प्रदेश में 29 हजार ड्राप आउट बच्चे, विशेष प्रशिक्षण पर खर्च होंगे 12.62 करोड़

प्रदेश के राजकीय स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 25 लाख के पार जा पहुंची है। वहीं महामारी के बीच ड्राप आउट (स्कूल न जाने वाले) बच्चों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। यह 29 हजार के करीब है। ये हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद की ओर से कराए गए सर्वे में सामने आए हैं।

JagranMon, 06 Sep 2021 08:00 PM (IST)
प्रदेश में 29 हजार ड्राप आउट बच्चे, विशेष प्रशिक्षण पर खर्च होंगे 12.62 करोड़

रामकुमार कौशिक, पानीपत

प्रदेश के राजकीय स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 25 लाख के पार जा पहुंची है। वहीं महामारी के बीच ड्राप आउट (स्कूल न जाने वाले) बच्चों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। यह 29 हजार के करीब है। ये हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद की ओर से कराए गए सर्वे में सामने आए हैं। विभाग अब उक्त बच्चों को विशेष प्रशिक्षण (गैर आवासीय) देगा। इसको लेकर प्रदेश भर में 1164 प्रशिक्षण सेंटर खोले जाएंगे। विभाग की ओर से साढ़े बारह करोड़ रुपये का बजट जारी किया गया है। ड्राप आउट बच्चों की बात करें तो सबसे ज्यादा 8671 मेवात में बच्चे मिले हैं। महेंद्रगढ़ प्रदेश का इकलौता ऐसा जिला है, जहां कोई बच्चा ड्राप आउट नहीं है। दोबारा से शुरू कराया गया है सर्वे --

एपीसी राजेंद्र मलिक ने बताया कि ड्राप आउट बच्चों के विशेष प्रशिक्षण को लेकर बजट जारी हुआ है। जिले में 1652 बच्चे ड्राप आउट मिले थे। उनमें से कुछ बच्चे अब पते के मुताबिक मिल नहीं रहे हैं। ऐसे में संबंधित एनजीओ से दोबारा से सर्वे कराया जा रहा है। जो सप्ताह भर में पूरा हो जाएगा। इसके बाद सेंटर खोल उक्त बच्चों को विशेष प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। किस जिले में खुलेंगे कितने सेंटर --

वर्ष 2021-22 के लिए ड्राप आउट बच्चों के विशेष प्रशिक्षण को लेकर प्रदेश भर के हर जिले में सेंटर खोले जाएंगे। बच्चों को मार्च 2022 तक ब्रिज कोर्स कराने के बाद अगले सत्र में उन्हें स्कूल में दाखिला दिलाया जाएगा। इसमें अंबाला में 1267 बच्चों पर 50, भिवानी में 199 पर 8, चरखी दादरी में 47 पर 2, फरीदाबाद में 1038 पर 42, फतेहाबाद में 650 पर 26, गुरुग्राम में 3406 पर 136, हिसार में 461 पर 19, झज्जर में 311 पर 13, जींद में 379 पर 15, कैथल में 342 पर 15, करनाल में 1026 पर 41, कुरुक्षेत्र में 841 पर 34, मेवात में 8671 पर 345, पलवल में 2892 पर 116, पंचकूला में 1728 पर 69, पानीपत में 1652 पर 66, रेवाड़ी में 311 पर 13, रोहतक में 154 पर 6, सिरसा में 1649 पर 66, सोनीपत में 1273 पर 51 व यमुनानगर में 800 पर 32 सेंटर खोल विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रत्येक सेंटर पर 25 बच्चों को विशेष प्रशिक्षण मिलेगा।

किस जिले को मिला कितना बजट --

जिला ------- मिला बजट

अंबाला -------- 5422500

भिवानी -------- 867600

चरखी दादरी ------ 216900

फरीदाबाद ------- 4554900

फतेहाबाद ------- 2819700

गुरुग्राम ------- 14749200

हिसार ------- 2060550

झज्जर --------- 1409850

जींद -------- 1626750

कैथल ------- 1518300

करनाल ------- 4446450

कुरुक्षेत्र --------- 3687300

मेवात -------- 37415250

पलवल -------- 12580200

पंचकूला --------- 7483050

पानीपत --------- 7157700

रेवाड़ी -------- 1409850

रोहतक --------- 650700

सिरसा --------- 7157700

सोनीपत ---------- 5530950

यमुनानगर --------- 3470400 --रामकुमार, 6 सितंबर -2021--

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.