पेंशन रुकने से अटकी खंड के लाभार्थियों की सांसे

पीएनबी में विलय के बाद से ओरिएंटल बैंक से पेंशन ले रहे खंड के बुजुर्ग विधवा दिव्यांग और बुजुर्गो की परेशानी बढ़ गई है। उन्हें दो माह से पेंशन हीं मिल रही है। समाज कल्याण विभाग का दफ्तर पानीपत में है। जहां सभी को जाना संभव नहीं है। वे एसडीएम नगरपालिका बैंक और बीडीपीओ दफ्तर सहित पूर्व पार्षद के यहां चक्कर काट रहे हैं।

JagranThu, 26 Aug 2021 08:37 AM (IST)
पेंशन रुकने से अटकी खंड के लाभार्थियों की सांसे

जागरण संवाददाता, समालखा : पीएनबी में विलय के बाद से ओरिएंटल बैंक से पेंशन ले रहे खंड के बुजुर्ग, विधवा, दिव्यांग और बुजुर्गो की परेशानी बढ़ गई है। उन्हें दो माह से पेंशन हीं मिल रही है। समाज कल्याण विभाग का दफ्तर पानीपत में है। जहां सभी को जाना संभव नहीं है। वे एसडीएम, नगरपालिका, बैंक और बीडीपीओ दफ्तर सहित पूर्व पार्षद के यहां चक्कर काट रहे हैं। फिर भी काम नहीं होने से उनमें सरकार के प्रति रोष पनप रहा है। मनाना में तो लोगों ने बैंक के सामने गुस्से का इजहार भी किया है।

एसडीएम दफ्तर पहुंची प्रीतमपुरा की विमला, कृष्णा, कमलेश, पंजाबी मोहल्ला के सोमनाथ कपूर ने बताया कि उनका कस्बे के पुराना बस अड्डा स्थित ओरिएंटल तो मनाना के प्रेम सिंह, महेंद्र सिंह व देवी सिंह ने बताया कि उनका गांव के ओरिएंटल बैंक में खाता था। यहीं से वे हार माह पेंशन लेते थे। करीब ढाई माह पहले सरकार ने उनके बैंक का पीएनबी में विलय कर दिया।

उन्होंने बताया कि बैंक के आइएफएससी कोड बदलने से उनकी पेंशन रुक गई। उनका नया पास बुक भी नहीं बनाया गया। अब वे दो माह से सरकारी दफ्तरों का चक्कर काट रहे हैं, लेकिन पेंशन नहीं मिली है। वहीं अन्य बैंकों से जुड़े लाभार्थियों को पेंशन मिल रही है। पेंशन ही परिवार का सहारा

वृद्ध विमला, कमलेश और कृष्णा, विधवा रामरती ने बताया कि पेंशन ही उनके परिवार का सहारा है। परिवार में किसी के पास सरकारी नौकरी नहीं है। सभी सदस्य दिहाड़ी मजदूरी करने वाले हैं। कोरोना काल में काम की कमी हो गई है। बीमार होने से उनकी दवाई भी इसी पैसे से आती है। पेंशन बंद होने से परिवार के सामने गुजारे का संकट उत्पन्न हो गया है। किरायना दुकानदारों ने उधार देने भी बंद कर दिया है। त्योहार भी फीका गया है। जिला समाज कल्याण अधिकारी रविद्र हुड्डा ने बताया कि निदेशालय से सभी के पीएफएमएस वेरिफिकेशन होकर आना है। उसके आते ही सभी के खाते में पेंशन की रकम डाल दी जाएगी। एसडीएम विजेंद्र हुड्डा ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है। उच्चाधिकारी से मिलकर इनका समाधान किया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.