Coronavirus Vaccination: यमुनानगर में टीकाकरण को मिलेगी रफ्तार, समाजसेवी संस्थाओं का सहयोग लेगा स्वास्थ्य विभाग

स्वास्थ्य विभाग की ओर से यमुनानगर में टीकाकरण अभियान को गति दी जा रही है। इस समय डोज की कोई किल्लत नहीं है। इसलिए विभाग भरपूर मात्रा में शिविर लगा रहा है। टीकाकरण को लेकर पहले की तरह भीड़ भी नहीं लग रही है।

Rajesh KumarSun, 28 Nov 2021 10:34 AM (IST)
यमुनानगर में रफ्तार पकड़ रहा वैक्सीनेशन अभियान।

यमुनानगर, जागरण संवाददाता। कोरोना से बचाव को टीकाकरण में स्वास्थ्य विभाग अब समाजसेवी संस्थाओं का सहयोग लेगा। समाजसेवी संस्थाओं के वालंटियर्स को अब उन क्षेत्रों में भेजा जाएगा। जहां पर टीकाकरण में पिछड़े हुए हैं या फिर लोग टीकाकरण के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। इसके साथ ही यह वालंटियर लोगों को दूसरी डोज लगवाने के प्रति भी जागरूक करेंगे। इसके साथ ही समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से अलग-अलग जगहों पर शिविर भी लगाए जाएंगे। जिससे टीकाकरण का लक्ष्य पूरा किया जा सके। अभी तक जिले में 12 लाख 27 हजार 396 पात्रों को टीका लगाया जा चुका है। इनमें से 8 लाख 41 हजार 708 को पहली डोज व तीन लाख 85 हजार 688 को दोनों डोज लग चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले में टीकाकरण अभियान को गति दी जा रही है। इस समय डोज की कोई किल्लत नहीं है। इसलिए विभाग भरपूर मात्रा में शिविर लगा रहा है। टीकाकरण को लेकर पहले की तरह भीड़ भी नहीं लग रही है, लेकिन विभाग के सामने समस्या यह है कि दूसरी डोज के टीकाकरण में विभाग काफी पीछे है। अभी तक महज 40 प्रतिशत लोगों ने ही दोनों डोज ली है। इनमें से करीब 50 हजार ऐसे हैं। जिनकी दूसरी डोज का समय निकल चुका है। वह टीका लगवाने के लिए नहीं आ रहे हैं।

फोन कर जानकारी ले रहा विभाग

टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग फोन कर जानकारी भी ले रहा है। पात्रों को रैंडमली काल कर दूसरी डोज के बारे में पूछा जा रहा है। यह व्यवस्था इसलिए ही की गई है कि 84 दिन होने के बाद डोज न लेने वालों को बुलाया जा सके। इसके लिए ही अब हर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर रोजाना टीकाकरण की व्यवस्था की गई है।

पहले भी किया था समाजसेवी संस्थाओं ने सहयोग

टीकाकरण में समाजसेवी संस्थाओं ने विभाग का काफी सहयोग किया। संत निरंकारी भवन व राधा स्वामी सत्संग की ओर से दिन रात चलने वाले चार दिवसीय कैंप भी लगाए। जिसमें काफी लोगों को फायदा हुआ। विशेषकर उन लोगों को जो दिन के समय में मजदूरी या नौकरी करते हैं। ड्यूटी से देर शाम को लौटते हैं। उन्होंने रात को चलने वाले इन टीकाकरण शिविरों का फायदा उठाया और कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन की डोज लगवाई।

288 गांवों मे हो चुका 100 प्रतिशत टीकाकरण

जिले के 288 ऐसे गांव हैं। जहां पर 100 प्रतिशत टीकाकरण हो चुका है। अब समाजसेवी संस्थाओं के माध्यम से फिर से विभाग अपील करा रहा है। संस्था के पदाधिकारियों के माध्यम से लोगों को भी टीकाकरण के लिए जागरूक किया जाएगा, क्योंकि पहले भी लोगों को समाजसेवी संस्थाओं के वालंटियर टीकाकरण केंद्रों तक लेकर पहुंचे थे।

नके साथ हो चुकी बैठक

सिविल सर्जन कार्यालय में सेवा भारती रादौर, युवा खेल व रक्तदान संस्था, भारत विकास परिषद रादौर, शिव शक्ति ज्योति फाउंडेशन, हर मैदान फतेह सोसायटी, जीवनदीप संस्थान, निर्वेर हैल्पिंग हैंड, सर्व समाज सेवा समिति, ओट आसरा सेवा समिति, रोटरी क्लब, श्री गुरु नानक सेवा मिशन, इडियल कोचिंग, भगत सिंह पार्क सोसायटी, यमुनानगर-जगाधरी चैंबर आफ कामर्स एंड इंस्टाग्राम, भारत विकास परिषद, सरस्वती शुगर मील, साहिबजादे सेवा सोसायटी, श्री कृष्ण कृपा सेवा समिति, विश्व हिंदू परिषद, राधास्वामी सत्संग के सदस्य व पदाधिकारी शामिल रहे।

लाभार्थियों को कोरोना की दोनों डोज लेना जरूरी

सिविल सर्जन डा. विजय दहिया ने बताया कि पूर्ण टीकाकरण के लिए आवश्यक है कि पात्रों को दोनों डोज लगी हो। टीकाकरण कराने वाले कोरोना संक्रमण से बचेंगे। इसके साथ ही कोरोना के अन्य लक्षणों से भी बच सकेंगे। इसलिए ही विभाग का जोर दोनों डोज पर है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.