top menutop menutop menu

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Haryana: श्री राम मंदिर शिलान्‍यास से हरियाणा में उत्‍साह, लोगो ने मनाया जश्‍न

Ayodhya Ram Mandir Bhumi Haryana: श्री राम मंदिर शिलान्‍यास से हरियाणा में उत्‍साह, लोगो ने मनाया जश्‍न
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 10:38 AM (IST) Author: Sunil Kumar Jha

चंडीगढ़, जेएनएन। Ayodhya Ram Mandir Bhumi Haryana: अयोध्‍या में श्री राम मंदिर के शिलान्‍यास से हरियाणा भी उत्‍साह से सराबोर है। राज्‍य में विभिन्‍न कार्यक्रम का आयोजन किया। राज्‍यभर में लोग जश्‍न मना रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अयोध्‍या में श्री राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करने के बाद लोगों ने लड्डू बांटे और नाच-गाकर अपनी खुशी जताई। मंदिरों को बेहद सुंदर तरीके से सजाया गया‍। पूरा माहौल रामधुन से गूंज रहा था।

इससे पहले शिलान्‍यास की पूर्व संध्‍या पर राज्‍य में धार्मिक स्‍थलों पर दीपावली सा माहौल था तो आज पूरा वातावरण भक्ति से सराबोर है। बुधवार काे पूरा हरियाणा राममय नजर आया। लोग अयोध्‍या में श्री राम मंदिर के शिलान्‍यास के बाद रामधुन पर नाच-गा रहे थे। कई जगह लोगों ने शारीरिक दूरी का ध्‍यान रखते हुए जुलूस निकाला)। हिसार सहित कई स्‍थानों पर रामभक्‍त ढोल की थापर पर भगवा ध्‍वज के साथ नाच-गाते नजर आए।

अयोध्‍या में श्री राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम संपन्‍न होने के बाद राज्‍य में विभिन्‍न जगहों पर लोगों ने लड्डू व अन्‍य मिठाइयां बांटीं। लोगों का कहना है कि भूमि पूजन के बाद अब श्री राम मंदिर जल्‍द मूर्त रूप लेगा और विश्‍वभर केे हिंदुओं का सपना पूरा होगा।

इस मौके पर गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए बनी सर्वसम्मति को समूचे राष्ट्र की सद्भावना और समरसता के रूप में देख रहे हैं। स्वामी ज्ञानानंद का कहना है कि रामकाज के प्रति आस्था में सभी धर्मों और वर्गों की भागीदारी से आने वाले समय में राष्ट्र की समता, सद्भावना और समरसता की नींव और मजबूत होगी।

हरियाणा में सुबह से ही मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। श्रद्धालु सुबह से ही मंदिरोंं में पूजा कर रहे थे। भगवान राम, माता सीता, लक्ष्‍मण व भगवान हनुमान जी की आराधना कर रहे हैं। मंदिरों में भजन व कीर्तन भी हाे रहे हैं।

राम मंदिर के शिलान्‍यास से पूर्व सजाया गया एक मंदिर।

गीता मनीषी ने रामशिला पूजन से मंदिर शिलान्यास समारोह तक जुड़े रहने को गौरवमयी क्षण बताया

लेह से सिंधु नदी, आदि बद्री स्थित सरस्वती उद्गम स्थल, कुरुक्षेत्र के ब्रह्मसरोवर, यमुना जल सहित दिल्ली शीशगंज गुरुद्वारा और ब्रजरज लेकर बुधवार सुबह वृंदावन से श्रीराम मंदिर शिलान्यास समारोह के साक्षी बनने के लिए अयोध्या पहुंचे। गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने जागरण से विशेष बातचीत में कहा कि अब देश जाति, धर्म के बंधनों से आगे बढ़कर रामराज्य की परिकल्पना करेगा। हरियाणा रेडक्रास सोसायटी की उपाध्यक्ष सुषमा गुप्ता ने अयोध्या जाते समय स्वामी ज्ञानानंद महाराज का आरती उतारकर अभिनंदन भी किया।

सिरसा में भगवान राम की पूजा-अर्चना करतीं महिलाएं ।

तीर्थ स्थलों पर नहीं होनी चाहिए राजनीति

स्वामी ज्ञानानंद महाराज कहते हैं कि उनकी नजर में तो राम जन्म भूमि मंदिर विवाद उस दिन सुलझ गया था जिस यह विवाद राजनीतिज्ञों से निकलकर न्याय मंदिर में चला गया था। तीर्थ स्थलों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। अयोध्या के बाद अब मथुरा-काशी में भी हिंदुओं की भावनाओं के अनुरूप पूजा स्थल विकसित होने चाहिए।

-----

शुरू से ही जुड़े रहे रामभक्तों का भी प्रतिनिधित्व करेंगे

 '' मेरे लिए अयोध्या में श्रीराम जन्म भूमि पर मंदिर निर्माण का यह क्षण गौरवमयी इसलिए भी है क्योंकि मैं रामशिला पूजन से लेकर अब तक राममंदिर आंदोलन से किसी न किसी रूप में जुड़ा रहा। इसलिए मैं जब अयोध्या में मंदिर शिलान्यास महोत्सव का साक्षी बनने जा रहा हूं तो वहां न सिर्फ हरियाणा सरकार बल्कि उन करोड़ों रामभक्तों का प्रतिनिधित्व करूंगा जो कोरोना संकट की वजह से अयोध्या नहीं जा पा रहे हैं।

                                                                                            - स्वामी ज्ञानानंद महाराज, गीता मनीषी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.