कैथल में पुरानी हवेली की खोदाई से मिले 103 साल पुराने चांदी के सिक्के, ग्रामीणों में बटोरने की आपाधापी

खोदाई करती जेसीबी व बरामद सिक्का ।

कैथल के गांव हरसौला में पुरानी हवेली की खुदाई के दौरान चांदी के पुराने सिक्के मिले हैं। सिक्के एक मटकी में थी। जेसीबी मशीन से टकराने के कारण मटकी टूट गई और सिक्के निकलने लगे। सिक्के एकत्र करने के लिए ग्रामीणों में होड़ लग गई।

Publish Date:Fri, 22 Jan 2021 01:31 PM (IST) Author: Kamlesh Bhatt

जेएनएन, कैथल। यहां के नजदीकी गांव हरसौला में पुरानी हवेली की खोदाई का काम चल रहा था। इसी दौरान चांदी के 103 साल पुराने सिक्के निकलने शुरू हो गए। सिक्के मिलने की सूचना पर गांव के लोग इकट्ठा हो गए और जेसीबी के जबड़े से जो जितने सिक्के बटोर पाता, लेकर चला गया। इसकी सूचना पुलिस को भी मिली, जब तक वह मौके पर पहुंची, तब तक लोग सिक्के लेकर जा चुके थे।

बाद में ग्रामीणों को इकट्ठा कर थाना तितरम पुलिस ने 67 सिक्के लोगों से बरामद कर लिए। हवेली की खोदाई में कितने सिक्के निकले, यह पुख्ता संख्या अभी पता नहीं चल पाई है। इन सिक्कों पर वर्ष 1918 की मुहर लगी है। इनमें एक सिक्का वर्ष 1877 का भी मिला है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गांव में नाथू राम सेठ की एक पुरानी हवेली थी। इसे कुछ समय पहले गांव के ही सतपाल ने खरीद लिया था। इस हवेली को गिराकर सतपाल नया मकान बना रहा था। इसके लिए खोदाई की जा रही थी तो जेसीबी चालक मनजीत को अचानक जेसीबी के सामने चांदी के सिक्के दिखाई पड़े। देखते ही देखते हवेली की जमीन से चांदी के कई पुराने सिक्के निकलने लगे। यह सिक्के पुरानी हवेली खोदाई में एक मटकी में थे।

जेसीबी का जबड़ा लगने से मटकी फूट गई। इसके बाद पहले खोदाई कर रहे मजदूरों ने अपनी जेबाें में सिक्के भरनेे शुरू कर दिए। जैसे ही ग्रामीणों को सिक्कों की सूचना मिली तो देखते ही देखते बड़ी संख्या में लोग वहां पहुंच गए। महिलाओं और बच्चों ने नाखूनों से दीवारों की मिट्टी खुरचनी शुरू कर दी। जिसके हाथ जो भी लगा वो लेकर चलता बना। इस पर डीसी ने नायब तहसीलदार ईश्वर सिंह को मौके पर भेजा।

उन्होंने गांव में पुलिस के माध्यम से मुनादी कराई कि जिस किसी के पास भी सिक्के हैं, वह प्रशासन या पुलिस के पास जमा करवा दे। थाना प्रभारी सुरेश कुमार ने बताया कि हवेली के मालिक सतपाल सोनी को बुलाकर बयान दर्ज किए जा रहे हैं। उसका कहना है कि सिक्कों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। यह सिक्के पुरातत्व विभाग को सौंपे जाएंगे। अभी तक 67 की रिकवरी हो चुकी है।

11वीं ट्राली में निकले सिक्के

नायब तहसीलदार ईश्वर सिंह ने बताया कि खोदाई के दौरान मिट्टी की दस ट्राली निकाली जा चुकी थी। ग्यारहवीं ट्राली भरते हुए जेसीबी के चालक मनजीत को चांदी के सिक्के दिखाई दिए। उसने इसकी सूचना थाना तितरम पुलिस को दी। मौके पर जाकर मुआयना किया गया। 60 सिक्के तो मकान मालिक सतपाल सोनी से मिले हैं और सात सिक्के जेसीबी के चालक मनजीत से रिकवर हुए। इन्हें पुरातत्व विभाग को सौंपा जाएगा। कोर्ट ही तय करेगी कि मालिक को इनका कितना हिस्सा मिलना है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.