रेलवे में टीटी की नौकरी का सपना देखना पड़ा भारी, ज्‍वाइनिंग लेटर आया तो उड़े होश

रेलवे में टीटी की नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी हुई। ठगों ने नौकरी लगवाने के नाम पर छह लाख रुपये ठग लिए। उसके पास ज्‍वाइनिंग लेटर भी भेजा। दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।

Anurag ShuklaFri, 30 Jul 2021 11:46 AM (IST)
कुरुक्षेत्र में नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी।

कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। केयूके थाना पुलिस के अंतर्गत रेलवे में टीटी की नौकरी लगवाने के नाम पर दो लोगों ने एक युवक से छह लाख रुपये ठग लिए। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया है।

गांव कमोदा निवासी देस राज ने केयूके थाना पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उसका पुत्र मोहित मोबाइल की दुकान पर नौकरी करता था। उसकी दुकान पर सतबीर नाम के व्यक्ति का आना-जाना था। जिस कारण सतबीर से उसकी जान पहचान हो गई थी। सतबीर ने उसके पुत्र को कहा कि उसका बहनोई फरीदाबाद निवासी मनदीप ने उसे रेलवे विभाग में नौकरी लगवाया है। अगर उसे रेलवे विभाग में टीटी की नौकरी लगना है तो उसे 10 लाख रुपये देने होंगे। तीन लाख रुपये पहले और सात लाख रुपये नौकरी ज्वाइनिंग के बाद देने हैं। वह आरोपित की बातों में आ गया।

17 मई 2019 को वह अपने पुत्र मोहित, अपने भाई व मोबाइल शाप के मालिक की मौजूदगी में आरोपित को तीन लाख रुपये दिए। आरोपित ने एक माह बाद उनके पास ज्वाइनिंग लेटर भेजा। सतबीर ने उसे व उसके लड़के को ज्वाइन कराने के लिए दिल्ली बुलाया। दिल्ली में उन्हें एक आफिस के बाहर बैठा दिया और खुद अंदर चले गए। शाम तक वे बाहर ही बैठे रहे। शाम को उन्हें कहा कि आज काम नहीं बना है कल आना पड़ेगा।

अगले दिन भी काम नहीं कराया और वे दिल्ली से वापस आ गए। उन्हें उसके बाद सात-आठ बार दिल्ली बुलाया गया, लेकिन कोई काम नहीं हुआ। दिल्ली के तीसरे चक्कर में आरोपितों ने कहा कि उन्हें दो लाख रुपये और देने होंगे बाकी पैसे बाद में दे देना, इससे जल्दी काम बन जाएगा। शिकायतकर्ता ने अपने आढ़ती से एक लाख रुपये लेकर आरोपित मनदीप कुमार के खाते में जमा करा दिए।

एक लाख रुपये दिल्ली से वापिस आने के बाद सतबीर व मनदीप को दिए। दिल्ली आने जाने में उनका करीब एक लाख से अधिक खर्चा हुआ। कई महीने बीत गए, मगर उसके पुत्र काे ज्वाइनिंग नहीं कराई। इससे परेशान होकर उन्होंने ब्याज सहित पैसे वापस मांगे, मगर उनकी बात नहीं सुनी। उसने इस बारे में शिकायत दी, जिस पर पंचायत में पैसों के बदल दो चेक दिए, मगर खाते में पैसे न होने पर चेक बाउंस हो गए।

आरोपित ने सोची-समझी साजिश के तहत उसके पुत्र को बहकाकर नौकरी लगवाने के नाम छह लाख रुपये की धोखाधड़ी की है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर जांच एएसआइ अजमेर सिंह को सौंपी है। एएसआइ अजमेर सिंह ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.