10 जून को घोषित होगा सीबीएसई की 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम

सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा का परिणाम।

सीबीएसई यानी सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन का 10वीं कक्षा का परिणाम 10 जून को आ सकता है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन इस बार यूनिट टेस्ट छमाही परीक्षा और प्री-बोर्ड परीक्षा के अंकों के आधार पर परिणाम जारी करेगा।

Anurag ShuklaWed, 05 May 2021 05:50 PM (IST)

जींद, जेएनएन। सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा का परिणाम 10 जून को घोषित किया जाएगा। जिसके लिए सीबीएसई ने व्यापक रूप से गाइडलाइन जारी कर दी है। कोरोना महामारी के चलते 10वीं कक्षा की बोर्ड की परीक्षा नहीं हो पाई।

सीबीएसई के जिला कोआर्डिनेटर डा. धर्मदेव विद्यार्थी ने स्कूल संचालकों की वर्चुअल बैठक में बताया कि अब परीक्षा परिणाम स्कूल में दिए गए यूनिट टेस्ट, छमाही तथा प्री-बोर्ड परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर तैयार किया जाएगा। जिसके लिए स्कूल स्तर पर स्कूल प्राचार्य की अध्यक्षता में सात सदस्यों की कमेटी परीक्षा परिणाम तैयार करेगी। जिसमें पांच अध्यापक संबंधित स्कूल के होंगे तथा दो अध्यापक बाहरी स्कूल के होंगे।

परीक्षा में पारदर्शिता तथा न्याय करने के लिए यह जरूरी होगा कि कमेटी के सदस्य अध्यापकों में से किसी भी का लड़का या लड़की परीक्षा ना दे रहा हो तथा कमेटी के जो दो सदस्य बाहर से होंगे, वह आपस में दो परस्पर स्कूलों के आदान-प्रदान से नहीं लिए जाएंगे। स्कूल का परीक्षा परिणाम 80 जमा 20 के आधार पर होगा। जिसमें इंटरनल एसेसमेंट के आधार पर 20 अंक होंगे, जो स्कूल पहले ही सीबीएसई को भेज चुके हैं। शेष सभी विषयों के अंक 80 अंकों के आधार पर निर्धारित किए जाएंगे। डा. विद्यार्थी ने सीबीएसई द्वारा जारी की गई 10वीं कक्षा की अंक निर्धारण नीति पर प्राचार्यों से चर्चा की। इस बैठक में 65 स्कूल प्राचार्य ने भाग लिया।

12वीं कक्षा की प्रैक्टिकल हुई पूरी

डा. विद्यार्थी ने सीबीएसई द्वारा तैयार टाइमलाइन के अनुसार कार्य निर्देश भी दिए। उन्होंने बताया कि जींद जिले के सभी सीबीएसई स्कूलों में 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले सभी छात्रों के प्रैक्टिकल परीक्षा संपूर्ण कर ली गई है। कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन होने पर स्कूलों को कुछ समस्या आ रही है। विशेष रूप से जो स्कूल गांव में हैं। उनके विद्यार्थी और शिक्षकों के लिए सीबीएसई जिला प्रशासन के सहयोग से प्रैक्टिकल परीक्षा करवा रहा है। डा. धर्मदेव विद्यार्थी ने बताया कि सीबीएसई पंचकूला के क्षेत्रीय अधिकारी निरंतर सभी जिला कोआर्डिनेटर से संपर्क बनाए हुए हैं। ताकि 10वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम तैयार किए जा सके। जो समुचित न्याय के आधार पर हो तथा किसी भी बच्चे के साथ पक्षपात ना हो।

ऐसे किया गया अंक निर्धारण

यूनिट टेस्ट 10 अंक, अर्ध वार्षिक परीक्षा 30 अंक, प्री बोर्ड 40 अंक। कुल अंक 80 होंगे तथा 20 अंक इंटरनल एसेसमेंट के मिलाकर 100 अंकों का एक विषय होगा। अंक निर्धारण के लिए सारी जिम्मेदारी स्कूल प्राचार्य की होगी। डा. विद्यार्थी ने सभी स्कूलों के प्राचार्य का समय रहते 10वीं कक्षा के इंटरनल असेसमेंट अंक तथा 12वीं कक्षा के प्रैक्टिकल करवा कर अंक सीबीएसई को भेजने पर आभार जताया। जींद जिले के 6 सरकारी स्कूल सीबीएसई से जुड़ गए हैं, जो पहले हरियाणा बोर्ड से संबंधित थे। अब जिले में सीबीएसई से जुड़े स्कूलों की संख्या 75 हो गई है। शैक्षणिक सत्र 2020-21 में 10वीं में 4106 और 12वीं कक्षा में 3261 छात्र हैं।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.