैयार

दूल्हे व स्वजनों ने आरोप बेबुनियाद बताए और कहा कि वे जांच के लिए तैयार हैं। उन्होंने आरोप लगाए कि दुल्हन पक्ष की ओर से दी गई चेन रस्मों के बाद वापस कर दी थी और दहेज मांगने का मतलब ही नहीं था। दुल्हन पक्ष ने चेन लौटाने को अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ लिया और बेबुनियाद आरोप लगाए हैं। दुल्हन पक्ष ने एसपी गंगाराम पूनिया से मुलाकात की तो जांच डीएसपी सिटी अभिलक्ष जोशी को सौंप दी गई।

दुल्हन का पिता बोला- भगवान न दें किसी को बेटी

दुल्हन के पिता योगेंद्र का कहना है कि उन्हें नहीं पता था कि जिस बेटी को इतने लाड़ से पीएचडी तक की पढ़ाई करा रहे हैं, वह शादी के जोड़े में बैठी रहेगी। इससे बड़ा दुख नहीं हो सकता और बेटी पैदा होने पर यह दिन देखना था तो दुआ करेंगे कि भगवान किसी को बेटी न दें। न्याय के लिए मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री से जरूरत पडऩे पर मुलाकात करेंगे। दहेज के लोभियों को बख्शेंगे नहीं।

दूल्हे का पिता बोला-बहू लेने आए थे, मिली बदनामी

दूल्हे नसीब सिंह के पिता करतार सिंह का कहना है कि बेटे की शादी के लिए चाव से आए थे। नहीं पता था कि दहेज के झूठे मामले में फंसाकर उनके सिर बदनामी मढ़ दी जाएगी। आठ माह तक सब ठीक था, लेकिन ऐन मौके पर उन पर झूठे आरोप लगाते हुए शादी से इन्कार कर दिया गया।

सभी पहलुओं से कर रहे जांच : डीएसपी

डीएसपी अभिलक्ष जोशी का कहना है कि दुल्हन की ओर से शिकायत मिली है, जिसके आधार पर दूल्हे सहित तीन के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। दूल्हे पक्ष की ओर से शिकायत नहीं दी गई है। दोनों पक्षों के बयान लिए गए हैं और सभी पहलुओं से जांच की जा रही है। बयान दर्ज कराने के बाद बरात लौट गई।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.