गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित हरियाणा में युवाओं को रोजगार देने के लिए रोडमैप तैयार, 2024 तक नहीं रहेगा कोई बेरोजगार

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल बेरोजगारी मुक्त हरियाणा-रोजगार युक्त हरियाणा का नारा दिया है। इसके तहत 18 से 35 साल के युवाओं के लिए दो हजार हित स्टोर खोलने की शुरुआत हुई है। इन स्टोरों से राज्य में बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध होगा।

Kamlesh BhattTue, 03 Aug 2021 11:02 AM (IST)
हरियाणा में युवाओं को रोजगार देने के लिए रोडमैप तैयार। सांकेतिक फोटो

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने अगले तीन साल के भीतर यानी 2024 तक प्रदेश को बेरोजगारी से मुक्त करने का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश में रोजगार के अधिक से अधिक अवसर पैदा करने का संकल्प जताते हुए बेरोजगारी मुक्त हरियाणा-रोजगार युक्त हरियाणा का बड़ा नारा दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में मात्र छह फीसद बेरोजगारी है। इसमें भी वह लोग शामिल हैं, जिनकी उम्र ज्यादा है और जो वास्तव में बेरोजगारी के दायरे में नहीं आते। प्रदेश सरकार रोजगार के ऐसे अवसर पैदा कर रही, ताकि 18 से 35 साल का कोई युवक बेरोजगार न रहे।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को हर हित स्टोर खोलने के लिए आवेदन करने के लिए वेबपोर्टल की लांचिंग की। हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज कारपोरेशन की ओर से राज्य भर में करीब दो हजार हर हित स्टोर खोले जाएंगे। गुरुग्राम के बादशाहपुर से निर्दलीय विधायक राकेश दौलताबाद कारपोरेशन के चेयरमैन हैं। मुख्यमंत्री ने कृषि, सहकारिता और हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज कारपोरेशन को दो अक्टूबर तक सौ हर हित स्टोर खोलने का टारगेट दिया है। मुख्यमंत्री इस दिन स्वयं इन स्टोर की शुरुआत करेंगे। एक साल के भीतर दो हजार स्टोर खोलने का लक्ष्य है। प्रदेश सरकार की योजना दूसरे चरण में करीब पांच हजार हर हित स्टोर खोलने की है।

हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज कारपोरेशन के चेयरमैन राकेश दौलताबाद ने मुख्यमंत्री को बताया कि इन हर हित स्टोर पर 50 कंपनियों के 180 प्रोडेक्ट उपलब्ध रहेंगे, जिनकी संख्या लगातार बढ़ाई जाती रहेगी। तीन हजार की आबादी वाले हर गांव में हर हित स्टोर खोलने की योजना है। इसके लिए मात्र 220 वर्ग गज जगह की जरूरत है। स्टोर खोलने के लिए सरकार मुद्रा योजना के तहत ऋण भी उपलब्ध कराने को तैयार है। युवाओं के कल्याण और बेरोजगारी पर चोट करने वाली इस बड़ी योजना के संचालन का श्रेय दौलताबाद ने मुख्यमंत्री को दिया।

चेयरमैन राकेश दौलताबाद ने कृषि को लाभकारी व्यवसाय बनाने के लिए गुरुग्राम में चार पाठ्य़क्रम शुरू कराने के बाद हर हित स्टोर को मुख्यमंत्री की बड़ी देन बताया है। उन्होंने विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता, कृषि मंत्री जेपी दलाल, सहकारिता मंत्री डा. बनवारी लाल, हैफेड के चेयरमैन कैलाश भगत और कृषि सचिव डा. सुमिता मिश्रा को स्मृति चिन्ह प्रदान किए। इससे पहले मुख्यमंत्री ने हर हित के एक ब्रांड स्टोर का अवलोकन किया।

हर साल दो लाख नए युवाओं को चाहिए रोजगार

मुख्यमंत्री ने कहा कि हर कोई चाहता है कि उसे सरकारी नौकरी मिले, लेकिन सरकारी नौकरी देने की एक सीमा होती है। हर साल दो लाख नए युवा 18 साल की आयु पूरी कर रोजगार की चाह करने लगते हैं, जबकि सरकारी नौकरी 15 से 25 हजार ही मिल पाती हैं। रोजगार की इस जरूरत को पूरा करने के लिए हम न केवल नए अतिरिक्त अवसर पैदा कर रहे हैं, बल्कि हमारी योजना युवाओं को रोजगार देने वाला बनाने की है। हर हित स्टोर के जरिये कोई भी युवा पांच से छह नए सदस्यों को रोजगार प्रदान कर सकता है।

हर हित स्टोर चलाने वाले युवा को न्यूनतम आय की गारंटी

मनोहर लाल ने कहा कि हर हित स्टोर खोलने वाले हर युवा की न्यूनतम आमदनी 15 हजार रुपये तय की गई है। इससे अधिक वह अपनी मेहनत के बूते कितना भी कमा सकता है। उन्होंने उदाहरण दिया कि यदि किसी हर हित स्टोर पर युवा डेढ़ लाख रुपये का महीने में सामान बेचता है तो उसे 10 फीसद लाभ यानी हर हाल में 15 हजार रुपये की आय होगी। किसी कारणवश यदि यह आय कम रह जाती है तो तीन हजार रुपये मासिक की मदद हरियाणा सरकार करेगी।

उन्होंने बताया कि परिवार पहचान पत्र योजना के तहत सरकार एक लाख रुपये वार्षिक से कम आय वाले लोगों की पहचान करने में लगी है। अभी तक 25 हजार ऐसे परिवारों की सूची तैयार हो गई, जिनकी आय बढ़ाने के हरसंभव प्रयास होंगे। ऐसे परिवारों में यदि कोई युवा प्रतिभाशाली है और वह अपना रोजगार करना चाहता है तो उसे भी हर हित स्टोर में काम दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.